Home / Education / छात्रों और बच्चों के लिए बाल दिवस पर निबंध

छात्रों और बच्चों के लिए बाल दिवस पर निबंध

November 13, 2018
by


Please login to rate

छात्रों और बच्चों के लिए बाल दिवस पर निबंध

विद्यालय में लेखन एक बच्चे के शैक्षणिक वर्षों का एक अनिवार्य हिस्सा होता है। यह बच्चों की शब्दावली को स्पष्ट करने और उसे बढ़ाने में मदद करता है और कम उम्र में अच्छे लेखन कौशल पर पकड़ हासिल करना आपके बच्चे के विकास के लिए बहुत अच्छा है। हालांकि, अगर आपको (हमारे पाठकों, शिक्षकों, छात्रों के साथ-साथ माता-पिता सहित) लेखन आसानी से नहीं आता है तो माता-पिता अपने बच्चों के लिए निबंध के रूप में हमारे रूपरेखा ब्लॉग से पूर्ण रूप से लिखित लेखन तैयार करने का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। यह लेखन-पत्र हमारे प्रत्येक पाठक को स्कूल के असाइनमेंट के लिए निबंध तैयार करने और लेख-लेखन के उनके कौशल में सुधार करने के इरादे से तैयार किया गया है।

14 नवंबर को बाल दिवस मनाए जाने के साथ, यह विषय निश्चित रूप से भारत भर के स्कूलों के लिए प्रवृत्त होगा। इस लेख के माध्यम से, हमने शिक्षकों, माता-पिता और छात्रों के लिए चीजों को थोड़ा आसान बनाने की कोशिश की है। हम बच्चों की आवश्यकता से अधिक मदद करके उनकी सराहना नहीं कर सकते हैं, इसलिए हम आपको मुख्य बिंदुओं को वर्गीकृत करके, अनुच्छेदों को एक क्रम में व्यवस्थित करके उनका पालन करने के लिए उपयोगी मॉडल प्रदान कर रहे हैं और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको निबंध लिखने के लिए सुझाव दे रहे हैं। आइए इसे सरल लेकिन दिलचस्प बनाएं।

यदि आप अपनी प्रतिक्रिया हमें भेज सकते हैं या टिप्पणी अनुभाग (कमेंट सेक्शन) में इसके बारे में लिख सकते हैं, तो हम इसकी सराहना करेंगे, इसलिए हम इस गतिविधि के माध्यम से कई ‘त्यौहार’ और ‘महत्वपूर्ण दिन’ को कवर कर सकते हैं। आइए जानते हैं।

प्रस्तावना

  • प्रस्तावना की किसी भी निबंध में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है।
  • पहला नियम जिसमें पाठक उस निबंध को पढ़ने में दिलचस्पी ले, साथ ही साथ पहले वाक्य में उस विषय की चर्चा को प्रस्तुत किया गया हो।
  • जिस विषय पर लिखा जा रहा है उसके बारे में जानकारी भी बहुत महत्वपूर्ण है। यह “क्या” है।
  • प्रस्तावना छोटी और स्पष्ट रखें। आप निबंध के मुख्य निकाय में उस विषय को शामिल करेंगे।
  • एक प्रस्तावना को बार बार दोहराना ही पूर्ण “नहीं” है।

तो उपरोक्त को ध्यान में रखते हुए, बाल दिवस पर एक निबंध की शुरुआत निम्नानुसार शुरू होगी:

“बच्चे हर देश का भविष्य हैं और भारत ___________ पर बाल दिवस मनाता है। इस दिन, भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित________________ का जन्म हुआ था। पंडित__________ बच्चों के बहुत शौकीन थे, और कुपोषित बच्चों की मदद के लिए शैक्षिक संस्थानों की स्थापना और मुफ्त भोजन कार्यक्रमों द्वारा उनकी सुधार की दिशा में काम किया। पंडित_____________ को बच्चों द्वारा ‘चाचा नेहरू’ कहा जाता था। ”

निबंध का मुख्य निकाय

निबंध का यह भाग उत्सव के विवरण के साथ-साथ कारणों का भी गठन करेगा।

  • आप इस अवसर (बाल दिवस) को मनाने के पीछे अपने मुख्य विचारों को प्रस्तुत करते हैं। बाल दिवस पर निबंध के लिए इसकी शुरुआत, “भारत के लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए बाल दिवस मनाया जाता है ताकि देश के बच्चों को सही तरीके से तैयार किया जा सके, ताकि वे जिम्मेदार नागरिक बन सकें जो देश की प्रगति में योगदान दे सकें ” ,जैसे निबंध लिखकर की जानी चाहिंए।
  • फिर, आप उन तरीकों और साधनों का वर्णन करने के लिए आगे बढ़ेंगे, जिससे भारत बच्चों की मदद कर सकता है। इसमें भारत के बच्चों की शिक्षा, पोषण और सुरक्षा जैसी मूलभूत आवश्यकताओं को शामिल करना चाहिए।
  • एक बार जब आप उपरोक्त चीजों को कवर कर लेते हैं, तो आपको भारत के बच्चों की उन समस्याओं पर ध्यान देने की जरूरत है जिसमें वे विशेष रूप से गरीबी त्रस्त समुदाय से संबंधित होते हैं। निबंध के इस भाग में, आपको शोध करने और आंकड़ों के साथ वास्तविक समस्याओं पर वास्तविकता खोजने की आवश्यकता है।(भारत में बीपीएल परिवारों का प्रतिशत, कुपोषित बच्चों की संख्या, बाल श्रम में लगे बच्चों की संख्या, स्कूल छोड़ने वाले बच्चों की संख्या, अनुसंधान और सूचना के अन्य प्रासंगिक भागों के बीच।)
  • समस्याओं का सामना करने के बाद, आपको इन ‘कारणों’ पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है। यहां आपको यह बताने की जरूरत है कि भारत में अधिकांश बच्चों के लिए निर्धनता मुख्य कारण है। आपको इस बिंदु को भी शामिल करने की आवश्यकता है कि मुफ्त शिक्षा का मतलब गुणवत्ता की शिक्षा नहीं है, जिसके कारण बच्चों को स्कूल छोड़ना पड़ता है।
  • समस्याओं को दूर करने के लिए सिफारिश आपका अगला कदम होगा। यहां आपको इस विषय पर अपने विचार देने और तरीकों और साधनों का वर्णन करने की आवश्यकता है जिससे इन समस्याओं को समाप्त किया जा सके। बाल दिवस पर निबंध के लिए पंडित जवाहरलाल नेहरू की इच्छा के अनुसार गरीब बच्चों के लिए आप बाल श्रम को रोकने के लिए गुणवत्ता की शिक्षा, गरीबों को उनकी शिक्षा के लिए समृद्ध लोगों के साथ-साथ रहने का एक अच्छा मानक, पोषण देखभाल, और सभी गरीब बच्चों को पौष्टिक भोजन की उपलब्धता और कानूनों के सख्त कार्यान्वयन की सिफारिश कर सकते हैं।
  • देश भर में बाल दिवस कैसे मनाया जाता है, इसके लिए मुख्य निकाय जिसका आप वर्णन कर रहे हैं कि एक उल्लासपूर्ण टिप्पणी के साथ समाप्त हो जाएगा। आप कार्यक्रम और प्रतियोगिताएं,जो स्कूलों में आयोजित किए जाएंगे, में शामिल हो जाएंगे।

निष्कर्ष

किसी भी निबंध का निष्कर्ष इसे एक सफल कहानी बनाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सही निष्कर्ष निकालने के लिए यहां कुछ बिन्दु दिए गए हैं:

  • बाल दिवस का उत्सव हमेशा एक समकालीन विषय बना रहेगा और बच्चों को इन प्रवृत्त समस्याओं का सामना करना पड़ेगा, जब तक कि इस समस्या को जड़ से खत्म नहीं कर दिया जाता। यदि तत्काल प्रभाव से उचित कदम नहीं उठाए जाते है तो इस प्रकार आपको पाठकों की चेतावनी के उचित परिणामों के साथ निष्कर्ष निकालना होगा।
  • आप फिर से कार्यों के विशिष्ट पाठ्यक्रम की सिफारिश कर सकते हैं। जब सिफारिशें, दोहराई जाएंगी तो वे अधिक मुख्य हो जाएंगी।
  • आपको एक उपयुक्त उद्धरण के लिए इंटरनेट की तलाश करना होगा जो निबंध के विषय वस्तु से संबंधित हो। उदाहरण के लिए- “प्रत्येक शिशु यह संदेश लेकर आता है कि ईश्वर अभी मनुष्यों से निराश नहीं हुआ है-रवींद्रनाथ टैगोर”
  • निष्कर्ष के अंतिम वाक्य में भारत के बच्चों को पोषित करने के महत्व को फिर से दोहराया जाना चाहिए ताकि वे अच्छे इंसान बन सकें और एक प्रबल देश बनाने में मदद कर सकें।

हम आशा करते हैं कि यह निबंध लेखन का एक आसान उपाय है और सभी शिक्षकों, माता-पिता और छात्रों को बिना किसी कठिनाई के बाल दिवस पर निबंध लिखने में मदद करता है। याद रखें, कि निबंध हमेशा स्पष्ट और संक्षिप्त होना चाहिए ताकि निबंध का सार कहीं खो न जाए। निबंध लेखन की हार्दिक शुभकामनाएं !