Home / Education / अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानों की सूची

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानों की सूची

November 15, 2018
by


Please login to rate

 

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानों की सूची

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) उच्च शिक्षा के सार्वजनिक चिकित्सा संस्थानों का एक समूह है। इन संस्थानों को सबसे प्रतिष्ठित लोगों द्वारा पसंद किया जाता है जिसके कारण भाग लेने वाले इच्छुक उम्मीदवारों की संख्या 3 लाख तक बढ़ जाती है। एम्स को संसद के एक अधिनियम द्वारा देश के राष्ट्रीय महत्व का संस्थान घोषित किया गया है। 1956 में स्थापित, दिल्ली का एम्स बड़े संस्थानों का अग्रदूत है जो प्रत्येक वर्ष प्रवेश प्रक्रिया आयोजित करने के लिए जिम्मेदार है। अभी तक, एम्स 807 सीटों में प्रवेश प्रदान कर चुका है जो नौ कार्यात्मक संस्थानों में उपलब्ध है जिसमें नई दिल्ली, ऋषिकेश, भोपाल, भुवनेश्वर, जोधपुर, पटना, रायपुर, गुंटूर और नागपुर शामिल हैं।

प्रत्येक एम्स के विवरण के बारे में अधिक जानने के लिए नीचे पढ़ें।

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) – नई दिल्ली

देश की राजधानी में स्थित, दिल्ली के एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) में 42 विषयों में अनुसंधान और शिक्षण कार्य को संचालित किया जाता है। दिल्ली के एम्स को, साप्ताहिक पत्रिका, आउटलुक इंडिया और इंडिया टुडे द्वारा भारत के मेडिकल कॉलेजों में प्रथम स्थान पर रखा गया था। 1956 में स्थापित, दिल्ली के एम्स को एक स्वशासी संस्थान के रूप में बनाया गया है। यह स्वास्थ्य देखभाल के सभी पहलुओं में उत्कृष्टता को पोषित करने के लिए एक केंद्र के रूप में कार्य करता है। दिल्ली के एम्स में चार सुपर स्पेशलिटी सेंटर समेत पच्चीस क्लिनिकल विभाग हैं। इसका दिल्ली के अंसारी नगर में एक मुख्य परिसर स्थित है। इसके अलावा, दिल्ली के एम्स का झज्जर या बादसा में एक और कैंपस है। अन्य परिसरों में एम्स बल्लाभढ़ परिसर और एम्स गाजियाबाद परिसर शामिल हैं। संस्थान हरियाणा के बल्लाबगढ़ में 60 बिस्तर वाला अस्पताल व्यापक ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्र का प्रबंधन करता है जिसके माध्यम से यह लगभग 2.5 लाख आबादी के लिए स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करता है।

दिल्ली का एम्स नर्सिंग कॉलेज चलाता है और बीएससी (ऑनर्स. नर्सिंग पोस्ट-सर्टिफिकेट) की डिग्री के लिए छात्रों को प्रशिक्षित करती है। संस्थान 50 से अधिक क्षेत्रों में विशेषता और सुपर स्पेशलिटी तृतीयक देखभाल सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रसिद्ध है। एक अच्छी तरह से सुसज्जित पुस्तकालय, हॉस्टल, जिम, स्विमिंग पूल, बास्केटबाल, वॉलीबॉल, स्क्वैश, सॉकर और टेनिस कोर्ट के साथ एम्स दिल्ली कई स्नातक, स्नातकोत्तर और सुपर-स्पेशलाइजेशन कोर्स प्रदान करता है। यह डॉक्टर पद की डिग्री भी प्रदान करता है। श्रेणी का आकार 73 (एमबीबीएस) +10 (एमटीआर) + 19 (ओपीएच) प्रति वर्ष तक सीमित है।

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) – भोपाल

भोपाल का एम्स स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (पीएमएसएसवाई) के तहत 2012 में स्थापित सात अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में से एक है। यह भोपाल, मध्य प्रदेश में स्थित एक चिकित्सा अनुसंधान सार्वजनिक संस्थान है। भोपाल का एम्स छात्रों को स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम प्रदान करता है। मेडिकल कॉलेज के अलावा, भोपाल के एम्स में एक अस्पताल और नर्सिंग कॉलेज भी है। कॉलेज में लगभग 550 लोगों का एक शैक्षिक कर्मचारियों का स्टाफ कार्यरत हैं। 2016 तक, 450 मेडिकल छात्र एमबीबीएस का कोर्स कर रहे थे और 240 छात्र नर्सिंग डिग्री कर रहे थे। संस्थान ने 2017 में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों को शुरू किया। भोपाल का एम्स हर साल एमबीबीएस के लिए 100 छात्रों और नर्सिंग के लिए 60 लेता है।

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) – भुवनेश्वर

भुवनेश्वर का एम्स स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अधीन है। 2012 में स्थापित, यह संस्थान भुवनेश्वर शहर के बाहर स्थित है। यह तीन वर्गों में विभाजित है – एक अस्पताल, एक मेडिकल कॉलेज और छात्र आवास क्षेत्र जो निर्माणाधीन है। अस्पताल में 978 बेड हैं और कलमा गांव में 350-बेड सैटेलाइट स्थान प्राप्त होने की उम्मीद है। मेडिकल कॉलेज में 41 विभाग हैं जबकि आवासीय परिसर में एमबीबीएस, नर्सिंग और संबद्ध विज्ञान के स्नातक छात्रों के लिए तीन लड़कों के छात्रावास और दो लड़कियों के छात्रावास शामिल हैं।

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) – जोधपुर

जोधपुर का एम्स, जोधपुर शहर के बाहरी इलाके में स्थित है। जोधपुर के एम्स की आधारशिला 2004 में वित्तमंत्री जसवंत सिंह द्वारा वापस रखी गयी थी, जबकि संस्थान 2012 में परिचालित हो गया था। 2013 से, जोधपुर के एम्स ने 100 एमबीबीएस और 60 बीएससी नर्सिंग (ऑनर्स) के छात्रों को प्रवेश करना शुरू कर दिया था। इसने 2013 में ओपीडी सेवाओं, 2016 में एमडी पाठ्यक्रमों और 20 विभागों तथा 56 सीटों के साथ 2017 में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम शुरू किया।

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) – पटना

पटना का एम्स उन 6 एम्स में से एक है जिन्हें सरकार ने 2004 में स्थापित करने का फैसला किया था। आधिकारिक तौर पर जयप्रकाश नारायण अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान विज्ञान संस्थान के नाम से जाना जाता है, पटना का एम्स एक मेडिकल कॉलेज है और मेडिकल रिसर्च पब्लिक यूनिवर्सिटी है जो पटना, बिहार में स्थित है। पटना उच्च न्यायालय द्वारा अवलोकनों की एक श्रृंखला के बाद, पटना के एम्स ने 25 दिसंबर 2012 को परिचालन शुरू किया। हालाँकि, पहले बैच में 50 छात्र थे लेकिन अगले वर्ष में छात्रों का प्रवेश दोगुना हो गया था। वर्तमान में, संस्थान में लगभग 108 विभाग सदस्य हैं और बीएससी नर्सिंग छात्र       भी हैं। एम्स द्वारा प्राप्त कुल बेड – पी लगभग 400 है।

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) – रायपुर

रायपुर का एम्स, रायपुर, छत्तीसगढ़ में एक सुगम स्थान पर स्थित है। कैंपस में मेडिकल कॉलेज, नर्सिंग इंस्टीट्यूट, मुर्दाघर, छात्रावास और 930 अस्पताल शामिल हैं, जो फरवरी 2014 से परिचालित है। यह कम लागत वाली चिकित्सा देखभाल तथा उपचार, आईपीडी सेवाएं, आपातकालीन सेवाएं और आयुष सेवाओं जैसी अन्य सुविधाएं भी प्रदान करता है। रायपुर का एम्स खुला व्यायामशाला, वॉलीबॉल कोर्ट, बैडमिंटन कोर्ट, क्रिकेट ग्राउंड इत्यादि से अच्छी तरह से सुसज्जित है।

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) – ऋषिकेश

ऋषिकेश के एम्स ने 2012 में 50 एमबीबीएस के छात्रों के साथ अपना शैक्षिक सत्र शुरू किया। इस समय, छात्रों के लिए 100 एमबीबीएस सीटें उपलब्ध हैं। ऋषिकेश के एम्स में विभिन्न क्षेत्रों में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम उपलब्ध है।

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) – मंगलगिरि

मंगलगिरि का एम्स चरण IV के एम्स में से एक है जो जुलाई 2014 में घोषित किए गए थे। मंगलगिरि के एम्स का शैक्षिक सत्र 2018 में सरकारी सिद्धार्थ मेडिकल कॉलेज, विजयवाड़ा में एक अस्थायी परिसर से शुरू हुआ। यह उम्मीद की जाती है कि परिसर दो वर्षों तक अस्थायी रहेगा।  सभी आठ विभागों के लिए एम्स विजयवाड़ा में आवश्यक संकाय नियुक्त किये गये है। आधुनिक सुविधाओं के साथ ही एक व्याख्यान कक्ष भी नवीनीकृत किया गया है।

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) – नागपुर

महाराष्ट्र राज्य के नागपुर शहर में स्थित, नागपुर के एम्स को 2014 में मंजूरी मिली और 2018 में अपना शैक्षिक सत्र शुरू कर दिया। वर्तमान में, सरकारी मेडिकल कॉलेज तथा अस्पताल, नागपुर में अस्थायी परिसर में परिचालन शुरू हो गया हैं। स्थायी परिसर में निर्माण कार्य 2017 में शुरू हुआ और 2021 में निर्माण कार्य पूरा होने की उम्मीद है।

सरकार ने जून 2018 में 11 और एम्स को मंजूरी दे दी है जो निम्नलिखित शहरों में स्थापित होगें

नाम शहर/नगर राज्य/केन्द्र

शासित

चरण
एम्स गोरखपुर गोरखपुर उत्तर प्रदेश चरण IV
एम्स कल्याणी कल्याणी पश्चिम बंगाल  
एम्स कामरू चंग्सरी असम चरण V
एम्स कश्मीर विजय पुर जम्मू और कश्मीर
एम्स कश्मीर अवन्तिपुर जम्मू-कश्मीर  
एम्स भटिंडा भटिंडा पंजाब  
एम्स बिलासपुर बिलासपुर हिमाचल प्रदेश  
एम्स मदुरै मदुरै तमिलनाडु  
एम्स बिहार दरभंगा बिहार  
एम्स देवघर देवघर झारखंड चरण VI
एम्स गुजरात सौंपे नहीं गए गुजरात  
एम्स हैदराबाद हैदराबाद तेलंगाना  

 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान का स्थिति मानचित्र

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान का स्थिति मानचित्र

Summary
Article Name
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानों की सूची
Author
Description
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) उच्च शिक्षा के सार्वजनिक चिकित्सा संस्थानों का एक समूह है। नई दिल्ली, ऋषिकेश, भोपाल, भुवनेश्वर, जोधपुर, पटना, रायपुर, गुंटूर और नागपुर में स्थित सभी 9 एम्स के बारे में और पढ़ें।