Home / Politics / रूस-भारत-चीन (आरआईसी) की 15 वीं एशियाई त्रिपक्षीय बैठक

रूस-भारत-चीन (आरआईसी) की 15 वीं एशियाई त्रिपक्षीय बैठक

December 12, 2017
by


Please login to rate

एशिया-प्रशांत संबंधों को बढ़ावा देने के लिए रूस-भारत-चीन (आरआईसी) की 15 वीं त्रिपक्षीय बैठक

आज सुबह नई दिल्ली में रूस-भारत-चीन (आरआईसी) समूह की वार्षिक बैठक के 15 वें संस्करण का समापन हो गया है। दुनिया के संदर्भ में बैठक को महान महत्व के नजरिये से देखा जाता है क्योंकि एशिया प्रशांत क्षेत्र के देशों में हर साल काफी आर्थिक और राजनीतिक प्रभाव में वृद्धि हो रही है। रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव और चीन के विदेश मंत्री वैंग यी ने भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ इस बैठक में भाग लिया। इससे पहले भारत सरकार ने अपने एक बयान में कहा था कि इस “बैठक में पारस्परिक हित के वैश्विक और क्षेत्रीय मुद्दों की समीक्षा के साथ-साथ त्रि-पक्षीय आदान-प्रदान और गतिविधियों पर चर्चा की जाएगी। बैठक के बाद एक संयुक्त विज्ञप्ति जारी की जाने की उम्मीद है।”

तीन देशों के विदेश मंत्रियों ने पहले भी मास्को में आयोजित वर्ष 2016 आरआईसी बैठक में भाग लिया था और वर्ष 2015 में यह आरआईसी बैठक बीजिंग में आयोजित हुई थी। वर्तमान आरआईसी की बैठक अप्रैल में आयोजित हुई थी, लेकिन दलाई लामा की अरुणाचल प्रदेश की यात्रा पर बीजिंग के नाराजगी के कारण, यह बैठक स्थगित कर दी गई थी, क्योंकि चीन इसे अपनी सीमा होने का दावा करता है।

एजेंडा क्या है?

भारत, चीन और रूस के प्रतिनिधियों के बीच होने वाली इस बैठक में आतंकवाद के रूप में वैश्विक सुरक्षा खतरों का मुकाबला करना, इसका मुख्य एजेंडा है। हाल के वर्षों में, भारत और चीन के बीच मतभेद काफी बढ़ गए हैं और हम उम्मीद करते हैं कि इनमें से कुछ को त्रि-राष्ट्रीय वार्ता के दौरान हल करने की कोशिश की जाएगी। हम यह भी उम्मीद कर सकते हैं कि तीन विदेश मंत्रियों ने विभिन्न क्षेत्रीय और वैश्विक मंचों वाले राष्ट्रों के बीच सहयोग की विभिन्न संभावनाओं की खोज भी होगी। त्रि-राष्ट्रीय बैठक के समापन तक संयुक्त विज्ञप्ति जारी करने की भी संभावना की जाती है।

चीन और रूस के विदेश मंत्री उम्मीद करते हैं कि भारत के साथ चल रही आरआईसी बैठक के दौरान, द्विपक्षीय वार्ता का अलग-अलग आयोजन होगा।

भारत व चीन की द्विपक्षीय बैठकें

चीन के विदेश मंत्री वैंग यी का दौरा, दोनों देशों के लिए काफी महत्वपूर्ण है। दोनों देशों के लिए यह एक उचित मौका है कि सुश्री सुषमा स्वराज और श्री वैंग यी के बीच होने वाली द्विपक्षीय बैठकों के माध्यम से, भूटान के डोकलाम पठार में 73 दिन तक होने वाले सैन्य गतिरोध की वजह से, आपस में हुई अनबन का समाधान हो सकता है। डोकलाम गतिरोध के कारण बड़े पैमाने पर युद्ध होने की आशंका जताई जा रही थी, लेकिन इन दो एशियाई पड़ोसियों की विवेकपूर्ण कूटनीति के कारण युद्ध टल गया था। पिछले हफ्ते, वैंग ने कहा था कि “चीन और भारत मत भेदों की तुलना में अधिक सामरिक हितों का साझा करते हैं और पक्षपाती टकराव की तुलना में आपसी सहयोग की बहुत अधिक आवश्यकताएं हैं।”

यांग जीईकी ने आर आईसी की बैठक के मुख्य बिंदुओं पर बारीकी से अनुसरण करते हुए, दोनों देशों के बीच लंबे समय से चल रहे सीमा विवादों को हल करने की संभावना जताई है। चीन-भारत सीमा वार्ता का 20 वां संस्करण (भारत-चीन के विशेष प्रतिनिधियों की वार्ता) यांग और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल के बीच आयोजित किया जाएगा।

भारत और चीन दोनों वैश्विक उद्योग-प्रधान के मुख्य केंद्र हैं और आर आईसी बैठक में दोनों देशों के बीच अधिक से अधिक आर्थिक सहयोग के स्तर को तलाशने के लिए एक अनुकूल परिस्थितियाँ प्रस्तुत की गई हैं। चीन ने उल्लेख किया है कि हाल के वर्षों में दोनों देशों के संबंध यह साबित कर सकते हैं कि”ड्रैगन (अजगर) और हाथी एक साथ शांतिपूर्वक रह सकते हैं”।

क्या भारत रूस के समर्थन पर भरोसा कर सकता है?

शीत युद्ध के दिनों में भारत और रूस ने बहुत करीबी रिश्तों को विकसित किया था और रूस को आमतौर पर निकट सहयोगी माना जाता था। हालाँकि, अमेरिका के साथ भारत की बढ़ती करीबियों के कारण, पिछले दशक में भारत और रूस के बीच बने रिश्ते में खटास देखने को मिली है। आर आईसी बैठक में रूस ने भारत को द्विपक्षीय और वैश्विक चिंताओं जैसे विभिन्न मामलों में सहायता का मंच प्रदान करने का आश्वासन दिया है। इनमें से सबसे महत्वपूर्ण सहायता, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में एक स्थायी सीट के लिए भारत की उम्मीदवारी होगी। परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में प्रवेश पाने के लिए भी भारत को रूस की सहायता की आवश्यकता होगी।

बहुपक्षीय संबंधों के लिए भारत का लक्ष्य

रूस-भारत-चीन (आरआईसी) की त्रि-स्तरीय बैठक का यह 15 वाँ संस्करण है, लेकिन रणनीतिक बहुपक्षीय संबंधों के नजरिए से भारत अपने लक्ष्य के संदर्भ में काफी महत्व प्राप्त कर रहा है। पिछले महीने, भारत मनीला से शुरू किए गए लोकतंत्र के चतुर्भुज (अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान और भारत) पुनरुत्थान का एक हिस्सा था। ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ़्रीका) के अलावा, हमारा देश अब ऐसे कई बहुपक्षीय समझौतों का हिस्सा है, जो देश के आर्थिक एजेंडे को बढ़ावा देते हैं और विभिन्न मोर्चों पर सहयोग के मजबूत संबंध प्रदान करते हैं। ब्रिक्स और आर आईसी के साथ-साथ सार्क ने क्षेत्रीय गतिशीलता में भारत की भूमिका को काफी उजागर किया है।

पिछले महीने होने वाली लोकतांत्रिक चतुर्भुज की बैठक और आर आईसी ने मिलकर, न केवल भारत-प्रांत के क्षेत्रों के महत्व को बढ़ावा दिया है, बल्कि वैश्विक मामलों में भी इस क्षेत्र के देशों को इंगित किया है।