Home / Government / 2018 में मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाएं

2018 में मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाएं

November 22, 2018
by


Please login to rate

2018 में मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाएं

मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई सभी योजनाओं का विवरण

2019 के लोकसभा चुनावों के नजदीक होने साथ, सभी की आंखें पिछले चार वर्षों में सरकार के प्रदर्शन की ओर रुख कर रही हैं। 2014 में मोदी सरकार सत्ता में आई और तब से, इसने कई योजनाएं और कार्यक्रमों की शुरुआत की है। यह 2019 के चुनावों से पहले भाजपा को अपने आप को साबित करने का अंतिम वर्ष है।

अब तक कई नई योजनाएं शुरू की गई हैं और कुछ पुरानी योजनाओं को पुनर्गठित किया गया है या उनकी प्रगति के लिए उनका विस्तार किया गया है। पिछड़े राज्यों के उत्थान से महिलाओं और बच्चों के बीच कुपोषण के मुद्दे को हल करने के लिए, ग्रामीण इलाकों में सौर संयंत्रों की स्थापना, युवाओं के बीच नशीली दवाओं की तस्करी को रोक कर मोदी सरकार अपनी योजनाओं और कार्यक्रमों के माध्यम से भारतीय अर्थव्यवस्था के सभी कमजोर क्षेत्रों का ख्याल रख रही है।

मोदी सरकार द्वारा अपने देश के नागरिक और पूरे देश के लाभ के लिए शुरू की गई योजनाएं / कार्यक्रम निम्नलिखित हैं।

  1. आयुष्मान भारत-राष्ट्रीय स्वास्थ्य संरक्षण मिशन

आयुष्मान भारत योजना केंद्र सरकार की एक योजना है जो गरीब परिवारों के कल्याण पर केंद्रित है और उन्हें चिकित्सा लाभ प्रदान करती है। इस योजना में चल रही केंद्रीय प्रायोजित योजनाएं- राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (आरएसबीवाई) और वरिष्ठ नागरिक स्वास्थ्य बीमा योजना (एससीएचआईएस) शामिल हैं। 72 वें स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर, हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस योजना की घोषणा की। 23 सितंबर 2018 को, आयुष्मान भारत योजना को अंततः प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान के रूप में शुरू किया गया था।

  1. सोलर चरखा मिशन

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 27 जून, 2018 को सोलर चरखा मिशन शुरू किया, जिसमें सरकार हजारों कारीगरों को 550 करोड़ रुपये की सब्सिडी प्रदान करेगी और ग्रामीण इलाकों में रोजगार उपलब्ध कराएगी। सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई) पूर्वोत्तर सहित देश भर में 50 पहचान समूहों को कवर करेगा और प्रत्येक समूह में 400 से लेकर 2,000 कारीगरों को नौकरी के अवसर दिलाएगा। इस मिशन के साथ, सरकार ने एक डिजिटल प्लेटफॉर्म और एक संपर्क पोर्टल भी लॉन्च किया है जिस पर पांच लाख नौकरी तलाशने वाले लोग सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई) से जुड़ सकते हैं।

  1. आकांक्षी जिलों के परिवर्तन का कार्यक्रम

एनआईटीआई आयोग ने “आकांक्षा जिलों में परिवर्तन” कार्यक्रम की घोषणा की जिसका लक्ष्य बुनियादी सुविधाओं, बुनियादी सुविधाओं की सुविधा, स्वास्थ्य सुविधाओं, जीवन स्तर के मानकों आदि के संदर्भ में भारत के 101 पिछड़े जिलों को तेजी से बदलना और ऊपर उठाना है। इस कार्यक्रम में फोकस के प्राथमिक क्षेत्र स्वास्थ्य हैं और पोषण, कृषि और जल संसाधन, शिक्षा, वित्तीय समावेशन और कौशल विकास, और मूलभूत आधारभूत संरचना जो सरकार को यह तय करने में मदद करेगी कि इस कार्यक्रम के तहत किस जिले ने बेहतर प्रदर्शन किया है।

  1. राष्ट्रीय पोषण मिशन (पोषण अभियान)

8 मार्च, 2018 को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर राजस्थान के झुन्झुनू जिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा “बेटी बचाओ बेटी बढ़ाओ” योजना के विस्तार के रूप में राष्ट्रीय पोषण मिशन की शुरूआत की गई थी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य 0-6 साल तक के बच्चों, किशोरावस्था की लड़कियों, गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को समय-समय पर उचित पोषण तत्व उपलब्ध कराना है। युवा बच्चों, महिलाओं और युवा लड़कियों के बीच एनीमिया को बढ़ने से रोकना और जन्म के समय कम वजन वाले शिशुओं मे प्रति वर्ष कम से कम 2% की कमी लाना।

  1. एंटी-नारकोटिक्स योजना

देश में नशीली दवाओं की खपत और तस्करी को रोकने के लिए केंद्र सरकार द्वारा 2017 से 2020 तक तीन साल के लिए एंटी-नारकोटिक्स योजना को आगे बढ़ाया गया है। सरकार ने इस योजना के लिए 21 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की है। यह योजना आम तौर पर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से सम्बन्धित अंतर-राज्य और सीमा पार की नशीली दवाओं की तस्करी को नियंत्रित करने में सहायता करती है।

  1. गोबर-धन योजना

इस साल 30 अप्रैल को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और उमा भारती (स्वच्छता और पेयजल केंद्रीय मंत्री) द्वारा गैलवनाइजिंग ऑर्गेनिक जैव-कृषि संसाधन धन (गोबर-डीएचएएन) योजना शुरू की गई थी। गोबर-धन योजना सरकार द्वारा भारतीय गांवों में रहने वाले लोगों की स्थिति में सुधार करने और गाँवों को खुले में शौच मुक्त बनाने का एक प्रयास है। स्वच्छ भारत पहल का एक भाग, यह योजना ठोस अपशिष्ट और पशुओं के गोबर को खाद व बायोगैस में उपयोगी रूपांतरण करने पर ध्यान केंद्रित करेगी।

  1. हरित क्रांति-कृषोन्नति योजना

हरित क्रांति-कृषोन्नति योजना को आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीईए) द्वारा 12वीं पंचवर्षीय योजना से 2019-20 तक आगे बढ़ा दिया गया है। इस योजना में एक ही उद्देश्य के तहत 11 विभिन्न योजनाएं और मिशन शामिल हैं। इस योजना का मुख्य उद्देश्य संपूर्ण कृषि और सम्बन्धित विभाग का व्यापक विकास करना है। यह योजना किसानों के कल्याण के लिए शुरू की गई है और “2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने” की दिशा में उठाया गया एक बड़ा कदम है।

  1. समग्र शिक्षा योजना

भारत में विद्यालय स्तर पर शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के संदर्भ में 24 मई, 2018 को मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) द्वारा समग्र शिक्षा योजना शुरू की गई थी। यह एक अतिव्यापी कार्यक्रम है जो डिजिटल प्रौद्योगिकी को शामिल करेगा और विद्यालय शिक्षा प्रणाली में कौशल विकास शुरू करेगा। कार्यक्रम के तहत विद्यालयों में पुस्तकालयों की वृद्धि करने के लिए पांच हजार से लेकर बीस हजार रुपये तक का वार्षिक अनुदान प्रदान किया जाएगा। यह योजना प्रारंभिक-विद्यालय से कक्षा 12 तक के विद्यालयों की शिक्षा को समग्र रूप से व्यवहारित करने के लिए सर्व शिक्षा अभियान (एसएसए), राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान (आरएमएसए), और टीचर एजुकेशन (टीई)को एकीकृत करती है।

  1. अटल भूजल योजना

अटल भूजल योजना केंद्र सरकार की 6,000 करोड़ रुपये की महत्वाकांक्षी जल संरक्षण योजना है जो भूजल स्तर के कम होने के गहन संकट से निपटने के लिए शुरू की गई है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य भूजल स्तर को पुनर्जीवित करना और कृषि प्रयोजनों के लिए पर्याप्त जल संग्रहण बनाना है, सतही जल निकायों का कायाकल्प करना ताकि भूजल स्तर में वृद्धि की जा सके, खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में, भूजल के स्रोतों को पुनर्जीवित करना और स्थानीय स्तर पर लोगों को शामिल करके पानी का प्रभावी उपयोग सुनिश्चित करना। यह योजना गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और मध्य प्रदेश जैसे जल-संकट वाले राज्यों में शुरू की गई थी।

  1. पहला “खेलो इंडिया स्कूल गेम्स”

भारत सरकार ने 31 जनवरी से 8 फरवरी, 2018 तक नई दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में खेलो इंडिया स्कूल गेम्स (केआईएसजी) के पहले संस्करण का उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम ने भारत की युवा खेल प्रतिभा और खेल में उनकी क्षमता पर प्रकाश डाला है। केआईएसजी के पीछे का मुख्य उद्देश्य देश में खेले जाने वाले सभी खेलों की मजबूत नींव बनाना और भारत को एक महान खेल राष्ट्र बनाने के लिए जमीनी स्तर पर खेल संस्कृति को पुनर्जीवित करना था। इस भव्य आयोजन में अंडर -17 आयु वर्ग में 16 प्रकार के खेलों  को आयोजित किया गया था। इस कार्यक्रम में सभी 29 राज्यों और 7 केंद्र शासित प्रदेशों के लगभग 5,000 स्कूली बच्चों ने भाग लिया।

  1. राष्ट्रीय बांस मिशन (बजट 2018 के तहत पुनर्गठित)

बांस से संबंधित किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए, पूर्वोत्तर राज्यों में वाणिज्यिक बांस की खेती को बढ़ावा देने के लिए केंद्रीय बजट 2018 में सरकार द्वारा राष्ट्रीय बांस मिशन का पुनर्गठन किया गया है। केंद्र सरकार ने देश में एक उद्योग के रूप में बांस उत्पादन के समग्र विकास को बढ़ावा देने के लिए मिशन के प्रति 1,290 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। यह बांस के किसानों और समुदायों को निरंतर आय का स्रोत प्रदान करेगा। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सरकार का प्रमुख उद्देश्य इस मिशन को प्रयोग में ले कर आवास के लिए बांस के घरों की स्थापना करना है।

  1. एमएसएमई के लिए 59 मिनट में एक करोड़ रूपये का ऋण

मोदी प्रशासन ने दिवाली की पूर्व संध्या पर सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) के लिए इस योजना की घोषणा की। इस योजना के अनुसार, योग्य उद्यम 1 करोड़ रुपये तक के ऋण का लाभ उठा सकते हैं और इसे एक घंटे के भीतर मंजूरी दे दी जाएगी। आपको बस सिडबी पोर्टल पर पंजीकरण करना है और इसे मंजूरी मिलने की प्रतीक्षा करें। इस योजना के माध्यम से मोदी सरकार का उद्देश्य देश के एमएसएमई क्षेत्र को ऊपर उठाना है क्योंकि यह महत्वपूर्ण है जो अर्थव्यवस्था की ओर योगदान देता है।

  1. दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्या योजना

25 सितंबर 2014 को लॉन्च की गई, दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्या योजना, जिसे डीडीयू-जीकेवाई भी कहा जाता है, का उद्देश्य भारत के ग्रामीण क्षेत्र को ऊपर उठाना है। मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई यह शीर्ष योजना 15 से 35 साल के बीच के आयु वर्ग के लोगों को लक्षित करती है। इसका दृष्टिकोण ग्रामीण युवाओं को विश्व स्तर पर प्रासंगिक और आर्थिक रूप से स्वतंत्र कार्यबल में बदलना है। यह गरीब ग्रामीण परिवारों की आय में विविधता जोड़ने और ग्रामीण युवाओं के करियर आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए भी कार्यरत है। 1,500 करोड़ रुपये अलग रखे गए हैं जिनका उपयोग उनकी नियोक्तायता को बढ़ाने के लिए किया जाएगा। मोदी सरकार की कौशल विकास पहल के हिस्से के रूप में, वितरण सीधे डिजिटल वाउचर के माध्यम से छात्रों के बैंक खातों में किया जाएगा।

  1. प्रधानमंत्री ‘मेक इन इंडिया’

मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना का उद्देश्य कंपनियों को केवल देश में अपने उत्पादों को बनाने के लिए प्रोत्साहित करना है। यह भारतीय बाजार में अधिक विदेशी निवेश भी लेना चाहता है। 25 सितंबर 2014 को शुरू हुई, यह प्रधानमंत्री ‘मेक इन इंडिया’ योजना सभी क्षेत्रों में 100% एफडीआई (विदेशी प्रत्यक्ष निवेश) परमिट करती है, लेकिन 25 क्षेत्रों, अर्थात् रक्षा उद्योग (49%), भारत की मीडिया (26%) और अंतरिक्ष उद्योग (74) %)। इस योजना के शुभारंभ के बाद, निवेश प्रतिबद्धताओं के रूप में भारत को 16.40 लाख करोड़ रुपये और निवेश पूछताछ के रूप में 1.5 लाख करोड़ रूपए दिए गए थे। इसके कारण, सितंबर 2014 में, भारत ने एफडीआई के लिए शीर्ष वैश्विक गंतव्य के रूप में अमेरिका और चीन को पार कर लिया।

  1. स्वच्छ भारत अभियान

यह मोदी सरकार योजना की स्वच्छ भारत मिशन के रूप में भी जानी जाती है। 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी के जन्मदिन पर आधिकारिक तौर पर लॉन्च की गई, इस मिशन के पास 2 अक्टूबर 2019 तक भारत को खुले में शौच से मुक्त कराने का दृष्टिकोण है। इसका उद्देश्य बुनियादी क्षेत्रों, सड़कों और ग्रामीण क्षेत्रों, कस्बों और शहरों की सड़कों को साफ करना है। इसका उद्देश्य समुदाय के स्वामित्व वाले और घरेलू स्वामित्व वाले शौचालयों का निर्माण करना है। 2014 से, कुल 86 मिलियन शौचालयों का निर्माण किया गया है।

16.सांसद आदर्श ग्राम योजना

इस योजना का शुभारंभ भारत के प्रधानमंत्री, नरेन्द्र मोदी जी ने जयप्रकाश नारायण के जन्म दिवस के रूप में 11 अक्टूबर 2014 को शुरू किया, यह योजना गांवों में सांस्कृतिक और सामाजिक विकास पर केंद्रित है। ग्रामीण विकास कार्यक्रम के दो मुख्य उद्देश्य हैं। पहला मॉडल गांवों को विकसित करना है जिन्हें आदर्श ग्राम कहा जाएगा। इस योजना का उद्देश्‍य मौजूदा योजनाओं के माध्यम से हासिल किया जाएगा साथ ही साथ पहल के रूप में तैयार रूपरेखा हर गांव के लिए अलग-अलग होगी। दूसरा उद्देश्य स्थानीय विकास के लिए सहायक मॉडल के रूप में है जो अन्य गांवो को विकास की ओर ले जाएगा।

  1. मिशन इंद्रधनुष

भारत सरकार द्वारा 25 दिसंबर 2014 को इस स्वास्थ्य मिशन की शुरुआत की गई थी। इसका प्राथमिक लक्ष्य 2 साल से कम उम्र के सभी बच्चों और गर्भवती महिलाएं को बीमारी से छुटकारा दिलाने के लिए समय पर टीका लगवाने के लिए कई बीमारियों जैसे हेपेटाइटिस बी, खसरा, तपेदिक, पोलिओमाइलाइटिस, टेटनस, खांसी, हैमोफिलस इन्फ्लूएंजा टाइप बी, जापानी एनसेफलाइटिस, निमोनिया, रोटावायरस, रूबेला और डिप्थीरिया जैसी बीमरियों से रोका जा सकता है।

इस योजना का लक्ष्य पहले चरण में देश में 201 जिलों की पहचान करना है, जिसमें बच्चों को टीके नहीं लगे हैं।  कुल मिलाकर, 201 जिलों में से 82 जिले केवल चार राज्य उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश और राजस्थान से हैं जिन जिलों को चुना गया है उसमें भारत के लगभग 50%  बच्चों को टीके नहीं लगे हैं। इस महत्वपूर्ण सरकारी योजना का क्रियान्वयन और नियोजन पल्स पोलियो टीकाकरण (पीपीआई) के समान है।

  1. बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना को15 जनवरी 2015 को बाल यौन अनुपात के मुद्दे से निपटने के लिए शुरू किया गया था। 2011 के जनगणना आंकड़ो के अनुसार (बाल लिंग अनुपात) 1000 लड़कों कें अनुपात में 918 लड़कियों का आंकड़ा पाया गया है। इसका उद्देश्य लड़कियों के लिए मौजूदा कल्याणकारी सेवाओं में सुधार करना है। इस पहल को मानव संसाधन विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से समर्थित किया जाता है। इस योजना को 100 करोड़ रुपये के वित्त पोषण के साथ शुरू किया गया था। यह मुख्य रूप से दिल्ली, बिहार, पंजाब, उत्तराखंड, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के क्षेत्रों को लक्षित करता है। ओलंपिक 2016 की कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक, इसकी एंबेसडर हैं।

अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Summary
Article Name
2018 में मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाएं
Author
Description
2018 में मोदी सरकार द्वारा शुरू की गई सभी योजनाओं / कार्यक्रमों के बारे में जानें