Home / Education / माता-पिता के लिए बच्चे पर परीक्षा के तनाव को कम करने हेतु युक्तियाँ

माता-पिता के लिए बच्चे पर परीक्षा के तनाव को कम करने हेतु युक्तियाँ

December 6, 2017


माता-पिता के लिए बच्चे पर परीक्षा के तनाव को कम करने हेतु युक्तियाँ

माता-पिता अपने बच्चों के बारे में सब कुछ जानते हुए भी या अनजाने में उनके मानसिक तनाव को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और यह तनाव बच्चों के जीवन में परीक्षा के समय दस गुना ज्यादा बढ़ जाता है। परीक्षाएं आपके बच्चे की मानसिकता को भी काफी प्रभावित कर सकती हैं। चाहे वह लड़की हो या लड़का उसे भयंकर तनाव से निपटने के लिए, आपकी मदद के साथ-साथ संपूर्ण मानसिक सहायता की आवश्यकता होती है। आप इन ‘परीक्षाओं के समय’ नीचे प्रस्तुत आसान युक्तियों को पढ़कर, अपने बच्चे की काफी मदद कर सकते हैं।

प्रोत्साहित करें

इसके महत्व पर पर्याप्त जोर नहीं दिया जा सकता है, क्योंकि कुछ अनुचित शब्द आपके बच्चों के आत्म-सम्मान को चूर-चूर कर सकते हैं, लेकिन एक उत्साहजनक शब्द उन्हे काफी मुश्किल लक्ष्य पर भी विजय प्राप्त करने का आत्मविश्वास प्रदान कर सकता है। परीक्षा के समय प्रतिभाशाली छात्र भी तनाव की स्थित महसूस कर सकते हैं, इसलिए एक अभिभावक होने के नाते आप उनके लिए सहायक हाव-भाव की अभिव्यक्ति करके, उनको प्रोत्साहित कर सकते हैं।

माता-पिता बने, लेकिन साथ में एक मित्र भी

एक माता-पिता के रूप में सवाल करने और आधिकारिक व्यक्तित्व के कारण आप अपने बच्चे के स्वभाव से अच्छी तरह परिचित नहीं हो पाएंगे,क्योंकि आपका बच्चा पहले से ही सामान्यतः से अधिक दबाव में है, इसलिए यह रिस्ता न तो आपकी और न ही आपके बच्चे की मदद करेगा। इसलिए अध्ययन के बारे में लेकर उनकी पीठ पर कोई अपना बोझ न डालें, बल्कि अपने बच्चे के प्रति एक दोस्ताना दृष्टिकोण अपनाएं। उनके लिए कोई नियमावली का क्रियान्वयन न करें, बल्कि उनकी योजनाओं और राय को अपनाने की कोशिश करें और जब आप उनकी कोई उचित योजना न देखें, तभी अपनी आवाज उठाएं। उन्हे उन तनावों को स्पष्ट करने के लिए प्रोत्साहित करें, जो उन्हे बाधित कर रहे हैं और उन्हे आश्वस्त कराएं कि उनकी भावनाएं सामान्य हैं। इस प्रकार आप उनके लिए एक अध्ययन के अनुकूल तनाव मुक्त वातावरण का निर्माण कर सकते हैं।

यथार्थवादी सीमाओं का निर्धारण

हर बच्चा एक-दूसरे से भिन्न होता है। इसलिए यह बताने की कोशिश की जा रही है कि सामान्य पढ़ाई करने वाले बच्चे से 90 प्रतिशत से अधिक अंकों की उम्मीद न करें। इसके अलावा, सभी बच्चों में प्रतिभाएं भी विविध होती हैं, इसलिए जो बच्चा गणित में अच्छा है, तो वह उसके विपरीत नृत्य में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकता है। इसलिए उन पर अवास्तविक उम्मीदों का बोझ न डालें और उन्हे उन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करें, जो वे प्राप्त कर सकते हैं। जब वे उसको प्राप्त कर लें, तब आप उनके लिए उच्च स्तर का निर्धारण करें।

कई कार्यों और कार्यनीति के लिए प्रोत्साहितन करें

परीक्षा के दौरान ऐसा करना थोड़ा अजीब लग सकता है, लेकिन हर किसी को परीक्षा के दौरान अपने दिमाग को थोड़ी देर के लिए विश्राम करने देना चाहिए। तनाव से बचने के लिए विश्राम और मजेदार गतिविधियों के लिए थोड़ा समय निकालें और तत्पश्चात अपना मन परीक्षा की तैयारियों में लगा सकते हैं। माता-पिता अपने बच्चों को व्यायाम करने के लिए भी प्रोत्साहित करें और अपने बच्चे के साथ एक दोस्त की तरह पेश आने का प्रयास करें। कुछ समय तक टीवी देखने की अनुमति देना भी गलत नहीं है। अध्ययनों से पता चलता है कि एक तरोताजा दिमाग बेहतर और तेजी से विद्या प्राप्त करने में सक्षम होता है।

स्वास्थ्य पर ध्यान दें

परीक्षा के दौरान बच्चे अक्सर अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने में नाकाम रहते हैं। इसलिए इस समय आपके पास अपने बच्चे की सहायता करने का एक अच्छा मौका होता है। उन्हे आठ घंटे की नींद और पूर्ण भोजन करने के लिए प्रोत्साहित करने के साथ-साथ एनर्जी ड्रिंक (ऊर्जा प्रदान करने वाले पेय) का सेवन करने के लिए प्रोत्साहित करें और फास्ट फूड का उपभोग करने पर प्रतिबंध लगाएं। एंटीऑक्सिडेंट के साथ तरल पदार्थों और भरपूर फल का सेवन करने पर जोर दें। बच्चों को योग का अभ्यास करने के लिए भी प्रोत्साहित करें।

परीक्षा में सफलता अनिवार्य रूप से आपके और आपके बच्चे के द्वारा की जाने वाली मेहनत पर निर्भर करती है। परीक्षा का समय काफी अमूल्य होता है और सफलता का मार्ग बाधाओं से परिपूर्ण होता है, लेकिन आप एक सहायक माता-पिता बनकर परिस्थिति में बदलाव ला सकते हैं। हम आशा करते हैं कि ऊपर दी हुई युक्तियाँ आपके लिए काफी मददगार साबित होगीं।