Home / History

Category Archives: History

सुभाष चंद्र बोस का भारत के स्वतंत्रता संग्राम में योगदान

जैसे ही ब्रिटिश के खिलाफ भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास की बात आती है, तो  महत्वपूर्ण स्वतंत्रता सेनानी व्यक्तियों में सुभाष चंद्र बोस का नाम विशेष रूप से आता है। शुरूआत से ही, अति महत्वाकांक्षी बोस ने स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने का फैसला कर लिया था, यह जानने के बावजूद कि यह मार्ग मुश्किलों से भरा हुआ है, फिर भी वह इसमें शामिल हो गए थे। शुरुआत सुभाष चन्द्र बोस, जिन्हें प्यार से [...]

द्वितीय विश्व युद्ध में भारत की भूमिका और इसके प्रभाव

आज भी कुछ भारतीयों को यह पता होगा कि भारत ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अपने मित्र राष्ट्रों को लड़ने के लिए 25 लाख स्वयं सेवक सैनिकों और प्रथम विश्व युद्ध के दौरान 15 लाख सैनिकों का योगदान दिया था। ये अत्यंत बहादुर सैनिक बहुत ही विनम्र और जरूरतमंद पृष्ठभूमि वाले थे, परंतु वे धरती पर, समुद्र में और हवा में बहुत ही भयानकता के साथ लड़े थे। दोनों युद्धों में, ब्रिटिश भारतीय सेना [...]

भारत के लिए सरदार पटेल का दृष्टिकोण

भारत के आयरन मैन (लौह पुरुष) सरदार वल्लभ भाई पटेल को आधुनिक भारत का वास्तुकार माना जाता है। हाल ही में वित्त मंत्री जी ने घोषणा की थी कि गुजरात में इस महान व्यक्ति की एक बड़ी सी प्रतिमा बनाने के लिए 200 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया गया है। यह हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है कि वह सरदार पटेल की प्रतिमा का अनावरण करके उनको श्रद्धांजलि दें। “स्टैच्यू ऑफ यूनिटी” [...]

भारत में हुए शीर्ष 10 आतंकवादी हमले

यहाँ पर ऐसे आतंकवादी हमलों की एक सूची है जिन्होंने भारत को हिलाकर रख दिया 26/11 आतंकी हमला- भारत में सबसे खतरनाक आतंकवादी हमला नवंबर 2008 को हुआ था, जब 10 आतंकवादियों ने रिहाई के लिए भारत की वाणिज्यिक राजधानी को चार दिनों तक अपनी हिरासत में ले लिया था। यह नरसंहार 26 तारीख को हुआ था, जब आतंकवादी समुद्र के माध्यम से देश में प्रवेश करने में सफल हुए थे और यह खूनी खेल [...]

सुल्तानपुर लोधी में ऐतिहासिक गुरुद्वारा

कल्पना कीजिए कि ऐसी जगह जाकर आपको कैसा अनुभव होगा जहाँ पर गुरु नानक देव जी (सिख के पहले गुरु) ने अपने जीवन के 14 साल बिताए हो। निश्चित रूप से आप स्वयं को सौभाग्यशाली महसूस करेंगे। पंजाब राज्य के कपूरथला जिले में सुल्तानपुर लोधी एक ऐसी ही जगह है जहाँ पर आप जाकर स्वयं को सौभाग्यशाली महसूस करा सकते हैं। गुरु नानक देव जी यहाँ के नवाब की इन्वेंट्री स्टोर (मोदीखाना) पर काम करते [...]

रानी पद्मावती कौन थीं? - तथ्य, कल्पना और किवदंती

निर्देशक संजय लीला भंसाली की प्रसिद्ध रचना (फिल्म) पद्मावती में मुख्य कलाकार दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणवीर सिंह हैं और संभावना की जाती है कि यह ऐतिहासिक फिल्म 1 दिसंबर 2017 को रिलीज होगी। इस फिल्म की लागत 200 करोड़ रुपए है। यह फिल्म काफी विवादों के घेरे में है और विभिन्न समूहों द्वारा इस फिल्म की आलोचनाएं भी की जा रही हैं। असल में, प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने निर्देशक के खिलाफ हिंसा [...]

भारतीय सिनेमा का इतिहास उन्नीसवीं शताब्दी के पहले का है। 1896 में, ल्युमेरे ब्रदर्स द्वारा शूट की गई पहली फिल्म का प्रदर्शन मुंबई (बंबई) में किया गया था। लेकिन वास्तव में सिनेमा का इतिहास तब बना, जब लोकप्रिय हरिश्चंद्र सखाराम भाटवडेकर को सावे दादा के रूप में जाना जाता था, ल्यूमेरे ब्रदर्स की फिल्म के प्रदर्शन से बहुत अधिक प्रभावित होकर उन्होंने इंग्लैंड से एक कैमरा मंगवाया था। मुंबई में उनकी पहली फिल्म हैंगिंग गार्डन [...]

गांधी-इरविन समझौता क्या था?

5 मार्च 1931 को लंदन द्वितीय गोल मेज सम्मेलन के पूर्व, महात्मा गांधी और तत्कालीन वायसराय लॉर्ड इरविन के बीच हस्ताक्षर करके एक राजनीतिक समझौता किया गया था, जिसे गांधी-इरविन समझौता के रूप में जाना जाता है। गांधी-इरविन समझौता की पृष्ठभूमि? मार्च और अप्रैल 1930 के बीच, महात्मा गांधी ने समुद्री जल से नमक का उत्पादन करने के लिए, समुद्र के तटीय गाँव दांडी से नमक सत्याग्रह या नमक मार्च की शुरुआत की थी। यह [...]

भारतीय संस्कृति में योग

योग, आध्यात्मिक भारत को जानने और समझने का एक तरीका है। इसके साथ ही योग भारत की संस्कृति और विरासत से भी जुड़ा हुआ है। संस्कृत में, योग का अर्थ है “एकजुट होना”। योग स्वस्थ जीवन जीने के तरीके का वर्णन करता है। योग में ध्यान लगाने से मन अनुशासित होता है। योग से शरीर का उचित विकास होता है और यह सुदृढ़ होता है। योग के अनुसार, यह वास्तव में हमारे स्वास्थ्य पर अपना [...]

चंद्रगुप्त मौर्य - भारतीय इतिहास के सबसे महान शासक

भारत के महान सम्राट मौर्य ने (340 ईसा पूर्व – 298 ईसा पूर्व) अपने शासनकाल में, पहली बार भारत को एक सत्ता के रूप में एकीकृत किया। उनके शासनकाल से पूर्व दक्षिण एशिया अधिकांशतः छोटे – छोटे राज्यों में बँटा हुआ था, जबकि गंगा के मैदानों पर नंद वंश का शासन था। चंद्रगुप्त मौर्य ने अधिकांश भारतीय उपमहाद्वीप पर विजय प्राप्त करके भारत को राजनीतिक एकता प्रदान की और मौर्य साम्राज्य की नींव रखी। हालाँकि, [...]