Home / Government / केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल- पद और भर्ती

केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल- पद और भर्ती

July 9, 2018
by


Please login to rate

केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल

देश की सुरक्षा हमारे लिए काफी मायने रखती है और यह पुलिस बल ही है जो किसी भी स्थान पर शांति और एकता बनाए रखने में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) आंतरिक सुरक्षा बनाए रखते हुए सीमाओं की सुरक्षा में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। भारत में सुरक्षा बलों को व्यापक रूप से दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है – भारतीय सशस्त्र बल और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल।

भारतीय सशस्त्र बल और अर्धसैनिक बलों को छोड़कर, अन्य सभी को पुलिस बल के अन्तर्गत माना जाता है। केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल में मुख्य रूप से सात सुरक्षा बल शामिल हैं जो देश की सीमाओं की रक्षा करते हैं।

केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल में मुख्य रूप से, असम राइफल्स (एआर), सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ), भारत-तिब्बती सीमा पुलिस (आईटीबीपी), राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी), और सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) शामिल हैं।

असम राइफल्सअसम राइफल्स

असम राइफल्स सबसे पुराना बल है जो केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के तहत आता है। असम राइफल्स का गठन 1835 में हुआ है, जब यह ब्रिटिश शासन के तहत अर्धसैनिक बल के रूप में कार्य करता था। उस समय अर्धसैनिक बल को “कछार लेवी” नाम दिया गया था। वर्तमान में इस बल में 46 बटालियन और लगभग 63,000 कर्मचारी हैं। गृह मंत्रालय द्वारा असम राइफल्स बल का नेतृत्व किया जाता है और सेना सीमा सुरक्षा संचालन, आंतरिक सुरक्षा के प्रावधान, चिकित्सा सहायता और दूर-दराज के क्षेत्रों में शिक्षा सहित कई भूमिकाएं निभाता है।

यह बल युद्ध के समय एक युद्ध बल के रूप में कार्य कर सकते हैं। 2002 से सरकार की नीति के अनुसार, असम राइफल्स पर एक सीमा एक बल की भारत-म्यांमार बैरियर की सुरक्षा का दायित्व दिया गया है।

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ)सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ)

1965 के युद्ध को ध्यान में रखते हुए, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का गठन शांतिकाल के दौरान भारत की भूमि सीमाओं की रक्षा के लिए अंतर्राष्ट्रीय अपराध को रोकने के लिए किया गया था। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) भारत संघ का एक सशस्त्र बल है जिसका नेतृत्व आईपीएस (भारतीय पुलिस सेवा) के एक अधिकारी द्वारा किया जाता है, जिसे महानिदेशक (डीजी) के रूप में नामित किया जाता है। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) में 257,363 कर्मचारी के बल के साथ 186  बटालियन हैं।

इसमें एक एयर विंग, मैरिन विंग, आर्टिलरी रेजिमेंट और कमांडो की श्रेणियाँ हैं। वर्तमान में बीएसएफ दुनिया का सबसे बड़ा सीमा-सुरक्षा बल है। यह पाकिस्तान और बांग्लादेश के साथ साझा भारतीय सीमाओं की रक्षा करता है एवं अंतर्राष्ट्रीय सीमा (आईबी) और नियंत्रण रेखा (एलओसी) दोनों पर तैनात किये जाते हैं।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ)केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ)

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) को भारत का सबसे बड़ा केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल माना जाता है। यह भारत सरकार के गृह मंत्रालय के तहत काम करता है। सुरक्षा व्यवस्था में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) एक प्रमुख भूमिका निभाता है। यह सक्रिय रूप से आंतरिक सुरक्षा की देखभाल करते हुए देश के हर हिस्से में तैनात किये जाते हैं। सीआरपीएफ दल संयुक्त राष्ट्र मिशनों में भी तैनात किए जा रहे हैं। आम चुनावों के दौरान भी सीआरपीएफ एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। सीआरपीएफ में 239  बटालियन और 313,678 कर्मचारी हैं।

सीआरपीएफ को 2 श्रेणियों में बाँटा गया है

रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ)

कमांडो बटालियन फॉर रिसोल्यूट एक्शन (सीओबीआरए)

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ)केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ)

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) पूरे भारत में औद्योगिक इकाइयों, सरकारी परियोजनाओं और प्रतिष्ठानों को सुरक्षा प्रदान करने की जिम्मेदार है और यह सीएपीएफ का मुख्य अंग है। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल भारत में बंदरगाहों, वायुमार्गों और कुछ अन्य अंतरिक्ष प्रतिष्ठानों को सुरक्षा सेवाएं प्रदान करता है। सीआईएसएफ निजी और सरकारी संगठनों एवं संस्थानों जैसे टीआईएससीओ, जमशेदपुर, विधानसभा, बैंगलोर, आईएआरआई, दिल्ली आदि को परामर्श सेवाएं प्रदान करता है। सीआईएसएफ के तहत कुछ आरक्षित बटालियन हैं जो कानून और व्यवस्था के लिए राज्य पुलिस के साथ काम करते हैं। सीआईएसएफ से जुड़ी एक अनूठी विशेषता यह है कि इसमें एक फायर विंग है जो प्रमुख अग्नि प्रकोप के दौरान सहायता प्रदान करता है।

भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी)भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी)

सीआरपीएफ अधिनियम के तहत, 1962 में भारत-चीन युद्ध को ध्यान में रखते हुए भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल की शुरुआत की गई थी। इसे चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र के साथ भारत की सीमा पर तैनात किया जाता है। 56  बटालियनों और लगभग 90,000 कर्मचारी के बल के साथ, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल को सिविल चिकित्सा शिविर, आपदा प्रबंधन, परमाणु, जैविक और रासायनिक आपदाओं के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) में एक वाटर विंग भी है जो एक विशेष इकाई है। यह बल हिमालयी क्षेत्र की नदी सीमाओं की रक्षा करता है जिसमें पांगोंग झील, अरुणाचल प्रदेश में ब्रह्मपुत्र क्षेत्र और जम्मू-कश्मीर की सिंधु नदी शामिल है।

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी)राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी)

आमतौर पर राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) को मीडिया में “ब्लैक कैट्स” (काले रंग की पोशाक और बिल्ली के प्रतीक चिन्ह के कारण) के नाम से भी जाना जाता है, जो एनएसजी गृह मंत्रालय के अधिकार के तहत आता है। इसे ऑपरेशन ब्लू स्टार और इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1984 में शुरू किया गया था। एनएसजी में आतंकवादी हमलों का मुकाबला,  जमीन पर कब्जा, समुद्र और वायु, पोस्ट विस्फोट जाँच, बम निपटान, बंधक बचाव मिशन का अच्छी तरह से संचालन करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। इसमें रक्षा बलों के साथ-साथ पुलिस बल के अधिकारी भी शामिल होते हैं।

मेहरम नगर, पालम, नई दिल्ली के मुख्यालय में , इस संगठन में चार विंग हैं

  • स्पेशल एक्शन ग्रुप (एसएजी)
  • स्पेशल रेंजर ग्रुप (एसआरजी)
  • स्पेशल कम्पोसिट ग्रुप (एससीजी)
  • नेशनल बम डाटा सेंटर

 

सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी)सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी)

सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) गृह मंत्रालय के अधीन है। इसे कभी-कभी सशस्त्र सीमा बल के रूप में जाना जाता है। 1963  में चीन-भारत युद्ध के बाद सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की शुरुआत हुई। वर्ष 2001 से पहले, इसे विशेष सेवा ब्यूरो के रूप में जाना जाता था। वर्तमान में, सशस्त्र सीमा बल को नेपाल और भूटान सीमाओं (एक सीमा के कारण, एक बल अवधारणा) के प्रबंधन के लिए नियुक्त किया गया है। सशस्त्र सीमा बल भारत में आंतरिक सुरक्षा कर्तव्यों, चुनाव कर्तव्यों और कानून तथा व्यवस्था कर्तव्यों का पालन करता है। इसके अलावा, इस बल को जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद विरोधी अभियानों और झारखंड, बिहार और छत्तीसगढ़ में नक्सल विरोधी अभियान के कामों में लगाया जाता है। वर्तमान में, सशस्त्र सीमा बल में 67  बटालियन हैं।

केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल में भर्ती

  • केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) में भर्ती संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) के साथ-साथ स्टाफ चयन आयोग (एसएससी) के माध्यम से आयोजित की जाती है।
  • आप सीधे प्रत्येक पुलिस बल की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं और अपनी योग्यता के अनुसार रिक्त पदों की जाँच कर सकते हैं।
  • संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) सहायक कमांडेंट्स के पद के लिए परीक्षा आयोजित करता है जिसके माध्यम से अधिकारी सीएपीएफ में भर्ती किए जाते हैं। नियुक्त अधिकारियों को आम तौर पर सीधे नियुक्त राजपत्रित अधिकारी के रूप में जाना जाता है।
  • एसएससी एक प्रतिस्पर्धी परीक्षा आयोजित करता है जिसके माध्यम से सब इंस्पेक्टरों की भर्ती की जाती है जिन्हें प्रत्यक्ष रूप से नियुक्त अधीनस्थ अधिकारी के रूप में जाना जाता है।
  • कर्मचारी चयन आयोग कॉन्स्टेबल के पद के लिए एक अलग परीक्षा आयोजित करता है।
  • सीएपीएफ (यूपीएससी) के फॉर्म आमतौर पर अप्रैल के महीने में उपलब्ध होते हैं और इसकी परीक्षा जुलाई या अगस्त के महीने में आयोजित की जाती है।

 

Summary
Article Name
केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल- पद और भर्ती
Author
Description
देश की सुरक्षा हमारे लिए काफी मायने रखती है और पुलिस बल जो किसी भी स्थान पर शांति और एकता कायम रखने में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। भारतीय सशस्त्र बलों और अर्धसैनिक बलों को छोड़कर बलों की पूरी सूची देखें।