Home / / विषु – केरल का नया साल

विषु – केरल का नया साल

April 16, 2018
by


Please login to rate

विषु - केरल का नया साल

विषु के बारे में

विषु का शुभ दिन केरल में रहने वाले लोगों और तमिलनाडु के आसपास के कुछ क्षेत्रों के लिए नए साल की शुरुआत का प्रतीक है। इन क्षेत्रों की प्रमुख भाषा मलयालम है, विषु को मलयालम के नए साल के रूप में भी जाना जाता है। यह दिन आनन्द और खुशी से भरा हुआ होता है।

संस्कृत में विषु के त्यौहार का मतलब ‘बराबर’ होता है और इस प्रकार एक स्पष्ट संदेश भेजता है कि यह सिर्फ मलयालियों द्वारा मनाए जाने वाला त्यौहार नहीं है। वास्तव में, यह दिन देश के विभिन्न राज्यों में एक अलग नाम के तहत विभिन्न अनुष्ठानों और रीति-रिवाजों के साथ एक नए साल के रूप में मनाया जाता है। असमिया इसे बिहु के रूप में, पंजाबी वैसाखी के रूप में और ओडिशा के लोग इसे विश्वा संक्रांति के रूप में मनाते हैं। इस वर्ष विषु 14 अप्रैल को मनाया गया है।

विषु का महत्व  

व्यापक रूप से मनाया जाने वाला यह त्यौहार, मेष राशि पर सूर्य के गुजरने पर दक्षिणी नववर्ष के रूप में चिन्हित है। ज्योतिष के अनुसार, यह वसंत-विषुव का प्रतिनिधित्व करता है और इसलिए, इस दिन को वसंत विषुव दिनों में से एक भी माना जाता है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन भगवान कृष्ण की मृत्यु हुई थी। यही कारण है कि विषु को भगवान विषु दिवस भी कहा जाता है। इसके अलावा, विषु दिवस वाले दिन, दिन और रात दोनों बराबर होते है, जिसने पुनः संस्कृत में विषु के अर्थ पर प्रकाश डाला है।

इस उत्सव का मुख्य संदेश बेहतर शुरुआत करना है। यह त्यौहार भाग्य, समृद्धि और आशा के दिन के साथ जुड़ा हुआ है। यह एक ऐसा दिन माना जाता है, जो आने वाले शुभ नए साल के प्रवेश द्वार को खोलेगा।

विषु के अनुष्ठान और समारोह

इस दिन से जुड़े कई अनुष्ठान हैं और उनमें से सबसे प्रमुख ‘विषुक्कणीֹ’ है। नए साल की सुबह में सबसे पहले ‘विषुक्कणीֹ’ के दर्शन करना अत्यधिक शुभ माना जाता है। विषुक्कणीֹ फूल, फल, सब्जियां, सोना, नारियल, दर्पण, अनाज, दीपक और पवित्र हिंदू पुस्तकें जैसे भगवतगीता, रामायणम और कई अधिक शुभ चीजों का एक संग्रह है। पाँच धातुओं की बनी इन सभी वस्तुओं को एक बड़े पात्र में एक गोल आकार में स्थापित करके पूजा कक्ष में रखा जाता है। भगवान कृष्ण की मूर्ति को भी पात्र में रखा जाता है। संपूर्ण व्यवस्था विषु दिवस की पूर्व संध्या पर घर की मालिकिन द्वारा की जाती है।

विषुक्कणीֹ में उपयोग की जाने वाली विशेष चीजों में कच्चा आम, सुनहरे रंग का खीरा, कटहल आदि का उपयोग किया जाता है। विषु त्यौहार के समय एक विशेष फूल खिलता है। सुनहारा कैसिया फिस्टुला फूल, जिसे कोनाप्पो के नाम से भी जाना जाता है, विषुक्कणीֹ के अनुष्ठान में इस फूल को एक विशेष स्थान प्राप्त है।

विषुक्कणीֹ प्रदर्शन करने के बाद, परिवार के सभी सदस्य स्नान करके नए कपड़े पहनते हैं। इसके अलावा, भविष्य में समृद्धि पाने के लिए बच्चों, पड़ोसियों, नौकरों को सिक्के बाँटने का रिवाज है। इसके साथ-साथ, लोग नए साल का स्वागत करने के लिए मोमबत्तियाँ और पटाखे छुड़ाते हैं। आज के दिन, केरल में लोगों का मंदिरों में जाने का एक आम दृश्य दिखाई देता है।

परंपरागत अनुष्ठानों का पालन करने के अलावा, विशेष रूप से बनाए गए व्यंजनों की दावत देकर भी विषु त्यौहार मनाया जाता है। आम, लौकी और कटहल सहित मौसमी फलों और सब्जियों का उपयोग करके व्यंजन तैयार किए जाते हैं। इस दिन पर बने व्यंजनों के बारे में एक दिलचस्प बात यह है कि मीठा खट्टा, नमकीन और कड़वे पकवान को बराबर मात्रा में बनाये जाते हैं जो विषु की ‘समानता’ के अर्थ को सार्थक करते हैं। इस दिन तैयार किए गए कुछ लोकप्रिय व्यंजनों में मम्पाजपाचाडी (आम का खट्टा सूप), कांजी (मसाले, चावल और नारियल के दूध से बने पेय) और वेपंपंपुरसम (नीम का कड़वा व्यंजन) शामिल हैं।

विषु त्यौहार एक नए साल की शुरूआत की तुलना में कहीं अधिक महत्व रखता है। यह एक धार्मिक उत्सव है, जो एक अच्छा भाग्य लाने का अवसर प्रदान करता है और प्रियजनों के साथ समय बिताने का अवसर देता है। यह समान रूप से परिवार के युवा और बुजुर्गों दोनों के द्वारा मिलकर मनाया जाता है।

साराँश
लेख का नाम – विषु- केरल का नया साल

लेखिका- हर्षिता शर्मा

विवरण- विषु त्यौहार का मुख्य संदेश अपने साल की बेहतर शुरुआत करना है। यह त्यौहार भाग्य, समृद्धि और आशा के दिन के साथ जुड़ा हुआ है। यह एक ऐसा दिन माना जाता है जो आने वाले शुभ नए साल के प्रवेश द्वार को खोलता है।