Home / India / पर्यावरण प्रदूषण को कम करने के लिए आप किस प्रकार से योगदान कर सकते हैं?

पर्यावरण प्रदूषण को कम करने के लिए आप किस प्रकार से योगदान कर सकते हैं?

October 16, 2017


पर्यावरण प्रदूषण

प्रदूषण ने हमारे पर्यावरण को हानिकारक रूप से प्रभावित किया हैं। प्राचीन समय से मनुष्यों ने प्राकृतिक संसाधनों का दोहन किया हैं। पर्यावरण प्रदूषण न केवल मनुष्यों के जीवन के लिए बल्कि जानवरों के लिए भी खतरनाक हो गया हैं। मनुष्यों के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने में व्यापक रुप से प्रदूषण मुख्य कारक हैं। अनगिनत श्वसन समस्याएं, त्वचा रोग, फेफड़ों के कैंसर जैसी कुछ बीमारियाँ है जिन्होंने मनुष्य को पूर्ण रूप से जकड़ रखा हैं, जो मनुष्य के शारीरिक विकास को बाधित कर रही हैं। मनुष्य ने भौतिक आनंद प्राप्त करने के लिए प्राकृतिक संसाधनों का दोहन किया हैं। कमजोर प्राकृतिक संसाधन हमारी जलवायु को गंभीर रूप से प्रभावित कर रहे हैं और इसे कमजोर बना रहे हैं। ग्लोबल वार्मिंग के साथ-साथ ओजोन परत में गिरावट बड़े पैमाने पर पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रही हैं।

मनुष्य के प्राकृतिक संसाधनों के दोहन को रोकने के लिए और पृथ्वी माता को होने वाले नुकसान की क्षतिपूर्ति करने में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए यह सही समय हैं। पर्यावरण में प्रदूषण को कम करने के लिए कदम उठाए जाने चाहिए और पर्यावरणीय रूप से अनुकूल व्यवहारों को किया जाना चाहिए। पहले से ही पर्यावरण संकट से घिरी हुई पृथ्वी को बचाने और पर्यावरण के अनुकूल उपायों को अपनाने के लिए यह समय बहुत महत्वपूर्ण हैं।

पृथ्वी ग्रह पर रहने वाले हर एक नागरिक के लिए ‘गो ग्रीन’ प्रेरणादायक वाक्य होना चाहिए। पर्यावरण पहले से ही बहुत प्रभावित हुआ है और हो चुके नुकसान की भरपाई करने का यह उपयुक्त समय हैं। जल संरक्षण, प्राकृतिक तरीके से सड़नशील पदार्थों का उपयोग, ऊर्जा की बचत करने वाले उत्पादों को चुनना जैसे कुछ उपाय हैं जो हमारे पर्यावरण प्रदूषण को कम करने में योगदान करने के लिए अपनाए जाने चाहिए।

पुन: उपयोग, रिचार्ज और रीसायकल जैसी आदतों को लागू किया जाना चाहिए और हमें यथासंभव अधिक से अधिक पेड़ लगाने चाहिए। ऊर्जा संरक्षण की आदत डालें। कुछ इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के नाम हैं जैसे -टीवी, लैपटॉप, स्टीरियो, जिनका आप उपयोग न कर रहे हों तो उन्हे बंद कर दें।

पानी बचाएं, क्योंकि पानी सबसे बहुमूल्य प्राकृतिक संसाधन हैं। पानी के बिना, पृथ्वी पर कोई जीवन नहीं होगा। पानी बर्बाद न करें। सूखा प्रवृत्त क्षेत्रों में, वे घर जो पानी की कमी का सामना करते हैं उनके लिए पीने का पानी एक सुख का साधन माना जाता हैं। जल संचयन एक ऐसी योजना है जिसे जल संरक्षण के लिए अपनाया जा सकता हैं। शेविंग या ब्रश करते समय नल को बंद कर दें। अपने पौधों को सीचनें के लिए बरसात के पानी को इकट्ठा करें।

संरक्षण ऊर्जा को पर्यावरण की रक्षा करने वाला आयाम माना जाता हैं। एयर कंडीशनिंग के उपयोग को कम कर दिया जाना चाहिए क्योंकि वे सीएफसी जैसे हानिकारक पदार्थों का उत्सर्जन करते हैं जो कि पर्यावरण के लिए खतरनाक होते हैं। पर्यावरण की दिशा में योगदान करने के लिए ऊर्जा की बचत करने वाले उपकरणों जैसे – एलईडी बल्ब, ट्यूबलाइट आदि का उपयोग करें।

एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने के लिए पर्यावरण के अनुकूल वाहनों का चुनाव करें। ई-रिक्शा और साइकिल जैसे कुछ वाहन हैं जिन्हे पर्यावरण के अनुकूल और लाभकारी विकल्प माना जाता हैं। अपने निजी वाहन से अकेले जाने के बजाय, सार्वजनिक सवारी वाले साधन या टैक्सी कार का चुनाव करके पहले से प्रदूषित हो चुकी पृथ्वी का बोझ कम करें। पर्यावरण के अनुकूल कार्य करके अपने आप को शिक्षित करना और जागरूकता फैलाना पर्यावरण के प्रति काफी योगदान हो सकता हैं और प्रदूषण को कम करने में मदद मिल सकती हैं।

Comments

Comments
Showing 2 Comments :

Outstanding . Nice .fair . good . very good. Vvery nice. Excellent . excellence

Reply

Nice . Very nice. Good. Well

Reply