Home / India / बोर्ड परीक्षा और आईआईटी जेईई का एक साथ अध्ययन कैसे करें

बोर्ड परीक्षा और आईआईटी जेईई का एक साथ अध्ययन कैसे करें

November 27, 2017
by


Please login to rate

बोर्ड परीक्षा और आईआईटी जेईई का एक साथ अध्ययन कैसे करें

हर साल, पूरे देश के हजारों छात्र बोर्ड परीक्षा में भाग लेते हैं। एक छात्र या छात्रा का भविष्य उसके द्वारा दी जाने वाली परीक्षा पर निर्भर करता है। अधिकांश बोर्ड की परीक्षाओं का आयोजन मार्च के महीने में होता है और इसके बाद कई छात्र स्नातक या व्यवसायी पाठ्यक्रमों का चुनाव करते हैं। हालाँकि जो छात्र इंजीनियरिंग (अभियांत्रिकी) करना चाहते हैं, उनके लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) का चुनाव करना बेहतर माना जाता है। इस परीक्षा को उत्तीर्ण करना इतना आसान नहीं है, क्योंकि इसमें उत्तीर्ण होने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है। आईआईटी जेईई की परीक्षा अप्रैल के महीने में आयोजित की जाती है। हालाँकि, छात्रों को जेईई की परीक्षा की तैयारी करना कठिन लगता है, क्योंकि यह परीक्षा बोर्ड परीक्षाओं के अंत के कुछ ही हफ्तों बाद आयोजित की जाती है, लेकिन बोर्ड परीक्षा और संयुक्त प्रवेश परीक्षा की एक साथ तैयारी करना कोई ज्यादा मुश्किल काम नहीं है। इसके लिए जो कुछ भी जरूरी है, वह है थोड़ी सी सामरिक तैयारी और कड़ी मेहनत। तो आइए देखें कि छात्र एक साथ दोनों परीक्षाओं की तैयारी कैसे कर सकते हैं।

एक रणनीति तैयार करें

जेईई वास्तव में एक कठिन परीक्षा है। इसलिए, परीक्षा की तैयारी करने से पहले, एक रणनीति बनाना महत्वपूर्ण होता है। एक बेहतर रणनीति से आधा काम हल हो जाता है और आप अपने लक्ष्य को आसानी से प्राप्त करने में सफल हो जाते हैं। जब आप एक योजना या रणनीति बनाते हैं, तो उसमें बोर्ड की परीक्षाओं के साथ-साथ जेईई के पाठ्यक्रमों को भी शामिल करें। अब पाठ्यक्रम को अलग-अलग वर्गों और विषय के अनुसार विभाजित करें। प्रत्येक विषय की समय-सीमा निर्धारित करें और उस समय-सीमा का सख्ती के साथ पालन करें। हालाँकि, आपको अपने लक्ष्य के प्रति यथार्थवादी होना चाहिए। आपको केवल ऐसा लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए, जिसे आप आसनी से प्राप्त कर सकें। एक समय में बहुत अधिक करने की कोशिश न करें, क्योंकि इससे आप केवल तनावग्रस्त होंगे, जो आपके लक्ष्य प्राप्ति करने की संभावनाओं को भी कम कर देगा।

पाठ्यक्रम का अच्छी तरह से अध्ययन करें

पूरे पाठ्यक्रम का अध्ययन करें। पाठ्यक्रम के किसी भी भाग को छोड़ने का विचार न करें। कभी-कभी, हम यह सोचते हैं कि यह विशेष भाग महत्व हीन है या कई परीक्षाओं में इस भाग से कोई भी प्रश्न नहीं आया है। इन विचारों को अपने दिमाग में न आने दें। आपको पूरे पाठ्यक्रम का अध्ययन करना चाहिए, क्योंकि आपको नहीं पता कि परीक्षा में कौन से प्रश्न पूछे जा सकते हैं। अपने आप को बेहतर ढंग से तैयार करने के लिए अंत में पाठ्यक्रम के कठिन भागों का भी अवलोकन करें। एक व्यवस्थित ढंग से पाठ्यक्रम को पूरा करने का प्रयास करें। समय पर पाठ्यक्रम को पूरा करना सबसे महत्वपूर्ण होता है।

पाठ्यक्रम का संशोधन करें

जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है और यह आवश्यक भी है कि आप समय पर पाठ्यक्रम पूरा करें। यदि आप परीक्षा के दो महीने पहले पाठ्यक्रम को पूरा करने में सक्षम होते हैं, तो आपके पास पाठ्यक्रम का संशोधन करने के लिए पर्याप्त समय होगा। पाठ्यक्रम के कुछ भाग ऐसे होते हैं, जिन पर गहराई से ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होती है। एक पूर्ण संशोधन निश्चित रूप से आपको अच्छी तरह से सीखने और अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद करेगा। संभव है कि आपके पास समय की कमी हो सकती है। ऐसे परिदृश्य में उन भागों की पहचान करें, जो महत्वपूर्ण हैं और उनका अच्छी तरह से संशोधन करें। याद रखें कि आप जितना बेहतरीन पाठ्यक्रम का संशोधन करेंगे, आप के अंक भी उतने ही अच्छे आएंगें।

परीक्षाओं के स्वरूप (पैटर्न) का विश्लेषण करें

यह महत्वपूर्ण है कि आपको प्रश्न पत्र के स्वरूप की स्पष्ट समझ होनी चाहिए। बोर्ड और जेईई की परीक्षाओं के कुछ विशिष्ट स्वरूप होते हैं। इनके स्वरूप का विश्लेषण करने की कोशिश करें, क्योंकि इससे आपको यह जानकारी मिलेगी कि आपका किसी विशेष भाग या प्रश्न पर कितना समय व्यय होता है। यह आपको अधिक प्रभावी ढंग से तैयार करने में मदद करेगा और यह परीक्षाओं में उच्च अंक अर्जित करने में भी आपकी सहायता करेगा।

पिछले वर्ष के प्रश्नपत्रों का अभ्यास करें

पिछले साल के प्रश्नपत्रों का अभ्यास करना आवश्यक है। यह आपको परीक्षा में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं, इसके बारे में अवगत कराते हैं। पिछले साल के प्रश्नपत्रों का अभ्यास आपकी अवधारणा को भी स्पष्ट करेगा और आपको आपकी ताकत और कमजोरियों की महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान करेगा, जिससे आपके आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। इसलिए, पाठ्यक्रम का संशोधन करने के बाद परीक्षा से पहले कुछ प्रश्नपत्रों का अभ्यास जरूर करें।

आखिरकार, यदि आप शांत और आराम महसूस कर रहें हैं, तो एक ठोस रणनीति बनाएं और अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कड़ी मेहनत करें। निश्चिततौर पर आप बोर्ड परीक्षाओं और संयुक्त प्रवेश परीक्षा दोनों में बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं।