Home / Education / सीबीएसई बोर्डः कक्षा 12 के रिजल्ट की प्रमुखताएं

सीबीएसई बोर्डः कक्षा 12 के रिजल्ट की प्रमुखताएं

May 28, 2018
by


Please login to rate

सीबीएसई बोर्डः कक्षा 12 के रिजल्ट की प्रमुखताएं

सीबीएसई बोर्ड ने कक्षा 12 के नतीजे जारी कर दिए हैं, इसमें पहले और दूसरे स्थान पर एनसीआर की लड़कियों ने बाजी मारी है। मेघना श्रीवास्तव ने स्टेप बाई स्टेप स्कूल, सेक्टर -132, ताज एक्सप्रेसवे से 500 में से 499 अंकों के साथ टॉप किया है।

वहीं एसएजे स्कूल, सेक्टर 14-सी, वसुंधरा से गाजियाबाद की अनुष्का चंद्रा सिर्फ 1 अंक से पीछे रह गईं, ये 498 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर रहीं।

आश्चर्यजनक ढंग से, सात छात्र तीसरे स्थान पर रहे – सात में से दो गाजियाबाद से हैं, एक नोएडा से, एक मेरठ से, एक हरिद्वार से, एक लुधियाना से और एक जयपुर से।

गाजियाबाद में शीर्ष 3 स्थानों में तीन छात्रों के बेहतर प्रदर्शन के साथ एनसीआर में दिल्ली की अपेक्षा बेहतर परिणाम आए हैं।

पूरे भारत के आधार पर, पिछले वर्ष के मुकाबले 2018 के नतीजों में लगभग 1 प्रतिशत की वृद्धि हुई। पिछले साल के परिणामों के बाद, लड़कियों ने एक बार फिर लड़कों से बेहतर प्रदर्शन किया है। इस बार 88.31% लड़कियों ने परीक्षा उत्तीर्ण की, जबकि लड़कों की संख्या 78.99%  रही।

15,674 छात्र विदेशी केंद्रों में परीक्षा के लिए बैठे थे। इनमें से, 14,881 ने परीक्षा उत्तीर्ण की जिससे उनका उत्तीर्ण प्रतिशत 94.94% रहा।

2018 और 2017 में कक्षा 12 की परीक्षाओं के बीच तुलना:

स्कूलों की कुल संख्या

  • 2017: 10,673
  • 2018: 11,510

837 स्कूलों की बढ़ोतरी

परीक्षा केंद्रों की कुल संख्या

  • 2017: 3504
  • 2018: 4145

641 केंद्रों की बढ़ोतरी

पंजीकृत छात्रों की कुल संख्या

  • 2017: 10,76,761
  • 2018: 11,84,386

1,07,625 छात्रों की बढ़ोतरी

परीक्षा में उपस्थित छात्रों की कुल संख्या

  • 2017: 10,20,762
  • 2018: 11,06,772

86,010 छात्रों की बढ़ोतरी

उत्तीर्ण छात्रों की कुल संख्या

  • 2017: 8,37,229
  • 2018: 9,18,763

81,534 छात्रों की बढ़ोतरी

कुल पास प्रतिशत

  • 2017: 82.02%
  • 2018: 83.01%

0.99% की तरक्की

पास प्रतिशत वाले शीर्ष 3 क्षेत्र

  • त्रिवेंद्रम: 97.32%
  • चेन्नई: 93.87%
  • दिल्ली: 89%

वर्ष 2018 पेपर लीक विवाद के लिए याद किया जाएगा जिसके लिए अर्थशास्त्र विषय की परीक्षा फिर से आयोजित की गई थी।

आखिरकार अब रिजल्ट जारी हो जाने के साथ छात्र आराम और चैन की सांस ले सकते हैं और अपना कैरियर बनाने के लिए अग्रिम कोर्सों का चयन आसानी से कर सकते हैं।

पेपर लीक विवाद

इस वर्ष कक्षा 10 और कक्षा 12 की परीक्षाओं में शामिल होने वाले छात्र पेपर लीक होने वाली खबर से भौचक्के रह गए,  जिसमें कक्षा 10 का गणित और कक्षा 12 का अर्थशास्त्र का पेपर लीक हो गया था।

27 मार्च को, अर्थशास्त्र के पेपर से संबंधित एक एफआईआर दर्ज कराई गई थी और दूसरी एफआईआर 28 मार्च को दर्ज कराई गई थी जो गणित के पेपर से संबंधित थी।

स्थगन या पुर्नपरीक्षण की अनिश्चितता ने छात्रों के मौजूदा तनाव को और अधिक बढ़ा दिया था। पेपर लीक कराने वाले लोगों का पता चल गया, अर्थशास्त्र का पेपर लीक होने की मुख्य वजह हिमाचल प्रदेश के तीन व्यक्ति सहित एक प्राइवेट स्कूल के दो शिक्षक थे।

12 वीं कक्षा के छात्रों के प्रवेश और अगली योजनाओं के लिए युक्तियाँ        

सबसे पहली और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि प्रत्येक छात्र को याद रखना चाहिए कि जीवन एक लंबी यात्रा है और शिक्षा जीवन की एक लंबी प्रक्रिया है जो विभिन्न रूपों में आती है। परीक्षा में प्राप्त आपके अंक, मूल्यांकन का केवल एक पैरामीटर हैं और आपकी प्रतिभा, कौशल या क्षमता पर कोई निर्णय नहीं है।

कम अंक या यहां तक कि परीक्षा में भी फेल होने से भी कुछ खत्म नहीं होता है। जीवन एक क्रिकेट मैच की तरह है। यदि कोई खिलाड़ी पहली ही गेंद पर बिना खाता खोले आउट हो जाता है, तो वह अगले दिन अभ्यास करने के लिए वापस पिच पर जाता है और जब तक वह परफेक्ट नहीं हो जाता तब तक कड़ी मेहनत करता है और बेहतर प्रदर्शन करने लिए आत्मविश्वास के साथ पुनः पिच पर जाता है। याद रखें, कि शिक्षा के क्षेत्र में सबसे बड़ी सफल कहानियां जीवन में शुरुआती विफलताओं में से कुछ थीं।

जिसके अनुसार, यहां कुछ युक्तियां दी गई हैं जो आपको प्रवेश प्रक्रिया में अपने अगले चरण की योजना बनाने में मदद करेंगी।

  • शैक्षिक प्रदर्शन, रुचि और योग्यता के आधार पर करियर की योजना बनाएं।
  • यदि आप प्रवेश परीक्षाओं में शामिल होने की योजना बना रहे हैं तो अपने मन को शांत रखें और पहले की तरह तैयारी करें।
  • कॉलेजों में स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन करने की योजना बनाने वाले छात्र कृपया याद रखें कि छात्रों की संख्या उपलब्ध सीटों की संख्या से अधिक है। इसलिए, केवल उन्हीं कॉलेजों का चयन करें जिसमें आपको लगे कि आप आसानी से प्रवेश ले सकते हैं।
  • अध्ययन के लिए एक कोर्स का चयन करते समय अपने करियर के लक्ष्य को ध्यान में जरूर रखें। अपने करियर की योजना और इसका लाभ कैसे उठाया जाए इसमें पाठ्यक्रम की प्रासंगिकता का मूल्यांकन करें।
  • यह पहले से तय कर लें कि स्नातक स्तर के बाद, आप परास्नातक डिग्री प्राप्त करना चाहते हैं या नहीं। यदि चाहते है, तो यह जांच लें कि आपका संस्थान जहाँ से आप स्नातक करेंगें वहाँ पर परास्नातक करने का अवसर है या नहीं। यदि नहीं, तो अपने स्नातक पाठ्यक्रम का निर्णय लेने से पहले, स्थान और लागत के आधार पर उपलब्ध सर्वोत्तम विकल्पों पर विचार अवश्य करें।
  • सर्वश्रेष्ठ कॉलेजों में आवेदन करने के लिए जल्दी न करें क्योंकि अधिक आवेदन पत्र आपकी संभावनाओं को कम करते हैं। ध्यान रखें कि कॉलेज की प्रतिष्ठा चाहे कितनी ही अधिक क्यों न हो लेकिन वह किसी करियर में सफलता की गारंटी नहीं देता है। यह आपकी कड़ी मेहनत है जो इसकी गारंटी लेती है। रोल मॉडल के रूप में विचार करने वाले कुछ सबसे सफल लोगों ने कम लोकप्रिय संस्थानों में अध्ययन किया है और फिर भी वे बहुत सफल हुए हैं।
  • जो लोग विदेशों में पढ़ना पसंद करते हैं, वे कृपया अध्ययन करने की योजना बनाने वाले विशिष्ट पाठ्यक्रम के लिए संस्था प्रतिष्ठा और रैंकिंग की जांच कर लें। केवल कॉलेज की व्यापक प्रतिष्ठा को देखकर प्रवेश न लें। उदाहरण के लिए, व्यापक शीर्ष कॉलेजों में से एक में आप अर्थशास्त्र में प्रवेश ले सकते हैं, लेकिन ये सब एक व्यापक निचले रैंक वाले कॉलेज में भी अर्थशास्त्र विषय में उच्च रैंक और प्रतिष्ठा हासिल करके हो सकता है। इसलिए, बाद में अध्ययन करना हमेशा बेहतर होगा। यह कई भारतीय संस्थानों के लिए भी सच है। इसलिए सावधानी से इसका चयन करें।

और अंत में, शिक्षा के अगले स्तर को स्वीकार करें और उसका आनंद लें और अपनी क्षमता पर विश्वास बनाए रखें, क्योंकि यही वह है जिसने आपको इस मुकाम तक पहुँचाया है। शुभकामनाएं।

सारांश
लेख का नामः सीबीएसई बोर्डः कक्षा 12 के रिजल्ट की प्रमुखताएं

लेखकः देबू सी

विवरणः पूरे भारत के आधार पर, पिछले वर्ष के मुकाबले 2018 के नतीजों में लगभग 1 प्रतिशत की वृद्धि हुई। पिछले साल के परिणामों के बाद, लड़कियों ने एक बार फिर लड़कों से बेहतर प्रदर्शन किया है। इस बार 88.31% लड़कियों ने परीक्षा उत्तीर्ण की, जबकि लड़कों की संख्या 78.99%  रही।