Home / Automobiles / जावा बनाम रॉयल एनफील्ड: बेहतर कौन?

जावा बनाम रॉयल एनफील्ड: बेहतर कौन?

November 21, 2018
by


Please login to rate

22 साल बाद जावा का पुनरुत्थान, रॉयल एनफील्ड के लिए खतरा?

50 के दशक की पुरानी यादों को वापस लाकर, काल्पनिक जावा बाइकें बाजार और सड़कों पर फिर से राज करने के लिए तैयार हैं।

15 नवंबर 2018 को लगभग 25 वर्षों तक उत्पाद से बाहर रहने वाली, जावा अब फिर से उत्पाद की दुनिया में वापस आ गई है। अभी-अभी भारतीय बाजार के लिए तीन बाइकें- क्लासिक जावा, जावा 42 और जावा पेरक लॉन्च की गई हैं। जावा बाइकें 2019 में बिक्री के लिए उपलब्ध हो जाएगीं। क्या लंबे समय से प्रसिद्ध रही ये पुरानी बाइकें इस नए युग के उपयोगकर्ताओं के दिलों पर राज करेंगी? चलो इस बारे में जानकारी लें।

जावा का इतिहास

एक भारतीय ब्रांड न होने के बावजूद भी जावा सच में देश में काफी लोकप्रिय ब्रांड रही है। इसकी स्थापना 1929 में प्राग, चेकोस्लोवाकिया में की गई थी। कुछ दशकों में ही यह देश के सबसे अच्छे बाइक निर्माताओं में से एक बन गई थी क्योंकि इसका निर्यात 120 देशों में किया जा रहा था।

लगभग 30 साल बाद, इस कंपनी ने अपना सबसे पहला कदम भारतीय बाजार में रखा है। पहले इसने बहुत ही कम समय में अपने आप को गर्व से पहचाने जाने योग्य बना लिया था। सबसे पहले इस बाइक को मैसूर में आइडियल जावा इंडियन लिमिटेड ने बनया था।

22 साल बाद जावा की वापसी

लंबे समय से उदास प्रशंसकों को इस बाइक के आने की खुशखबरी सबसे पहले 2016 में मिली थी। जावा के उत्पादन और बिक्री के लिए लाइसेंस, ऑटोमोबाइल उद्योग में भारत के बड़े नामों में से एक, ‘महिंद्रा एंड महिंद्रा’ को प्राप्त हुआ है। भारत और अन्य पूर्वी एशियाई देशों में भी अब जावा बाइकों की बिक्री ‘महिंद्रा एण्ड महिंद्रा’ के द्वारा की जाएगी।

शासकीय ढंग से बाजार में वापस होने वाली बाइकों की पूर्व बुकिंग पहले ही शुरू हो चुकी है। जबकि जावा और जावा 42 की बिक्री की भी शुरुआत हो चुकी है तथा इसके बाद ही पेरक भी बिक्री लिए आने वाली है। कंपनी देश भर में 105 जावा आउटलेट (विक्री केन्द्र) खोलने की तैयारी में है, 64 पहले से ही खोले जा चुके हैं।

जावा बनाम रॉयल एनफील्ड

जब से जावा के नए बर्जन,  के आने की खबरें लोगों में फैली हैं तो लोगों का ध्यान स्वतः ही इसकी प्रतिद्वंद्वी-रॉयल एनफील्ड की और गया है।

“निरंतर उत्पादन करने वाली सबसे पुरानी विश्वव्यापी बाइक ब्रांड”, रॉयल एनफील्ड, 1901 से बाइकों का निर्माण कर रही है। यह भारतीय ब्रांड, वर्तमान में दुनिया भर के 50 से अधिक देशों में अपने उत्पादों को बिक्री करती है। 2015 में, रॉयल एनफील्ड ने वैश्विक बिक्री 2015 में हार्ले-डेविडसन की भी बिक्री को पछाड़ दिया है।

तो, क्या जावा का फिर से बाजार में आना रॉयल एनफील्ड के लिए खतरा बन जाएगा, जो अब तक कुछ समय से बाजार में एक सबसे अच्छी ब्रांड के रुप में छाई रही है? बहुत से लोग मानते हैं कि एक असली मौका है। जावा और जावा 42 का प्राइस सेगमेंट रॉयल एनफील्ड क्लासिक 350 के साथ मेल खाता है। तो आइए देखते हैं कि तीनों का प्राइस सेगमेंट कैसे एक-दूसरे के विरुद्ध है।

तकनीकी निर्देश

विशेष विवरण जावा जावा 42 रॉयल एनफील्ड क्लासिक 350
इंजन 293 सीसी 293 सीसी 346 सीसी
पॉवर 27.37 पीएस 27.37 पीएस 20.07 पीएस @5250आरपीएम
अधिकतम टॉर्क 28 एनएम 28 एनएम 28 एनएम @4000 आरपीएम
ट्रांसमिशन 6 स्पीड 6 स्पीड 5 स्पीड
तेल भरण की क्षमता 14 लीटर 14 लीटर 13.5 लीटर

 

ध्यान देने योग्य बातें:

क. रेट्रो क्रूजर सेगमेंट में, रॉयल एनफील्ड बाजार पर निष्पक्ष रूप से काफी आसान पकड़ बनाता है। जावा, एक अच्छी प्रतिष्ठा वाला नाम, अब बाजार में प्रवेश करने से पहले स्वाभाविक रूप से पूर्व के लिए चुनौती होगी।

 

ख. लॉन्च की गईं दो बाइकें: जावा और जावा 42, जिनकी कीमत क्रमशः 1.64 लाख रुपये और 1.55 लाख रुपये है।

ग.रॉयल एनफील्ड क्लासिक 350, की कीमत कीमत 1.47 लाख रुपये है जो जावा के दोनों ही मॉडल की तुलना में कम है।

घ. जावा और जावा 42 में डीओएचसी लिक्विड-कूल इंजन की वजह से, 6-स्पीड ट्रांसमिशन के साथ संयुक्त, जावा और जावा 42 क्लासिक 350 की तुलना एक स्मूद राइड होने की उम्मीद है।

ड़.क्लासिक 350, में 80 किमी प्रति घंटे की गति से चलने पर कंपन जैसी प्रक्रियाओं के होने की आशंका रहती है।

निष्कर्ष

बाइकों की सभी ब्रांड को देखकर, ऐसा महसूस होता है कि जावा की दोनों बाइकों से बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा सकती है। हालांकि, असली शोडाउन केवल तभी शुरू होगा जब नई बाइकें सड़कों पर उतरेंगी और उनके वास्तविक समय के प्रदर्शन को देखकर ही इसे मापा जा सकेगा।

नई बाइकों में कुछ विशेषताएं ऐसी हैं जो क्लासिक 350 पर हावी होने योग्य हैं, जैसे अधिक सुलभ सीटें। इसके अलावा, जावा और जावा 42 दोनों का ही तेल भरने वाला टैंक रॉयल एनफील्ड मॉडल की तुलना में बड़ा है, इसके बावजूद भी ये इससे काफी हल्की हैं। जावा और जावा 42 दोनों का ही वजन 170 किलो है, जबकि क्लासिक 350 का वजन 192 किलो है, जो 22 किलो के अंतर को दर्शा रहा है!

यद्यपि जावा मोटरसाइकिलों के पास बहुत ऑफर भी हैं और यह रॉयल एनफील्ड और उसके आकर्षण से कहीं कम नहीं है। इसकी अच्छी क्वालिटी कारण यह कंपनी एक शताब्दी से अधिक समय से बाजार में है। इसकी क्वालिटी और डिजाइन ने दशकों से अपने लिए एक जगह बना रखी है। इसलिए, वास्तव में यह कहा जा सकता है कि जावा की बिक्री बाजार में एनफील्ड को पछाड़ देगी। यह केवल तभी पीछे हो सकती है जब कोई रेट्रो गैन्ट इससे भी हिट के रुप में आए।

तब तक, बाइक उत्साही इस फिर से आने वाली “रेट्रो चैंपियन” के लिए जश्न मना सकते हैं। हमें नीचे दिए गए टिप्पणी बाक्स में बताएं कि आप के विचार क्या हैं!

Summary
Article Name
जावा बनाम रॉयल एनफील्ड: बेहतर कौन ?
Author
Description
लगभग 22 वर्षों तक उत्पादन से बाहर रहने वाली, जावा अब फिर से उत्पादन की दुनिया में वापस आयी है। क्या यह रेट्रो गैन्ट उपयोगकर्ताओं को एक बार फिर से आकर्षित करने में सक्षम हो जाएगी? चलो पता करते हैं।