Home / Travel / कोलकाता के पास बेलूर मठ: राम कृष्ण मठ का मुख्यालय

कोलकाता के पास बेलूर मठ: राम कृष्ण मठ का मुख्यालय

May 18, 2017


belur-math-kolkata

बेलूर मठ, कोलकाता में श्री रामकृष्ण मंदिर

स्थान: कोलकाता के निकट बेलूर, हावड़ा,

राम कृष्ण मठ का मुख्यालय, बेलूर मठ (उर्फ बेल्लूर मठ) हुगली नदी के पास चालीस एकड़ क्षेत्र में स्थित है।

हिंदू, इस्लामी, बौद्ध और ईसाई वास्तुकला की शैलियों के संयोजन से निर्मित यह मठ धर्मनिरपेक्षता के प्रतीक के रूप में स्थित है। बेलूर मठ की यात्रा से दर्शकों की आत्मा को संतोष और शांति की प्राप्ति होती है।

बेलूर मठ परिसर:

मठ परिसर में क्या कुछ शामिल नहीं है, एक बेहतर शब्द की कमी है वरना इसे मंदिर कहा जा सकता है, मठ परिसर में संग्रहालय के साथ एक मंदिर और एक मठ शामिल है।

विवरण निम्न हैं:

  • श्री रामकृष्ण मंदिर – श्री रामकृष्ण के अवशेषों युक्त, यह बेलूर मठ का मुख्य मंदिर है।
  • स्वामी ब्रह्मानंद मंदिर – यह मंदिर स्वामी ब्रह्मानंद (श्री राम कृष्ण के सोलह शिष्यों में से एक) के अंतिम संस्कार के स्थान पर बनाया गया है।
  • स्वामी विवेकानंद मंदिर – स्वामी विवेकानंद के नश्वर अवशेष का अंतिम संस्कार किये जाने की जगह पर इस मंदिर का निर्माण किया गया है।
  • समाधि संलग्नक – यहाँ स्वामी विवेकानंद के साथ सोलह शिष्यों के अवशेष मौजूद हैं।
  • पवित्र माता मंदिर या श्री शारदा देवी का मंदिर
  • पुराना मंदिर – यहाँ नये मंदिर (राम कृष्ण मंदिर) को पवित्र किये जाने तक दैनिक प्रार्थना का आयोजन किया जाता था।
  • स्वामी विवेकानंद का कमरा – यह स्वामी विवेकानंद का निवास स्थान था इसी जगह उनकी महासमाधि बनी हुई है।
  • पुराना मठ
  • राम कृष्ण संग्रहालय – इस संग्रहालय में श्री रामकृष्ण, स्वामी विवेकानंद और पवित्र माता श्री शारदा देवी द्वारा उपयोग किये गये लेखों को प्रदर्शन के लिये सुरक्षित रखा गया है।

यह जगह अन्य पूजा स्थलों से भिन्न है क्योंकि यहाँ पर बैठकर कोई भी ध्यान आदि नहीं किया जा सकता है, यहाँ पर अपने प्रस्ताव के साथ फल, फूल, मिठाई या कोई चढ़ावा प्रस्तुत करने की रस्म नहीं है। मठ परिसर का शांतिपूर्ण वातावरण यहाँ की सबसे बड़ी विशेषता है।

बेलूर मठ में दर्शन का समय:

अप्रैल से सितंबर: सुबह 6 बजे से सुबह 11:30 बजे तक, शाम 4:00 बजे से 7:00 बजे शाम तक

अक्टूबर से मार्च तक: सुबह 6:30 बजे से सुबह 11:30 बजे तक, अपराह्न 3:30 बजे से शाम 6 बजे तक

हर शाम एक विशेष घंटी बजना शुरू होती है और तब दर्शकों को मुख्य श्री रामकृष्ण मंदिर के अंदर बैठना चाहिए, दर्शकों को झूमने की अनुमति नहीं है।

प्रसाद वितरण:

अप्रैल से सितंबर: 8:30 अपराह्न

अक्टूबर से मार्च: 8:00 अपराह्न

दर्शन का समय (राम कृष्ण संग्रहालय):

सुबह: 8:30 से 11:30 बजे

शाम 4 बजे से 6 बजे (अप्रैल से सितंबर)

3:30 से 5:30 (अक्टूबर से मार्च)

(सोमवार को बंद)

पता बेलूर, हावड़ा, पश्चिम बंगाल 711202

प्रवेश शुल्क: निःशुल्क