Home/बैंक Archives - My India
भारत में 2018 के शीर्ष 10 सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक

भारतीय अर्थव्यवस्था में बैंकिंग उद्योग का क्षेत्र सबसे शक्तिशाली और अग्रणी है। स्वतंत्रता के समय और स्वतंत्रता के बाद कई सुधारों और प्रगति के साथ बैंकिंग के क्षेत्र में अत्यधिक समृद्धि देखी गई। वर्तमान में, देश में लगभग 26 सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकें हैं जिसमें 25 निजी क्षेत्र के बैंक, 43 अंतर्राष्ट्रीय बैंक, और कई अनुसूचित और सहकारी बैंक भारतीय अर्थव्यवस्था के तहत काम कर रही हैं। लेकिन सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा मार्केट में [...]

फोर्ब्स की ‘ग्लोबल 2000’ सूची 2018

Forbes ‘Global 2000’ list 2018: Top 58 Largest Indian Public Companies इस साल जून में बिजनेस पत्रिका फोर्ब्स ने दुनिया भर की सार्वजनिक क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनियों का उल्लेख करते हुए ‘ग्लोबल 2000’ सूची जारी की है। इस सूची में सार्वजनिक क्षेत्र की 2000 सबसे बड़ी कंपनियों को शामिल किया गया जिनमें से 58 कंपनियाँ भारतीय हैं। यह भारत के लिए बहुत ही गौरव का समय है क्योंकि यह दुनिया भर में अपनी बेहतरीन [...]

भारतीय अर्थव्यवस्था

  कई विकासशील देशों के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था एक वैश्विक रोल मॉडल बन गई है। भारत में दुनिया की बहुत बड़ी आबादी रहती है और क्षेत्र के मामले में सातवां सबसे बड़ा देश है, इस प्रकार, यह भारत के आर्थिक विकास की उल्लेखनीय यात्रा की कहानी बनाता है। भारतीय अर्थव्यवस्था आर्थिक संकट के खंडहर में घूम रही थी, जिसने 200 वर्षों के औपनिवेशिक शासन में देश को घेर रखा था। हाल ही में सकल घरेलू [...]

भारतीय रुपयों और सिक्कों के बारे में रोचक तथ्य

भारतीय रुपयों और सिक्कों का इतिहास क्या आपको पता है कि भारत में सिक्कों को सबसे पहले किसने जारी किया था? भारत में सिक्कों को सबसे पहले 6वीं शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास शुरु किया गया था। सिक्कों के इतने जल्दी शुरु हुए चलन से मौद्रिक इकाईयों ने एक शानदार सफर तय किया और आजादी के पहले और बाद में विभिन्न शासकों के शासन में कई बदलाव देखे। अपने पूरे इतिहास में सिक्कों और मौद्रिक [...]

विद्या लक्ष्मी पोर्टल शिक्षा ऋण योजना

  15 अगस्त, 2015 को वित्त मंत्रालय ने “विद्या लक्ष्मी पोर्टल शिक्षा ऋण योजना” की शुरूआत की थी। यह पोर्टल एनएसडीएल ई-गवर्नेंस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड द्वारा वित्तीय सेवाओं का विभाग, उच्च शिक्षा विभाग, भारतीय बैंक संघ और मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सहयोग से विकसित और अनुरक्षित किया गया है। इस पोर्टल से सभी छात्रों को शैक्षिक ऋण और सरकारी छात्रवृत्ति से संबंधित धन और सूचना का उपयोग करने में काफी आसानी होगी। शिक्षा ऋण या [...]

भारत में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की परेशानियां

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक भारतीय बैंकिंग क्षेत्र के प्रमुख घटक हैं। भारत सरकार देश के सभी 21 पीएसयू (पब्लिक सेक्टर) बैंकों के अधिकांश हिस्से के स्वामी है। देश में पीएसयू बैंक बैंकिंग परिसंपत्तियों के लगभग 70% हिस्से के मालिक हैं। भले ही हाल के वर्षों में बैंकों को नुकसान का सामना करना पड़ा है, लेकिन फिर भी बैंकों ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। पिछले वित्त वर्ष में, बैंकों ने 62000 करोड़ रुपये से अधिक [...]

भारत, लोगों की विस्तृत आर्थिक श्रेणी के वर्णक्रम (स्पेक्ट्रम) वाला एक विशाल देश है। यहाँ एक तरफ, बहुत सारे ऐसे लोग हैं जिनके पास इतने अधिक पैसे हैं कि उन्हें बचत और निवेश प्रणालियों को अलग करने के लिए कई बैंक खातों की आवश्यकता होती है, दूसरी तरफ अभी भी ऐसे हजारों लोग हैं जिनके पास कोई बैंक खाता नहीं है। सबसे पहले, भारत के प्रत्येक नागरिक का कम से कम एक कार्यशील बचत बैंक [...]

भारतीय बैंक और घोटाले

देश अभी-अभी 11,000 करोड़ से अधिक के पीएनबी बैंक घोटाले के सदमे से उबर ही रहा था कि एक और घोटाला बड़े पैमाने पर सामने आया। जौहरी नीरव मोदी घोटाले के तुरंत बाद, रोटोमैक पेन के मालिक विक्रम कोठारी पर बैंकों के 800 करोड़ डकारने के आरोप की सूचना दी गई है। एक के बाद एक इन दोनों घटनाओं के कारण बैंक अब सवालों के घेरे में हैं। लेकिन,  इनमें से सबसे महत्वपूर्ण बात यह [...]

बंधन बैंक: बैंकिंग क्षेत्र में एक नया प्रवेशक

बैंकिंग क्षेत्र में एक नए प्रवेशक (बंधन बैंक) का आगमन हुआ है और इससे भारत की अर्थव्यवस्था को काफी प्रोत्साहन मिलेगा। 11 वर्षों के बाद, भारत को बंधन बैंक नामक एक नया निजी बैंक मिला है। यह एक पूर्ण वाणिज्यिक बैंक है और भारत में इस बैंक का शुभारंभ हाल ही में हुआ है। बंधन भारत की पहली माइक्रोफाइनेंस कंपनी है, जिसका रूपांतरण बैंक में कर दिया गया है। बंधन बैंक को वर्ष 2014 में [...]

ऐसा कहा जाता है कि ईमानदारी से पैसा कमाना कठिन होता है। चोरी और डकैती भले ही आसान हों, मगर अधिकतर मामलों में अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया जाता है और चोरी की वस्तुएं बरामद कर ली जाती हैं। बैंकों के मामले में, लूटने या छीनने को प्रोत्साहित करने के लिए बैंकों में अधिक मात्रा में धन उपलब्ध होता है, लेकिन सुरक्षा उपाय भी बहुत कड़े होते हैं। हालांकि बैंक डकैतियों और चोरियों के मामलों [...]