Home / Government / प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना – एक दुर्घटना बीमा योजना

प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना – एक दुर्घटना बीमा योजना

July 1, 2018


Please login to rate
प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना – एक दुर्घटना बीमा योजना

प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक और फ्लैगशिप सामाजिक सुरक्षा योजना शुरू की हैः प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (पीएमएसबीवाय): यह एक दुर्घटना मृत्यु और विकलांगता बीमा योजना है।

भारत की आबादी का एक बड़ा हिस्सा ग्रामीण इलाकों में रहता है और उनमें से ज्यादातर किसी भी सामाजिक सुरक्षा योजना के दायरे में नहीं आते। इस आबादी के एक बड़े तबके को तो अब तक बैंकिंग प्रणाली का भी लाभ नहीं मिला है। ज्यादातर को अब भी समय-समय पर शुरू की गई कई सरकारी योजनाओं की जानकारी नहीं मिली है।

साधारण और गरीब लोगों की जिंदगी में शामिल इस गंभीर असंगति को ठीक करने के लिए भारत के प्रधान मंत्री ने 9 मई 2015 को कोलकाता में पीएमएसबीवाय योजना शुरू की। इसके साथ ही दो अन्य बीमा और पेंशन योजनाएं भी शुरू की गई। इन योजनाओं को लेकर सरकार की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इनकी सफलता के लिए वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों को राज्यों की राजधानियों और बड़े नगरों में भेजा गया। ताकि एक साथ कई जगहों से इन योजनाओं का शुभारंभ हो सके। साथ ही सफल क्रियान्वयन भी सुनिश्चित हो सके।

पूर्ववर्ती सरकारों की ओर से शुरू की गई अन्य सामाजिक सुरक्षा योजनाओं से यह योजना किस तरह अलग है?

पीएमएसबीवाय के दो प्रमुख पहलू है, इससे इसके पेश करने का नजरिया अलग हो जाता है। पहला, समावेशन का शुद्ध आकार और गहराई, इस योजना का फायदा अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाना, जो इसे बहुत महत्वाकांक्षी और चुनौतीपूर्ण बनाता है।

आज, यदि किसी परिवार का कमाऊ सदस्य दुर्घटना में स्थायी रूप से विकलांग हो जाता है या उसकी मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार को गरीबी और मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। सहयोग या संरक्षण के लिए कोई संस्था या समूह आगे नहीं आता। पीएमएसबीवाय योजना में शामिल होकर और सिर्फ 12 रुपए प्रति व्यक्ति प्रति वर्ष प्रीमियम चुकाकर वह बीमा कवर हासिल कर लेगा। दुर्घटना में मौत या स्थायी तौर पर विकलांगता पर 2,00,000 (दो लाख) रुपए या आंशिक लेकिन स्थायी विकलांगता होने पर 1,00,000 (एक लाख) रुपए का बीमा मिलेगा। यह योजना एक साल के लिए वैध रहेगी। इसका हर साल नवीनीकरण किया जा सकता है।

बहुत-सी सरकारी सामाजिक सुरक्षा योजनाओं को घर के पास वित्तीय प्रणाली अधोसंरचना की कमी की वजह से लोगों से अच्छा प्रतिसाद नहीं मिला। इतना ही नहीं, खाते खोलने या दावे करने में जो कागजी कार्यवाही करनी पड़ती थी, वह बहुत ज्यादा थी। यहां तक कि प्रणाली में लीकेज (भ्रष्टाचार) की वजह से भी बड़ा तबका इन योजनाओं का फायदा उठाने से दूर ही रहा। इन समस्याओं को मौजूदा सरकार ने दूर करने की कोशिश की है। सामाजिक योजनाओं के निष्पादन और तंत्र की निगरानी के लिए टेक्नोलॉजी का भरपूर इस्तेमाल किया जा रहा है। सभी भुगतान हितग्राही के अकाउंट में सीधे होंगे, जिससे भ्रष्टाचार की गुंजाइश भी नहीं रहेगी।

पीएमएसबीवाय के तहत कौन पात्र है?

18 और 70 वर्ष आयु समूह के बीच का कोई भी व्यक्ति, जिसका बचत बैंक खाता और आधार कार्ड हो, वह इस योजना से जुड़ सकता है।

एक आसान फॉर्म भरना होगा, नॉमिनी का नाम लिखना होगा और आधार कार्ड को बैंक खाते से लिंक करना होगा। व्यक्ति को हर साल एक जून से पहले इस योजना में बने रहने के लिए फॉर्म जमा करना होगा। इससे खाता आसानी से सक्रिय किया जा सकता है और पूरा प्रीमियम उसके खाते से खुद-ब-खुद काट लिया जाएगा। अन्य शब्दों में, व्यक्ति को सिर्फ बैंक खाता खोलना होगा और फिर सुनिश्चित करना होगा कि हर साल 1 जून से पहले कम से कम 12 रुपए खाते में उपलब्ध रहे। ताकि योजना का नवीनीकरण हो जाए।यदि किसी व्यक्ति को इस योजना का लाभ लंबी अवधि के लिए चाहिए तो उसके पास यह विकल्प भी होगा कि वह बैंक को निर्देश देकर योजना के खुद-ब-खुद नवीनीकरण की व्यवस्था सुनिश्चित करें।

पीएमएसबीवाय कौन क्रियान्वित करेगा?

सभी सरकार-प्रायोजित सामान्य बीमा कंपनियां यह योजना पेश करेंगी। जबकि अन्य बीमा कंपनियों के पास विकल्प होगा कि वह बैंकों के साथ अनुबंध कर इन योजनाओं के तहत प्रोग्राम डिलीवरी में शामिल हो जाए।

क्या मुझे स्कीम में शामिल होने से किसी तरह का टैक्स लाभ होगा?

हितग्राहियों के बैंक खाते से काटी जाने वाली पूरी प्रीमियम धारा 80सी के तहत करमुक्त होगी। इतना ही नहीं, इस योजना के तहत मिलने वाली एक लाख रुपए तक की राशि धारा 10(10डी) के तहत कर मुक्त होगी। एक लाख रुपए से ज्यादा राशि होने पर 2 प्रतिशत की दर से टीडीएस काट लिया जाएगा। यदि फॉर्म 15एच या फॉर्म 15जी बीमा एजेंसी में जमा किया तो यह टैक्स नहीं कटेगा।

मौजूदा सरकार को एक ही बार में तीन बड़े सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रम शुरू करने की जरूरत क्यों पड़ी?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली मौजूदा सरकार का एक साल का कार्यकाल पूरा होने जा रहा है। यह महसूस किया गया कि उनके प्रदर्शन का बारीकी से विश्लेषण किया जाएगा। एक साल सत्ता में रहने के बाद भी चुनावी वादों और वास्तविकताओं में बहुत बड़ा अंतर है।

सरकार इस बात को लेकर आलोचनाओं से घिर गई कि सरकार खर्च करने में गति नहीं बढ़ा पा रही है। खासकर बुनियादी ढांचे और विनिर्माण के क्षेत्र में, जहां इसकी बहुत ज्यादा जरूरत है। संसद में कई विधेयक लंबित हैं, जिनसे इन क्षेत्रों को काफी उम्मीदें हैं। इनमें गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) और प्रमुख जमीन अधिग्रहण विधेयक शामिल है। सरकार इस वजह से न केवल इन सामाजिक सुरक्षा योजनाओं की घोषणाओं को लेकर उत्सुक थी, बल्कि विभिन्न तबकों में पर्याप्त प्रचार-प्रसार भी चाहती थी। खासकर उन लोगों के बीच जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है।

यह सच है कि जन-धन योजना के तहत खोले गए बैंक खातों से केंद्र सरकार ने एक बेहतरीन सफलता हासिल की है, यह भी उतना ही सच है कि इनमें से ज्यादातर खातों में षून्य या बहुत कम पैसा जमा है। ऐसे में इन खातों को जिन उद्देश्यों के साथ खोला गया था, वह कहीं न कहीं परिपूर्ण होते नजर नहीं आते।

पीएमएसबीवाय योजना को अलग-अलग तबकों में लागू करने में एक साल का वक्त लग जाएगा। अगले साल इसी वक्त पर हकीकत की जांच हो सकेगी कि क्या लक्ष्य रखा गया था और कितना हासिल हुआ है। इसका वास्तविक असर क्या हुआ है।
इस बीच, आम लोग उत्साहित और उम्मीदवान है कि प्रधानमंत्री मोदी अपने वादों पर खरे उतरेंगे। भारत को तेज विकास की राह पर आगे ले जाएंगे। पीएमएसबीवाय योजना मौजूदा सरकार की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (पीएमएसबीवाय)पर और ज्यादा जानकारी के लिए लॉगऑन करेः www.jansuraksha.gov.in ;या  www.financialservices.gov.in

कोई राष्ट्रीय टोल फ्री नंबर पर भी कॉल कर सकता हैः 1800-110-001 या 1800-180-1111 राज्यवार टोल  फ्री नंबर की सूची यहां से प्राप्त करेः

http://www.jansuraksha.gov.in/PDF/STATEWISETOLLFREE.pdf

आवेदन फॉर्म

आवेदन फॉर्म का  http://www.jansuraksha.gov.in/FORMS-PMSBY.aspx   डाउनलोड किया जा सकता है। फॉर्म अलग-अलग भाषाओं में भी उपलब्ध है- अंग्रेजी, हिंदी, गुजराती, बांग्ला, कन्नड़, ओडिया, मराठी, तेलुगू और तमिल।

पीएमएसबीवाई अन्तर्गत जानकारी के लिए प्रश्न यहाँ पूछें

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (पीएमएसबीवाय) पर किसी भी प्रश्न का जबाब पाने के लिए, कृपया यहां लॉग इन करें: http://www.jansuraksha.gov.in/Files/PMJJBY/ENGLISH/FAQ.pdf

इस पोस्ट को लॉन्च किए जाने से पहले, 2 सितंबर 2015 तक 8,46,18,155 लोग पहले से ही इस योजना के लिए पंजीकृत हो चुके हैं।

बैंकों द्वारा रिपोर्ट किए गए कुल नामांकन: 21 दिसंबर, 2015 तक 92,688,166 लोग पहले ही इस योजना के लिए पंजीकृत हो चुके हैं।

बैंकों द्वारा रिपोर्ट किए गए कुल नामांकन: 16 अप्रेल, 2016 तक 94,139,019 लोग पहले ही इस योजना के लिए पंजीकृत हो चुके हैं।

Click here to view Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana (PMSBY) in English

 

मोदी द्वारा शुरू किए गए अन्य कार्यक्रम:

भारत में सामाजिक सुरक्षा हेतु अटल पेंशन योजना (एपीवाय)

‘बेटी बचाओ, बेटी पदाओ योजना’

सुकन्या समृद्धि अकाउंटः भारत में लड़कियों के लिए नई योजना

प्रधान मंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाय)

2014 में मोदी द्वारा किये गए टॉप पांच कार्यक्रम

Summary
Article Name
प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना - एक दुर्घटना बीमा योजना
Author
Description
प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना - पीएमएसबीवाई के बारे में जानें, आवेदन कैसे करें, योजना के कर लाभ, पात्रता मानदंड, प्रीमियम राशि, जोखिम कवरेज के बारे में प्रश्न पूछे।