Home / Business

Category Archives: Business

भारत में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की परेशानियां

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक भारतीय बैंकिंग क्षेत्र के प्रमुख घटक हैं। भारत सरकार देश के सभी 21 पीएसयू (पब्लिक सेक्टर) बैंकों के अधिकांश हिस्से के स्वामी है। देश में पीएसयू बैंक बैंकिंग परिसंपत्तियों के लगभग 70% हिस्से के मालिक हैं। भले ही हाल के वर्षों में बैंकों को नुकसान का सामना करना पड़ा है, लेकिन फिर भी बैंकों ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। पिछले वित्त वर्ष में, बैंकों ने 62000 करोड़ रुपये से अधिक [...]

2018 के शीर्ष 10 भारतीय अरबपति

फोर्ब्स पत्रिका, एक व्यवसायिक पत्रिका है जो हर साल दुनिया भर के सबसे अमीर अरबपतियों की वार्षिक सूची बनाती है, ने वर्ष 2018 की अपनी नवीनतम सूची प्रकाशित की है। पत्रिका ने इस सूची में दुनिया भर के 2,208 अरबपति को शामिल किया है। इन 2,208 अरबपति में से 121 भारतीय अरबपति हैं, जो पिछले साल की तुलना में 19 ज्यादा हैं, जिसने भारत को अमेरिका और चीन के बाद सबसे अमीर लोगों का तीसरा [...]

बिजनेस इंटेलिजेंस और एनालिटिक सॉफ्टवेयर एक सॉफ्टवेयर

आज की दुनिया में प्रत्येक व्यवसाय को लेकर लोग चिंतित रहते हैं कि वह अपने मौजूदा व्यापार डाटा का किस तरह से बेहतर ढंग से उपयोग करें, ताकि वह संगठनात्मक उद्देश्यों को प्राप्त करने में मदद कर सके। डाटा का अधिक मात्रा में लाभ उठाने और उसे संगठन के लिए उपयोगी जानकारी में परिवर्तित करने वालों के लिए यह काफी मुश्किल काम होता है। व्यापार की दुनिया में बढ़ते मुकाबले के कारण, डाटा द्वारा समर्थित [...]

आधुनिक भारत के 10 शीर्ष अर्थशास्त्री

कौटिल्य के समय से या शायद उनसे पहले के समय से, भारत ने दुनिया को कई सारे बुद्धिमान अर्थशास्त्री और विचारक दिए। यहाँ पर आधुनिक समय के 10 शीर्ष भारतीय अर्थशास्त्रियों के बारे में जानकारी उपलब्ध हैं- डॉ. अमर्त्य सेन– प्रेसीडेंसी यूनिवर्सिटी (कोलकाता) से शिक्षा प्राप्त करने के बाद, उन्हें 1998 में अर्थशास्त्र विज्ञान में नोबेल पुरस्कार जीता। इसके बाद उन्हें 1999 में भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया था। आर्थिक दर्शन की दुनिया में उनके प्रमुख अध्यनों [...]

भारत, लोगों की विस्तृत आर्थिक श्रेणी के वर्णक्रम (स्पेक्ट्रम) वाला एक विशाल देश है। यहाँ एक तरफ, बहुत सारे ऐसे लोग हैं जिनके पास इतने अधिक पैसे हैं कि उन्हें बचत और निवेश प्रणालियों को अलग करने के लिए कई बैंक खातों की आवश्यकता होती है, दूसरी तरफ अभी भी ऐसे हजारों लोग हैं जिनके पास कोई बैंक खाता नहीं है। सबसे पहले, भारत के प्रत्येक नागरिक का कम से कम एक कार्यशील बचत बैंक [...]

पंजाब नेशनल बैंक घोटाला

फरवरी 2018 में संज्ञान में आया, पंजाब नेशनल बैंक घोटाला मामला, जो कि संभवतः भारत के इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला है। जौहरी नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक को कुछ बैंक अधिकारियों के साथ मिलकर अरबों रुपए का चूना लगाया, जो कि भारत का दूसरा सबसे बड़ा बैंक है। इस मामले ने उन सभी लोगों को हिला कर रख दिया, जिन्होंने बैंकों के पास अपनी खून-पसीने की कमाई को अपने पैसों का संरक्षक समझ [...]

हर साल बहुत सी नई कारें लांच होती हुई दिखाई देती हैं। इनमें से कुछ कारें  बहुत महंगी होती हैं जिनको केवल कुछ खास लोग ही खरीद सकते हैं, जबकि कुछ कारों का लक्ष्य साधारण लोग होते हैं, यह कारें किफायती होती हैं। कार यातायात का एक साधारण माध्यम बन गई है। कार में मिलने वाली आराम और सुविधा के कारण अधिक से अधिक लोग सार्वजनिक परिवहन में यात्रा करने की बजाय अपने वाहनों से [...]

ऑटो एक्सपो 2018: की एक झलक

सभी वाहन प्रदर्शनियों का जनक ऑटो एक्सपो वापस आ गया है। 2018 ऑटो एक्सपो का 14वें संस्करण का आयोजन इस साल होने जा रहा है, जो 9 फरवरी से 14 फरवरी, 2018 तक आयोजित किया जाएगा। 2018 के ऑटो एक्स्पो ने इस बार वादा किया है, कि वह इसे नए मॉडलों, कॉम्पैक्ट वाहनों और प्रौद्योगिकियों के साथ भव्य और रोमांचक बनाकर प्रदर्शित करेगा। इसलिए, अपने सीट बेल्ट को अच्छे से बांध ले, क्योंकि हम आपको [...]

भारत में जापान का निवेश

जब वर्ष 2014 में मोदी सरकार ने केंद्र का पद भार संभाला, तब से विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) मुख्य-रूप से आकर्षित रहा  है। एफडीआई कई आर्थिक नीतियों, कर सुधारों और विशेष रूप से व्यवसाय करने में आसानी व विदेशी निवेशकों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। मेक इन इंडिया का शुभारंभ प्रमुख क्षेत्रों में इन एफडीआई को बढ़ावा देने का एक प्रयास है, ताकि भारत को दुनियाभर में एक महत्वपूर्ण विनिर्माण और सेवा [...]

जन धन योजना

भारत के प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के अपने पहले भाषण में घोषणा की, कि उनकी सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि भारत के सभी नागरिकों को बैंक खाते और डेबिट कार्ड तक पहुंच मिल सके। देश में गरीब जनता की ‘वित्तीय अस्पष्टता’ के युग का अंत होना चाहिए – इस महत्वाकांक्षा को ध्यान में रखते हुए मोदी ने 28 अगस्त 2014 को औपचारिक रूप से प्रधानमंत्री जन धन योजना की शुरुआत [...]