मध्य प्रदेश का नक्शा

Madhya Pradesh Map in Hindi

मध्य प्रदेश का नक्शा
*मध्य प्रदेश का नक्शा (मानचित्र) जिला, अंतरराष्ट्रीय सीमा, राज्य सीमा, जिला सीमा, पडोसी राज्य आदि को दर्शाता है

मध्य प्रदेश के महत्वपूर्ण तथ्य

राज्यपाल राम नरेश यादव
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह
आधिकारिक वेबसाइट www.mp.nic.in
स्थापना का दिन 1 नवंबर 1956
क्षेत्रफल 308,244 वर्ग किमी
घनत्व 236 प्रति वर्ग किमी
जनसंख्या (2011) 72,626,809
पुरुषों की जनसंख्या (2011) 37,612,306
महिलाओं की जनसंख्या (2011) 35,014,503
जिले 51
राजधानी भोपाल
नदियाँ नर्मदा, ताप्ती, बेतवा, सोन, चंबल
वन एवं राष्ट्रीय उद्यान बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान, कान्हा राष्ट्रीय उद्यान, पेंच राष्ट्रीय उद्यान, इन्द्रावती टाइगर रिजर्व
भाषाएँ पंजाबी, मालवी, निमाड़ी, पंजाबी, भिलोड़ी, गोंडी, कोरकू, कालतो, निहाली
पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़
राजकीय पशु दलदली हिरण
राजकीय पक्षी दूधराज
राजकीय वृक्ष बरगद
नेट राज्य घरेलू उत्पाद (2011) 32222
साक्षरता दर (2011) 82.91%
1000 पुरुषों पर महिलायें 930
विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र 230
संसदीय निर्वाचन क्षेत्र 29

मध्य प्रदेश के बारे में


देश के मध्य भाग में स्थित मध्य प्रदेश, उत्तर पश्चिम में राजस्थान से, उत्तर में उत्तर प्रदेश से, पूर्व में छत्तीसगढ़ से, दक्षिण में महाराष्ट्र से और पश्चिम में गुजरात से घिरा है। नवंबर 2000 में छत्तीसगढ़ के अलग राज्य बनने से पहले तक मध्य प्रदेश को देश के सबसे बड़े राज्य होने का गौरव प्राप्त था।

मध्य प्रदेश की टोपोग्राफी मिश्रित है और इसमें मैदानी क्षेत्र और पहाड़ दोनों शामिल हैं। इस राज्य में तीन प्रमुख मौसम होते हैं नवंबर से फरवरी तक सर्दी, मार्च से मई तक गर्मी और जून से सितंबर तक मानसून। सर्दियों के दौरान औसत तापमान 10 डिग्री से 27 डिग्री सेल्सियस रहता है। गर्मियों में तापमान बहुत ज्यादा रहता है, जिसमें औसत 29 डिग्री और अधिकतम 48 डिग्री तक पहुंच जाता है। मानसून के मौसम में औसतन तापमान 19 से 30 डिग्री सेल्सियस रहता है। मध्य प्रदेश में बारिश का सालाना औसत 1200 मिमी. है, जिसमें से 90 प्रतिशत वर्षा मानसून में होती है। राज्य की राजधानी भोपाल है।

मध्य प्रदेश का इतिहास


मध्य प्रदेश का इतिहास महान मौर्य राजा अशोक के समय तक का है। मध्य भारत का ज्यादातर हिस्सा 300-500 ईस्वी तक गुप्त साम्राज्य का हिस्सा था। सातवीं सदी के पहले भाग में यह राज्य प्रसिद्ध शासक हर्ष की रियासत का भाग था। दसवीं सदी का दौर असमंजस का था। 11वीं सदी की शुरुआत में मुसलमानों का मध्य भारत में आगमन हुआ, इसमें महमूद गजनी पहला था और मोहम्मद गोरी दूसरा था, जिसके पास दिल्ली की सल्तनत का इलाका था। मराठाओं के उद्भव के साथ यह मुगल साम्राज्य का हिस्सा बन गया। सन् 1794 में माधोजी सिंधिया की मौत तक मराठाओं ने मध्य भारत पर वर्चस्व स्थापित रखा लेकिन उसके बाद स्वतंत्र और छोटे राज्य अस्तित्व में आए। बंटे हुए छोटे राज्यों की वजह से अंग्रेजों को अपना राज कायम करने मेें आसानी हुई। इस क्षेत्र की कुछ महान महिला शासकों, जैसे इंदौर की रानी अहिल्याबाई होल्कर, गोंड की रानी कमला देवी और रानी दुर्गावती ने इतिहास में अपने लिए एक जगह बनाई है।

जब सन् 1947 में भारत आजाद हुआ ब्रिटिश भारत का मध्य प्रांत और बरार से मध्य प्रदेश का गठन हुआ। सीमा परिवर्तन होते रहे और आखिरकार मध्य प्रदेश से निकलकर छत्तीसगढ़ का निर्माण हुआ।

आबादी


मध्य प्रदेश भारत के दिल में स्थित है। ‘एमपी’ के नाम से पहचाने जाने वाले इस राज्य का क्षेत्र 3,08,244 वर्ग किमी. में फैला है, जिससे यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य बनता है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल है। इंदौरयहां का सबसे बड़ा शहर है, जबकि जबलपुर राज्य का सबसे महत्वपूर्ण व्यवसायिक केंद्र है। आबादी के मान से मध्य प्रदेश भारत का छठा सबसे बड़ा राज्य है। यह राज्य अपनी सीमाएं उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गुजरात और राजस्थान जैसे राज्यों से साझा करता है।

भूगोल


राज्य के भूगोल में मुख्य रुप से धरती पर इसकी स्थिति, क्षेत्र एवं क्षेत्र वार भाग, नदियां, मौसम, मिट्टी, फसलें, टोपोग्राफी और जीव, वनस्पति शामिल हैं। 22.42 डिग्री उत्तर और 72.54 डिग्री पूर्व की भौगोलिक स्थिति के साथ मध्य प्रदेश मध्य भारत में आता है। मध्य प्रदेश उत्तरपश्चिम में राजस्थान से, उत्तर में उत्तर प्रदेश से, पूर्व में छत्तीसगढ़ से, दक्षिण में महाराष्ट्र से और पश्चिम में गुजरात से अपनी सीमाएं बांटता है।

शिक्षा


मध्य प्रदेश की शिक्षा प्रणाली बहुत विकसित है। मध्य प्रदेश की पूरी स्कूली शिक्षा तीन स्तरों पर बंटी है- प्राथमिक, माध्यमिक और उच्चतर। मध्य प्रदेश में पाॅलिटेक्निक, औद्योगिक, कला और शिल्प, संगीत आदि के भी स्कूल हैं। इसके अलावा 12 स्टेट यूनिवर्सिटी हैं। इस लिए ही राज्य की एक-तिहाई आबादी शिक्षित है। उज्जैन और सागर में स्थित स्कूल सबसे पुराने हैं और शिक्षा की गुणवत्ता के कारण पूरे पश्चिमी क्षेत्र में सबसे अच्छे हैं। हाल ही में मध्य प्रदेश की शिक्षा प्रणाली में विभिन्न कार्यशाला और प्रशिक्षण सत्र शुरु किए गए ताकि स्कूल छोड़ चुके लोगों को फिर से शिक्षा की ओर लाया जा सके।

भाषाएं


क्योंकि मध्य प्रदेश को भारत का दिल कहा जाता है, यह स्वाभाविक है कि मध्य प्रदेश की सभी प्रचलित बोलियां हिंदी में होंगी। उत्तर भारत और मध्य भारत में रहने वाले ज्यादातर लोग हिंदी भाषा का इस्तेमाल करते हैं। हिंदी को भारत सरकार द्वारा आधिकारिक भाषा का भी दर्जा मिला हुआ है। हिंदी में फारसी-अरबी लिपी के साथ देवनागरी लिपी का मिश्रण है। भारत के अलावा हिंदी पाकिस्तान, नेपाल और फिजी में बोली जाती है।

अर्थव्यवस्था और बुनियादी ढांचा


मध्य प्रदेश की अर्थव्यवस्था का आधार कृषि है। आधे से ज्यादा भूमि क्षेत्र कृषि क्षेत्र हैं, हालांकि इसका वितरण टोपोग्राफी, वर्षा और मिट्टी के कारण काफी असमान है। मुख्य कृषि योग्य क्षेत्र चंबल घाटी, रीवा पठार और छत्तीसगढ़ के मैदानी क्षेत्र में पाया जाता है। नदी जनित जलोड़ मिट्टी वाली नर्मदा घाटी एक और उपजाउ क्षेत्र है। यहां की सबसे खास फसलें चावल, गेंहू, ज्वार, मक्का, दालें और मूंगफली हैं। चावल मुख्यतः पूर्व में उगाया जाता है जबकि पश्चिम में गेंहू और ज्वार प्रमुख हैं। यह राज्य भारत का सबसे बड़ा सोयाबीन उत्पादक है। अन्य फसलों मेेें अलसी, तिल, गन्ना और कपास और पहाड़ी क्षेत्र में उगने वाले अवर, बाजरा शामिल हैं। राज्य सबसे बड़ा अफीम उत्पादक भी है जो पश्चिम के मंदसौर जिले और ‘मारिजुआना’ खंडवा के दक्षिण पश्चिम जिले में उगती है।

समाज और संस्कृति


मध्य प्रदेश में चार कृषि जलवायु क्षेत्र हैं, इसलिए लोगों और उनकी जीवन शैली का दिलचस्प मिश्रण है। यहां भारत की 40 प्रतिशत आदिवासी आबादी रहती है। राज्य में तीन अलग अलग आदिवासी समूह हैं।

सबसे बड़ा हिस्सा गोंड का है जो एक समय में राज्य के बड़े हिस्से पर राज करते थे, जिनके नाम पर ही राज्य के मध्य क्षेत्र का नाम गोंडवाना पड़ा। पश्चिमी मध्य प्रदेश योद्धा, शिकारी और रंगीन भीलों से बसा है। पूर्वी मध्य प्रदेश में ओराओं का दबदबा है, जिनमें से ज्यादातर ने ईसाई धर्म अपना लिया है। हिंदी यहां सबसे अधिक बोली जाती है और मराठी भी अच्छी खासी संख्या में लोग बोलते हैं। उर्दू, उड़ीया, गुजराती और पंजाबी बोलने वाले लोग भी ठीकठाक संख्या में हैं। भील लोग भीली और गोंड लोग गोंड बोलते हैं।

गोंड, भील और बंजारों के विभिन्न जीवंत आदिवासी नृत्य जैसे फग, लोटा आदि लट्ठा नृत्य हंै। टेक्सटाईल तो महत्वपूर्ण है ही पर मध्य प्रदेश में एक मजबूत पारंपरिक हस्तकला उद्योग भी है। हेंडलूम चंदेरी और महेश्वर सिल्क की मांग अक्सर रहती है। आदिवासी लोग आकर्षक हस्तशिल्प बनाते हैं। राज्य के उत्तर में छतरपुर जिले में खजुराहो दुनिया भर में कामुक कला के लिए जाना जाता है। चंदेला राजाओं ने इन्हें लगभग 1,000 ई में बनवाया था। ग्वालियर और उसके आसपास के मंदिर भी उल्लेखनीय हैं।

सरकार और राजनीति


मध्य प्रदेश राज्य 51 जिलों से मिलकर बना है। क्षेत्र के हिसाब से यह राजस्थान के बाद सबसे बड़ा राज्य है। मध्य प्रदेश की सरकार कार्यकारी, विधायी और न्यायपालिका से मिलकर बनी है। राज्य की कार्यकारी शाखा का प्रमुख राज्यपाल है। अन्य राज्यों की तरह राज्य का प्रमुख राज्यपाल है। राज्यपाल को राष्ट्रपति द्वारा केंद्र सरकार से परामर्श के बाद नामित किया जाता है। राज्यपाल का पद ज्यादातर औपचारिक ही होता है।

परिवहन


मध्य प्रदेश के ज्यादातर इलाके में बस और रेल सेवा उपलब्ध है। सड़क नेटवर्क कई राजमार्गों से जुड़ा है जो इसे भारत के अन्य राज्यों से जोड़ते हैं। भारतीय रेलवे के पश्चिमी मध्य रेलवे जोन का मुख्यालय जबलपुर है। यहां चार अंतरराज्यीय बस टर्मिनल हैं जो कि इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर में हंै। इन शहरों में रोज लगभग 2000 बसें चलती हैं। मध्य प्रदेश का व्यस्ततम हवाईअड्डा इंदौर में है। राज्य के अन्य हवाईअड्डों में जबलपुर एयरपोर्ट, ग्वालियर एयरपोर्ट, भोपाल का राजाभोज एयरपोर्ट और खजुराहो हवाईअड्डा शामिल हैं।

मध्य प्रदेश में पर्यटन


मध्य प्रदेश राज्य सचमुच भारत का दिल है। राज्य का पर्यटन भारत के इस जादुई और रहस्यमय केंद्र की यात्रा है। मध्य प्रदेश पर्यटन कई स्मारकों, शानदार नक्काशीदार मंदिरों, किलों और महलों पर प्रकाश डालता है जो मध्य प्रदेश का बिंदु हैं। पर्यटन आपके सामने राज्य की अद्भुत प्राकृतिक सुंदरता को सामने लाता है। इस राज्य की टोपोग्राफी मुख्य तौर पर पठार हैं और पठार खूबसूरत पहाड़ों, झरनों, नदियों और मीलों तक फैले जंगलों के बीच स्थित हैं।

वन्यजीव अभयारण्य और राष्ट्रीय पार्क


मध्य प्रदेश के वन्यजीव पर्यटन में जानवरों के लिए आरक्षित वन, वन्यजीव अभयारण्य शामिल हैं, जो कि मध्य प्रदेश में बहुत पाए जाते हैं। पर्यटकों के लिए वन्यजीव पर्यटन वास्तव में खुश करने वाली गतिविधि है क्योंकि यह राज्य के वन्यजीव संसाधन से परिचित कराता है। मध्य प्रदेश के वन्यजीव पर्यटन में राष्ट्रीय पार्कों की छोटी सैर शामिल है जिससे जानवरों के प्राकृतिक निवास की जानकारी मिल सके। प्राकृतिक जंगलों से भिन्न ये आरक्षित जंगल मानव द्वारा बनाए गए हैं। लेकिन ये पर्यटकों को असली जंगल का अहसास कराते हैं।

मध्य प्रदेश के होटल


मध्य प्रदेश भारत का एक प्रमुख पर्यटन केंद्र है। इस राज्य में कई होटल हैं जिनमें हैरिटेज से लेकर बजट होटल शामिल हैं। मध्य प्रदेश के होटलों में दी जाने वाली विश्वस्तरीय सुविधाओं की तुलना आप देश में किसी भी श्रेष्ठ होटल से कर सकते हैं।

त्यौहार


भारत की सांस्कृतिक विविधता के चलते यहां के कई राज्यों में कई मेले और त्यौहार मनाए जाते हैं। मध्य प्रदेश भी इससे अलग नहीं है। इसके

मेले और त्यौहार बहुत लोकप्रिय हैं और ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों का सही मायनों में पारंपरिक मूल्य दिखाते हैं। यह मेले और त्यौहार किसी खास समुदाय तक ही सीमित नहीं है बल्कि सभी समुदायों द्वारा मनाए जाते हैं। मध्य प्रदेश के मेले और त्यौहार जो हजारों की संख्या में लोगों को आकर्षित करते हैं, आपको आदिवासी परंपराओं और रस्मों का साक्षी होने का मौका देते हैं।

मध्य प्रदेश के जिले



क्र.सं. जिला का नाम जिला मुख्यालय जनसंख्या (2011) विकास दर लिंग अनुपात साक्षरता क्षेत्र (वर्ग किमी) घनत्व (/ वर्ग किमी)
1 आगर आगर * * * * * *
2 अलिराजपुर अलीराजपुर 728999 19.45% 1011 36.1 3182 229
3 अनूपपुर अनूपपुर 749237 12.30% 976 67.88 3747 200
4 अशोक नगर अशोक नगर 845071 22.66% 904 66.42 4674 181
5 बालाघाट बालाघाट 1701698 13.60% 1021 77.09 9229 184
6 बड़वानी बड़वानी 1385881 27.57% 982 49.08 5432 256
7 बेतूल बैतूल 1575362 12.92% 971 68.9 10043 157
8 भींड भिंड 1703005 19.21% 837 75.26 4459 382
9 भोपाल भोपाल 2371061 28.62% 918 80.37 2772 854
10 बुरहानपुर बुरहानपुर 757847 19.37% 951 64.36 3427 221
11 छतरपुर छतरपुर 1762375 19.51% 883 63.74 8687 203
12 छिंदवाड़ा छिंदवाड़ा 2090922 13.07% 964 71.16 11815 177
13 दमोह दमोह 1264219 16.63% 910 69.73 7306 173
14 दतिया दतिया 786754 18.46% 873 72.63 2694 292
15 देवास देवास 1563715 19.53% 942 69.35 7020 223
16 धार धार 2185793 25.60% 964 59 8153 268
17 डिंडोरी डिंडोरी 704524 21.32% 1002 63.9 7427 94
18 गुना गुना 1310061 21.50% 943 66.39 6485 194
19 ग्वालियर ग्वालियर 1241519 26.97% 912 63.23 5465 445
20 हरदा हरदा 2032036 24.50% 864 76.65 3339 171
21 होशंगाबाद होशंगाबाद 570465 20.25% 935 72.5 6698 185
22 इंदौर इंदौर 1241350 14.49% 914 75.29 3898 839
23 जबलपुर जबलपुर 3276697 32.88% 928 80.87 5210 472
24 झाबुआ झाबुआ 2463289 14.51% 929 81.07 6782 285
25 कटनी कटनी 1025048 30.70% 990 43.3 4947 261
26 खंडवा (पूर्व निमाड़) खंडवा 1292042 21.41% 952 71.98 7349 178
27 खरगोन (पश्चिम निमाड़) खरगोन 1054905 17.97% 1008 66.87 8010 233
28 मांडला मंडला 1340411 13.24% 963 71.78 5805 182
29 मंदसौर मंदसौर 1965970 23.44% 840 71.03 5530 242
30 मुरैना मुरैना 1091854 14.01% 920 75.69 4991 394
31 नरसिंहपुर नरसिंहपुर 826067 13.77% 954 70.8 5133 213
32 नीमच नीमच 1016520 18.67% 905 64.79 4267 194
33 पन्ना पन्ना 1331597 18.35% 901 72.98 7135 142
34 रायसेन रायसेन 1545814 23.26% 956 61.21 8466 157
35 राजगढ़ राजगढ़ 1455069 19.72% 971 66.78 6143 251
36 रतलाम रतलाम 2365106 19.86% 931 71.62 4861 299
37 रीवा रीवा 2378458 17.63% 893 76.46 6314 374
38 सागर सागर 2228935 19.19% 926 72.26 10252 272
39 सतना सतना 1311332 21.54% 918 70.06 7502 297
40 सिहोर सीहोर 1379131 18.22% 982 72.12 6578 199
41 सिवनी सिवनी 1066063 17.39% 974 66.67 8758 157
42 शहडोल शहडोल 1512681 17.20% 938 69.09 6205 172
43 शाजापुर शाजापुर 687861 22.94% 901 57.43 6196 244
44 श्योपुर श्योपुर 1726050 22.76% 877 62.55 6585 104
45 शिवपुरी शिवपुरी 1127033 23.72% 957 64.43 10290 168
46 सीधी सीधी 1178273 28.05% 920 60.41 10520 232
47 सिंगरोली सिंगरौली 1445166 20.13% 901 61.43 5672 208
48 टीकमगढ़ टीकमगढ़ 1986864 16.12% 955 72.34 5055 286
49 उज्जैन उज्जैन 644758 24.96% 950 65.89 6091 356
50 उमरिया उमरिया 1458875 20.09% 896 70.53 4062 158
51 विदिशा विदिशा 1873046 22.85% 965 62.7 7362 198


अंतिम संशोधन : नवम्बर 23, 2016