Home / Food / ऑर्गेनिक फूड के फायदे और नुकसान

ऑर्गेनिक फूड के फायदे और नुकसान

February 25, 2019
by


Please login to rate

खेतों में प्राकृतिक खाद और शुद्ध पानी का प्रयोग करके जो अनाज-सब्जियां और फल उगाए जाते हैं, वे ऑर्गेनिक फूड कहलाते हैं। ऑर्गेनिक फूड में केमिकल और पेस्टीसाइड का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं किया जाता है और इस तरह सिंथेटिक खाद्य योजक या विकिरण का उपयोग करके इन्हें संसाधित नहीं किया जाता है।

पिछले कुछ वर्षों में ऑर्गेनिक फूड में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है। जो लोग ऑर्गेनिक फूड पैदा कर सकते हैं वे ऑर्गेनिक खेती ही कर हैं क्योंकि यह न केवल स्वयं के लिए बल्कि पर्यावरण के लिए भी फायदेमंद है। हालांकि, ऑर्गेनिक फूड के स्वास्थ्य कारक के रूप में यहां पर दो अलग-अलग विचार हैं और हमने इन्हीं विचारों की एक सूची तैयार की है जिसमें इसके फायदे और नुकसान बताए गए हैं।

फायदे

  • चूंकि ऑर्गेनिक फूड पर्यावरण के अनुकूल है, इसलिए यह पौधों और जानवरों की विविधता को अधिक बढ़ावा देता है। यह भूजल प्रदूषण के जोखिम को भी कम करता है और मिट्टी के क्षरण को रोकने में मदद करता है।
  • ऑर्गेनिक फूड में हाइड्रोजनीकृत वसा, जो हृदय के लिए हानिकारक मानी जाती है, नहीं होती है। कार्बनिक भोजन में उच्च स्तर के एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो हृदय रोग, अल्जाइमर रोग और यहां तक कि कैंसर के कुछ रूपों को कम करने में मदद करते हैं। ऑर्गेनिक दूध में पर्याप्त मात्रा में ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है जो स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है। इस प्रकार ऑर्गेनिक फूड का सेवन स्वास्थ्यवर्धक है।
  • जहां तक जानवरों का संबंध है, ऑर्गेनिक का चयन करना स्वास्थ्यप्रद है क्योंकि जानवरों को खुला रखा जाता है, उन्हें एक प्राकृतिक आहार खिलाया जाता है, और यह एंटीबायोटिक और हार्मोन मुक्त होते हैं।
  • हालांकि ऑर्गेनिक फूड पूरी तरह से केमिकल-फ्री नहीं होते और इनमें कीटनाशक का प्रयोग बहुत कम मात्रा में किया जाता है और केमिकल के अवशेषों, जो बहुत कम मात्रा में प्रयोग किये जाते हैं, को आनुवंशिक रूप से संशोधित नहीं किया जाता।
  • अजैविक आहार, जो अपना प्राकृतिक स्वाद खो देते हैं, के विपरीत जैविक आहार अपने मूल स्वाद को बरकरार रखता है।

नुकसान

  • ऑर्गेनिक फूड किफायती नहीं होते और आपकी जेब के लिए भारी हो सकते हैं। एक सर्वेक्षण के अनुसार, ऑर्गेनिक फूड पारंपरिक रूप से उगाए गए भोजन की तुलना 47% अधिक महंगा है। इसकी कीमत इसलिए ज्यादा है क्योंकि इसकी उपज कम है और माँग ज्यादा। ऑर्गेनिक फूड इसलिए भी अधिक महँगे हैं क्योंकि इसे उगाने में मेहनत ज्यादा है।
  • ऑर्गेनिक फूड को आप ज्यादा समय तक नहीं रख सकते। जैसा कि इसे बढ़ाने के लिए और न हीं इसे आकर्षक बनाने के लिए किसी भी तरह के केमिकल का उपयोग नहीं किया जाता है। जिस वजह से ऑर्गेनिक फूड पारंपरिक रूप से तैयार फूड की तुलना तोजी से नष्ट हो जाता है।
  • जैसा कि कहा जाता है कि ऑर्गेनिक फूड कैमिकल-फ्री होते हैं, यह बात बिल्कुल गलत है क्योंकि ऑर्गेनिक फूड के उत्पादन में रसायनों की सीमित मात्रा का उपयोग किया जाता है।
  • ऑर्गेनिक फूड पूरी तरह से जोखिम मुक्त नहीं है और इस भोजन में पैदा होने वाले बैक्टीरिया हैं लिस्टेरिया, साल्मोनेला और ई-कोलाई सहित अन्य।
  • ऐसी कोई आम सहमति नहीं है, जो यह निश्चित करती है कि ऑर्गेनिक फूड अपने पारंपरिक समकक्ष की तुलना अधिक स्वास्थ्यप्रद है। कुछ का यह भी मानना है कि जैविक आहार का पोषण मूल्य गैर-जैविक आहार की तरह ही है।

विकल्प

कुछ लोग इन दोनों विचारों को पढ़ने के बाद भ्रमित हो सकते हैं, कि जैविक आहार का सेवन करें या अजैविक आहार का। यहां आपके भ्रम को स्पष्ट करने के लिए जैविक खाद्य पदार्थों की एक सूची है जिसका उपयोग कोई भी कर सकता है और एक स्वस्थ जीवन जी सकता है –

  • ऑर्गेनिक पालक, गोभी, आलू और लेट्यूस का चुनाव करना बेहतर है क्योंकि इनमें मैग्नीशियम, आयरन और फॉस्फोरस जैसे स्वस्थ खनिज के उच्च स्तर होते हैं।
  • अजैविक सेब में 36 प्रकार के कीटनाशकों का प्रयोग किया जाता है और जिस वजह ये बहुत हानिकारक होते हैं। इस प्रकार, आपको जैविक सेब का प्रयोग करना चाहिए।
  • ऑर्गेनिक मीट सबसे अच्छा विकल्प है क्योंकि यह एंटीबायोटिक मुक्त होता है।

स्वस्थ खाओ और सुरक्षित रहो !

Summary
Article Name
ऑर्गेनिक फूड के फायदे और नुकसान
Author
Description
ऑर्गेनिक फूड में केमिकल और पेस्टीसाइड का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं किया जाता है और इस तरह सिंथेटिक खाद्य योजक या विकिरण का उपयोग करके इन्हें संसाधित नहीं किया जाता है। हालांकि, ऑर्गेनिक फूड के स्वास्थ्य कारक के रूप में विचार के दो स्कूल हैं और हमने आपके सामने उसी के माध्यम से इसके फायदे और नुकसान के रूप में दो अलग-अलग विचार पेश किए हैं।