Home/प्रधानमंत्री योजना Archives - My India
सौभाग्य योजना के अंतर्गत 100 करोड़ के नगद पुरस्कार को लेकर जारी है संघर्ष

पिछले साल सितंबर में मोदी सरकार ने बिजली से वंचित ग्रामीण और शहरी भारतीय परिवारों को दिसंबर 2018 तक बिजली पहुँचाने के उद्देश्य से सौभाग्य योजना की शुरूआत की थी। आज की तारीख में यह योजना 93 प्रतिशत भारतीय परिवारों तक अपनी पहुँच बनाकर अच्छी तरह से बिजली आपूर्ति कर रही है। जैसा कि सौभाग्य योजना की समाप्ति तिथि नजदीक है इसलिए सरकार ने देश के शेष बचे राज्यों में विद्युतीकरण प्रक्रिया को तेजी से [...]

‘स्वच्छता ही सेवा‘ – एक नई सरकारी पहल का शुभारंभ

इस वर्ष, महात्मा गांधी की 150 वीं जयन्ती को मनाने के लिए 12 सितम्बर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने “स्वच्छता ही सेवा” नामक एक अभियान के शुभारंभ की घोषणा की है। यह स्वच्छ भारत अभियान का ही एक हिस्सा है। यह अभियान दो सप्ताह (15 सितंबर-2 अक्टूबर) तक गांधी जयंती के साथ-साथ स्वच्छ भारत की चौथी वर्षगांठ तक चलता रहेगा। क्या है ‘स्वच्छता ही सेवा‘ अभियान? जब इस अभियान की शुरूआत हुई थी, तो प्रधानमंत्री [...]

भारत सरकार की फ्लैगशिप योजनाएं क्या हैं?

भारत सरकार की फ्लैगशिप योजनाएं वे योजनाएं हैं जो स्वास्थ्य, शिक्षा, पर्यावरण, सिंचाई, रोजगार, शहरी और ग्रामीण विकास और अन्य क्षेत्रों में या फिर सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों के राष्ट्रीय मुद्दों को संबोधित करती हैं। हालांकि ये योजनाएं अत्यंत महत्वपूर्ण हैं, इसलिए इन योजनाओं में व्यय किया गया धन अन्य योजनाओं की अपेक्षा थोड़ा अधिक है। इन महत्वपूर्ण योजनाओं से जुड़े “फ्लैगशिप” शब्द को मूल शब्द ‘फ्लैगशिप’ से लिया गया है जिसका अर्थ है संगठन को [...]

क्या है स्टैंड-अप इंडिया स्कीम?

5 अप्रैल 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रोजगार के अवसरों और आर्थिक सशक्तिकरण के निर्माण के लिए जमीनी स्तर के उद्यमिता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से “स्टैंड-अप इंडिया स्कीम” लॉन्च की गई थी। यह योजना वित्तीय सेवा विभाग (डीएफएस) द्वारा समाने लाई गई है। इसे योजना को, समय-समय पर नए व्यवसाय स्थापित करने, ऋण लेने और अन्य सहायता सेवाओं के दौरान अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और महिला उद्यमियों द्वारा सामना की जाने वाली [...]

आयुष्मान भारत - राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन (एबी-एनएचपीएम)

भारत ने पिछले तीस सालों में महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य उपलब्धियाँ हासिल की हैं और स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में हो रही प्रगति का साक्षी बना है। भारत के स्वास्थ्य उद्योगों को सबसे तेजी से बढ़ने वाले उद्योगों में गिना जाता है, जिसे वर्ष 2020 तक इसके 280 अरब डॉलर तक पहुँचने की संभावना है। यहाँ तक कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में इतना सब कुछ हासिल होने के बाद भी, इस क्षेत्र में अभी भी ऐसी [...]

सुकन्या समृद्धि खाता योजना

भारत में हर लड़की के लिए पैसे बचाना है। इस विचार पर दोबारा भरोसा जगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  22 जनवरी, 2015 को ‘सुकन्या समृद्धि अकाउंट योजना’ शुरू की। यह लघु बचत योजना बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान का हिस्सा है। इसे घरेलू बचत का प्रतिशत बढ़ाने के लिए सरकार की एक पहल भी माना जा रहा है, जो 2008 में जीडीपी का 38 प्रतिशत थी, जबकि 2013 में घटकर 30 प्रतिशत रह गई। यह योजना [...]

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ

जन-धन योजना, मेक इन इंडिया और स्वच्छ भारत अभियान के सफल क्रियान्वयन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी 2015 को हरियाणा के पानीपत में बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना शुरू की है। 100 करोड़ रुपए के शुरुआती कॉर्पस के साथ यह योजना देशभर के 100 जिलों में शुरू की गई। हरियाणा में जहां बाल लिंगानुपात (सीएसआर) बेहद कम है, 12 जिले चुने गए है : रेवाड़ी, महेंद्रगढ़, भिवानी, झज्जर, अंबाला, कुरुक्षेत्र, सोनीपत, रोहतक, करनाल, कैथल, पानीपत और यमुना [...]

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई महत्वाकांक्षी सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रम शुरू किए हैं। प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाई) भी उनमें से एक है। यह मूल रूप से एक सावधि जीवन बीमा पॉलिसी है। इसका सालाना आधार पर या लंबी अवधि के लिए नवीनीकरण किया जा सकता है। पॉलिसीधारक की मौत होने पर यह उसे जीवन बीमा कवरेज मुहैया कराएगी। पात्र कौन है? प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना 18 से 50 वर्ष आयु समूह के व्यक्तियों [...]

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने वादे के मुताबिक 8 अप्रैल 2015 को 20 हजार करोड़ रुपए के कॉर्पस फंड और 3,000 करोड़ रुपए के क्रेडिट गारंटी कॉर्पस के साथ माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी लिमिटेड (मुद्रा) बैंक का उद्घाटन किया। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने 2015-16 के बजट भाषण में इसकी घोषणा की थी, जिसे धरातल पर उतारा गया है। मुद्रा बैंक किस तरह अर्थव्यवस्था में अंतर पैदा कर सकता है? ज्यादातर लोग, खासकर भारत के [...]

अत्यधिक गरीबी के कारण, परिणाम और सरकार की पहल

भारतीय अर्थव्यवस्था आज दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। अत्यधिक गरीबी के कारण, भारत आर्थिक रूप से शक्तिशाली देश नहीं बन पा रहा है। हालांकि सरकार, समाज से इस अशिष्ट वास्तविकता को खत्म करने की दिशा में सक्रिय रूप से काम कर रही है। कई वर्षों के समेकित प्रयासों के बाद, आखिरकार भारत ने दुनिया में अत्यधिक गरीबी में रहने वाले लोगों के खिताब को पीछे छोड़ दिया है और [...]