Home / India / स्टैच्यू ऑफ यूनिटी: दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी: दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा

October 31, 2018
by


स्टैच्यू ऑफ यूनिटी

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी – सरदार वल्लभ भाई पटेल

दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा।

स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से दोगुनी ऊंची है यह प्रतिमा।

भूकंप, तेज हवा आदि का सामना कर सकती है।

जब बात आती है स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की – जिसका उद्घाटन आज हो चुका है, तो कई सारी उपलब्धियों को इसमें जोड़ा जा सकता है। सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊँची यह विशाल प्रतिमा चीन के स्प्रिंग बुद्धा व न्यूयार्क की स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से भी ऊँची है।

हालांकि यह प्रतिमा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वपूर्ण परियोजनाओं में से एक है, जिस वजह से यह विवादों में आने से बच नहीं पाई। तो आइए भारत के लौह पुरुष की इस विशाल प्रतिमा के बारे में कुछ चीजों पर एक नज़र डालते हैं।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी: आपको जानने की जरूरत है

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी गुजरात राज्य में नर्मदा नदी के पास साधु बेट द्वीप पर स्थित है। इस प्रतिमा तक आसानी से पहुँचने के लिए, गुजरात सरकार ने केवडिया शहर से पहुंचने वाले पर्यटकों के लिए 3.5 कि.मी. लंबे राजमार्ग का निर्माण कार्य भी शुरू हो गया है।

सरदार वल्लभ भाई पटेल की लगभग 2000 संग्रहीत तस्वीरों में से चयन करने के बाद राम वी सुतार द्वारा बनाई गई इस प्रतिमा को इसकी विशेषताओं के साथ अंतिम रूप दिया गया। इतिहासकारों सहित कुछ लोग जो पटेल जी को व्यक्तिगत तौर पर जानते थे उन्होंने यह सुनिश्चित करने का परामर्श दिया कि प्रतिमा को यथासंभव वैसा ही बनाया जाए जैसा कि उनका जीवन था। पौराणिक प्रतिमा के बारे में आपको केवल इतना जानने की जरूरत है:

  1. इस विशाल प्रतिमा की ऊँचाई 182 मीटर है और इस प्रतिमा का निर्माण 3000 मजदूरों द्वारा किया गया है।
  2. सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती पर यह निर्माण कार्य 31 अक्टूबर 2013 को शुरू हुआ था।
  3. 153 मीटर लंबी गैलरी के जरिए लगभग 200 लोग एक साथ इस स्टैच्यू को देख सकते हैं। यह नर्मदा बांध, सतपुरा और विंध्य पर्वत श्रृंखलाओं और कई अन्य का एक विशाल दृश्य प्रदान करता है।
  4. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण की कुल लागत 2,989 करोड़ रुपये होने का अनुमान है।
  5. स्टैच्यू के पास 52 कमरों का एक तीन सितारा होटल पहले से ही निर्माणाधीन है।
  6. एक शॉपिंग सेंटर, सेल्फी पॉइंट जैसे आकर्षण भी पास के ही परिधि में होंगे।
  7. नदी द्वीप 30 मीटर लंबे पुल के माध्यम से मुख्य भूमि से जुड़ा हुआ है। हालांकि, पर्यटक इस प्रतिमा को देखने जाने के लिए नाव की सवारी भी कर सकते हैं।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के तथ्य

विवाद

भव्य उद्घाटन से सिर्फ दो दिन पहले, आस-पास के क्षेत्र के 22 गांवों के प्रधानों ने प्रधानमंत्री को संबोधित करते हुए एक खुला पत्र लिखा था। पत्र में कहा गया है कि जब प्रधानमंत्री 31 अक्टूबर को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के अनावरण के लिए आएंगे तो गांव के लोग प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत नहीं करेंगे। उन्होंने समारोह के बहिष्कार की भी घोषणा कर दी है, जिसमें कहा गया है कि निर्माण कार्य ने प्राकृतिक संसाधनों का विनाश किया है।

एक जनजातीय नेता ने कहा, “यदि सरदार पटेल प्राकृतिक संसाधनों के बड़े पैमाने पर हुए विनाश और हमारे साथ किए गए अन्याय को देख पाते, तो वह रो पड़ते”।

इतना ही नहीं, राज्य के लगभग 75,000 जनजातियां स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध की योजना बना रही हैं। मूर्ति के निर्माण के साथ ही क्षेत्र में स्थापित अन्य पर्यटन गतिविधियों से नर्मदा बांध परियोजना के क्षेत्र में भूमि अधिग्रहण के संबंध में उनकी शिकायतें हैं। कई जनजातीय लोगों की शिकायत है कि उनकी भूमि ले लेने के बाद, उन्हें मौद्रिक राशि दी गई थी, लेकिन भूमि के अन्य वादों को पूरा नहीं किया गया था। अन्य मामलों में, सरकार द्वारा दी गई भूमि के बारे में दावा किया जाता है कि ये जमीन गैर-उपजाऊ होती है।

एक अन्य जनजातीय नेता ने कहा कि, “हम गुजरात के इस महान पुत्र सरदार पटेल के खिलाफ नहीं है और वो हमारे लिए सम्माननीय ही रहेंगे, लेकिन सरकार के विकास का विचार एकतरफा और आदिवासियों के खिलाफ है”।

इस विशाल स्टैच्यू का विरोध केवल आम आदमी ही नहीं कर रहा। बल्कि विपक्ष ने, यह घोषणा करते हुए कि यह केवल एक राजनीतिक कदम है, मूर्ति के लिए सरकार पर कई आरोप लगाए हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि निर्माण पर खर्च की गई बड़ी धन राशि का उपयोग वास्तविक विकास पर किया जा सकता था।

क्या यह प्रतिमा पूरी तरह से लौह पुरुष को समर्पित है?

सरकार को पूरा भरोसा है कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी राज्य में एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण बन जाएगी और इससे अच्छा राजस्व भी मिलेगा। इसे प्रदान की जाने वाली सुविधाओं को देखते हुए, इस बात को नकारा नहीं जा सकता कि स्टैच्यू वास्तव में लोगों के आकर्षण का केंद्र होगी। हालांकि एक प्रश्न अक्सर पूछा जाता है (और शायद ही कभी इसका जवाब दिया गया हो), कि सरदार पटेल की स्मृति को इस तरीके से सम्मानित करना कितना उचित है? अक्टूबर में, प्रधानमंत्री मोदी ने अपने मन की बात प्रोग्राम में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को सरदार पटेल को एक वास्तविक श्रद्धांजलि बताया था। लेकिन क्या यह वास्तव में सच है?

सरदार वल्लभभाई पटेल को हमेशा देश को एकजुट करने के उनके प्रयासों के लिए याद किया जाता है- शायद “स्टैच्यू ऑफ यूनिटी” से यह बात स्पष्ट भी हो जाती है। हमारी आजादी के बाद, सरदार वल्लभभाई पटेल भारतीय संघ में 533 रियासतों को एकीकृत करने के लिए जिम्मेदार थे। हालांकि, सरदार पटेल देश के किसानों के सच्चे साथी थे। उदाहरण के रूप में, किसानों के लिए 1918 का खेड़ा सत्याग्रह में उनका योगदान आज भी याद किया जाता है।

नीति विकल्प केंद्र से मोहन गुरुमूर्ति कहते हैं कि सरदार पटेल खुद, कभी भी अपनी मूर्ति पर इतना पैसा खर्च करने का समर्थन नहीं करते। दिलचस्प बात यह है कि मूर्ति का निर्माण भाजपा द्वारा कराया गया है, जिसकी शाखा आरएसएस है – जिसे पटेल पसंद नहीं करते थे। वास्तव में, वह भी आरएसएस पर प्रतिबंध लगाना चाहते थे।

यह एक आम धारणा है कि भारत के किसानों के कल्याण पर प्रत्यक्ष रूप से पैसे खर्च करने के लिए एक और उचित सम्मान होगा। हां, स्टैच्यू निश्चित रूप से लोगों को आकर्षित करेगा। लेकिन, क्या यह व्यय की गई बड़ी धन राशि की क्षतिपूर्ति करने में सक्षम होगा? इसके अलावा, फिर, क्या यह एक ऐसे व्यक्ति की विरासत का सम्मान करने का सबसे अच्छा तरीका है जो साधारण मूल्यों में विश्वास करते थे?