Home / Politics / महाराष्ट्र बंद – 10 प्रमुख घटनाएं

महाराष्ट्र बंद – 10 प्रमुख घटनाएं

July 25, 2018
by


Please login to rate

महाराष्ट्र बंद–10 प्रमुख घटनाएं

महाराष्ट्र राज्य में आरक्षण की मांग को लेकर चल रहा व्यापक विरोध प्रदर्शन मंगलवार को काफी हिंसक हो गया जिसने राज्य में लोगों के जीवन को अचानक से स्थिर कर दिया। हिंसा और सार्वजनिक संपत्ति में तोड़-फोड़ महाराष्ट्र के कई स्थानों पर देखी गई थी जिसमें दुकानों और वाहनों में होने वाले नुकसान की खबर को हर घंटे बताया जा रहा था। हालांकि, मराठा क्रांति मोर्चा ने शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया, लेकिन ये चीजें एक बुरा मोड़ लेने लगी। ठाणे में स्थानीय रेल मार्गों को अवरुद्ध करने के लिए प्रदर्शनकारी रेल की पटरियों पर उतर आए, जबकि यातायात को बाधित कार्नर के लिए मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे को भी बाधित कर दिया, यहां तक कि सियोन पनवेल राजमार्ग पूरी तरह से अवरुद्ध कर दिया गया था। लेकिन शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन को हिंसा में बदलते देख, मराठा क्रांति मोर्चा द्वारा विरोध प्रदर्शन को बंद करने का आह्वान किया गया है।

राज्य, राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन से दुष प्रभावित हुआ इसलिए महाराष्ट्र की नियमित दिनचर्या पर आघात हुआ। राज्य में सोमवार को मराठा समुदाय के लिए आरक्षण की मांग करते हुए औरंगाबाद जिले में एक युवक के नदी में कूदकर आत्महत्या करने के बाद से विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ। मराठा क्रांति मोर्चा में राज्य की कुल 30 प्रतिशत जनसंख्या जो मराठा समुदाय से है, आरक्षण (कोटे) की मांग कर रही है। 28 वर्षीय किसान की मौत के बाद, मराठा क्रांति मोर्चा और मराठा संगठन के कई समर्थकों ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस जब तक मराठा समुदाय से माफी नहीं मांग लेते और सरकारी नौकरियों एंव शिक्षण संस्थानों में मराठा समुदाय की आरक्षण की मांग को पूरा नहीं करते तब तक वे राज्य को बंद करने का आह्वान करेंगे और विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे।

यहाँ पर महाराष्ट्र बंद होने की 10 प्रमुख चीजों पर प्रकाश डाला गया है:

  • 28 वर्षीय किसान, जिसकी मौत महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में स्थित गोदावरी नदी में कूद कर हुई थी, मराठा समुदाय के लिए आरक्षण कोटे की मांग कर रहा था, क्योंकि मुख्यमंत्री समुदाय को आरक्षण देने में नाकाम रहे।
  • मराठा क्रांति मोर्चा और मराठा संगठनों के कई समर्थकों ने सोमवार को ककाभाई शिंदे की मौत के बाद राज्य बंद करने की मांग की। वह व्यक्ति नौकरी और शिक्षा में आरक्षण देने के लिए बीजेपी सरकार की ओर से हो रही देरी के खिलाफ विरोध कर रहा था।
  • मराठा क्रांति मोर्चा के नेतृत्व में हो रहे राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से कहा है कि 28 वर्षीय किसान की मौत के लिए माफी मांगे और मराठा समुदाय के लिए आरक्षण लाने के लिए बीजेपी सरकार द्वारा किए गए वादे को पूरा करें।
  • प्रदर्शनकारियों ने औरंगाबाद में फायर ब्रिगेड वाहन पर हमला किया और उसे जला दिया, जबकि उस्मानाबाद के एक सरकारी कार्यालय के बाहर टायर जलाए गए। प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने परभानी जिले में रेलवे ट्रैक को खाली करा (हाइजैक) दिया और ट्रेनों को रोक दिया गया था, जबकि अहमदनगर जिले के शिरडी और सांगली से भी विरोध को ले कर हिंसक घटनाओं की खबरें सामने आईं।
  • औरंगाबाद के सांसद चंद्रकांत खैरे की कार पर स्थानीय लोगों द्वारा सुबह के समय हमला किया गया, जब शिवसेना के सांसद, काकाभाई शिंदे के दाह संस्कार में शामिल होने के लिए जा रहे थे, उससे पहले मराठा संगठनों ने योजना बनाई कि जब तक महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उनकी मांगों को पूरा नहीं करेंगे वह उनका (काकाभाई शिंदे) दाह संस्कार नहीं करेंगे।
  • सरकार की नाकामयाबी के विरोध में दोऔर लोगों ने आत्महत्या करने का प्रयास किया, जो साथी प्रदर्शनकारी काकाभाई शिंदे की मौत के लिए माफी मांगने और राज्य की आबादी में लगभग 30 प्रतिशत मराठा समुदायकी मांगों को पूरा करने के लिए कह रहे थे।
  • परभानी के गंगाखेड में प्रदर्शनकारियों ने एक पुलिसकर्मी से भिड़ंत की और 12 अन्य वाहनों को तोड़-फोड़ दिया, जबकि एक में आग लगा दी। प्रदर्शनकारियों की भीड़ से औरंगाबाद के पुलिस बल की भिड़ंत हुई और इन सब प्रकरण में एक पुलिसकर्मी घायल हो गया।
  • शिवसेना मराठा प्रदर्शनकारियों के समर्थन में है, हालांकि पार्टी नेता और महाराष्ट्र के मंत्री सुभाष देसाई ने उन लोगो से आह्वान करते हुए कहा कि, जिन्होंने आरक्षण का वादा किया था, इससे पहले कि यह मुद्दा एक आक्रामक विरोध में बदले और राज्य की संपत्ति को नुकसान पहुचे व शांति और सुरक्षा में बाधा उत्पन्न हो वे लोग आगे आयें और इस समस्या को हल करें।
  • औरंगाबाद जिले में प्रदर्शनकारियों के संदेश को प्रसारित करने से रोकने और स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। प्रदर्शनकारियों ने पहले से ही कई जगहों पर शांति और सुरक्षा को बाधित कर रखा है जहां विरोध प्रदर्शन काफी हिंसक रूप धारण कर चुका है, राज्य भर में क्रोधित और हिंसक भीड़ ने दुकानों, वाहनों और सरकारी कार्यालयों पर भी हमला किया है।
  • मराठा समुदाय ने स्कूलों और कॉलेजों में बाधा डाले बिना मुंबई शहर में विरोध प्रदर्शन करने की योजना बनाई थी। मराठा क्रांति मोर्चा ने बुधवार को नवी मुंबई, ठाणे और रायगढ़ में एक शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन करने के लिए कहा। सरकार ने सामने आकर प्रदर्शनकारियों से विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए कहा है। मंत्री ने समूहों को एक शांतिपूर्ण वार्तालाप करने और मराठा समुदाय के लिए आरक्षण की मांगों के समाधान को पूरा करने के लिए आमंत्रित किया है।
Summary
Article Name
महाराष्ट्र बंद - 10 प्रमुख हाइलाइट्स
Author
Description
महाराष्ट्र राज्यठहर गया है, क्योंकि मराठा समुदाय ने आरक्षण की मांग करते हुए पूरे राज्य को बंद करने की मांग की है। इस विरोध प्रदर्शन ने राज्य की शांति और सद्भाव को बाधित कर दिया है। प्रदर्शनकारियों की आत्महत्या से राज्य के कई क्षेत्रों में विरोध प्रदर्शन जारी रहा, गुस्से में भीड़ ने राज्य की संपत्ति को नुकसान पहुंचाया और कई वाहनों को क्षतिग्रस्त और जला दिया गया।