Home / Politics / कारगिल विजय दिवस- कारगिल युद्ध के शूरवीरों की याद में

कारगिल विजय दिवस- कारगिल युद्ध के शूरवीरों की याद में

July 31, 2018
by


Please login to rate

कारगिल विजय दिवस

कारगिल विजय दिवस वह दिन है जब देश उन सभी भारतीय सैनिकों और नागरिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करता है जिन्होंने अपनी मातृभूमि के लिए लड़ाई की और इसकी सेवा की। भारतीय सेना ने 26 जुलाई 1999 को ‘ऑपरेशन विजय’ को सफलतापूर्वक पूरा किया था। 1998-99 में, पाकिस्तान सेना के सैनिक कश्मीर में व्यवधान पैदा करने के लिए भारतीय सीमाओं में घुसपैठ कर रहे थे और कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र के बीच गहरे संबंध को तोड़ना चाह रहे थे जो मुजाहिदीन के रूप में छिपे हुए थे। ‘ऑपरेशनबद्र’ पाकिस्तानी सेना घुसपैठियों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला ऑपरेशन कोड था। भारतीय सैनिकों ने 26 जुलाई को कारगिल-द्रास क्षेत्र की सर्वोच्च चौकियों पर कब्जा कर लिया था, इस प्रकार, 2 महीने तक चलने वाला सैन्य संघर्ष समाप्त हो गया। यह दिन उन सभी बहादुरों की याद में समर्पित है जो अत्यन्न खराब मौसम में भी निडरता से लड़े और देश की रक्षा के लिए अपने जान तक को न्यौछावर कर दिया।

यह सब कैसे उजागर हुआ?  

1971 में, भारत-पाक युद्ध के बाद, दोनों देशों के बीच सैन्य भागीदारी के साथ सीधे सशस्त्र लड़ाई में सापेक्ष पतन देखा गया। भारत और पाकिस्तान दोनों पास के पहाड़ों के किनारे पर सैन्य चौकी लगाकर सियाचिन ग्लेशियर क्षेत्र को नियंत्रित करने की फिराक में थे और नतीजतन 1980 के दशक के दौरान छोटे पैमाने पर सैन्य हमले हुए। दोनों देशों के लिए सियाचिन ग्लेशियर एक महत्वपूर्ण भौगोलिक स्थल माना जाता था। 1990 के दशक में, अलगाववादी आंदोलन के उदय के कारण घाटी में अशांति के चलते तनाव और संघर्ष बढ़ रहा था। पाकिस्तान पर देशों के छिद्रयुक्त सीमाओं में घुसपैठ करने में ‘मुजाहिदीन’ पर समर्थन और प्रशिक्षण देने का आरोप था। 1998 में, दोनों देशों ने परमाणु परीक्षण किये, जिससे दुनिया को खतरा महसूस होने लगा, क्योंकि दोनों कट्टर प्रतिद्वंदी ऐसे हथियार अधिग्रहण कर रहे थे, जिसे अगर एक पूर्ण पैमाने पर युद्ध में प्रयोग किये जाएं तो उपमहाद्वीप की पूरी आबादी को खतरे में डाल सकते हैं। दोनों देशों के बीच स्थिति शत्रुतापूर्ण हो गई, भारत-पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव को कम करने के लिए दोनो देशों ने फरवरी 1999 में लाहौर घोषणा पर हस्ताक्षर किए। स्थिति ने तब बुरा मोड़ ले लिया जब 1998-99 के दौरान पाकिस्तानी सेना के गुप्त एजेंट प्रशिक्षण और अर्धसैनिक बल घुसपैठ कर रहे थे  तथा वहां के कुछ सैनिक नियंत्रण रेखा (एलओसी) के दूसरी तरफ  मुजाहिदीन’ के सदस्यों को छिपाकर रखा था। ‘ऑपरेशन बद्र’ का लक्ष्य कश्मीर घाटी में खलल पैदा करना तथा घाटी और लद्दाख क्षेत्र के बीच संबंधों को गंभीर बनाना था, ताकि भारतीय सेना को सियाचिन ग्लेशियर क्षेत्र को छोड़ने पर मजबूर किया जा सके, जबकि उन्हें बातचीत के माध्यम से कश्मीर मुद्दे को सुलझाने के लिए मजबूर किया गया।

प्रारंभिक दिनों के दौरान, भारतीय सेना यह नहीं समझ सकी कि यह एक योजनाबद्ध विद्रोह था या एक मुश्किल परिस्थिति थी भारत ने घुसपैठियों को जिहादियों के रूप में माना और भारतीय प्रशासित कश्मीर से इन जिहादियों को बेदखल करने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि, ताशी नामग्याल नामक एक चरवाहा, जो अपने यक को देखने के लिए बटालिक में बंजु चोटी की पहाड़ियों पर गया था, ने देखा कि 6 पाकिस्तानी सेना के लोग एलओसी को पार करके भारतीय सीमा में घुस रहे थे। इस घटना की रिपोर्ट करने के लिए वह तुरंत निकटतम भारतीय सेना चौकी में गया। जल्द ही, भारत सरकार द्वारा ‘ऑपरेशन विजय’ के रूप में इस विद्रोही क्षेत्र में 2,00,000 सैनिकों को संगठित करके भेजने का आदेश जारी किया गया। पाकिस्तानी सेनाओं ने 130 कि.मी. से 200 कि.मी. तक कवर किया हुआ था और स्थिति को नियंत्रित में लाने के लिए भारतीय सैनिक सचेत हो गये।

कारगिल युद्ध के सम्मानित सेनानी

कारगिल युद्ध, भारतीय पत्रकारों द्वारा सीधे युद्ध के स्थान से कवर किया जाने वाला पहला युद्ध था। देश के सम्मान के लिए अनेक सैनिक पाकिस्तानी सेना के खिलाफ बहादुरी से लड़े और जो सैनिक बच गये उन्होंने उच्चतम भारतीय सैन्य चौकी के शीर्ष पर तिरंगा फहराया। इस युद्ध में कई सैनिक घायल हो गए, जबकि कुछ शहीद हो गये।

देश की सुरक्षा में उनके योगदान के लिए वीरता पुरस्कार विजेता की सूची यहाँ दी गई है:

नाम 

पद

रेजिमेंट

पुरस्कार

कब

योगेंद्र सिंह यादव ग्रेनेडियर 18 ग्रेनेडियर्स परम वीर चक्र
मनोज कुमार पांडेय लेफ्टिनेंट 1/11 गोरखा राइफल्स परम वीर चक्र मरणोपरांत
विक्रम बत्रा कप्तान 13 जैक राइफल्स परम वीर चक्र मरणोपरांत (तस्वीर में)
संजय कुमार राइफलमैन 13 जैक राइफल्स परम वीर चक्र
अनुज नय्यर कप्तान 17 जाट रेजिमेंट महावीर चक्र मरणोपरांत
राजेश सिंह अधिकारी मेजर 18 ग्रेनेडियर्स महावीर चक्र मरणोपरांत
हनीफ-यू-दीन कप्तान 11 राजपूताना राइफल्स वीर चक्र मरणोपरांत
मरियप्पन सरवनन मेजर 1 बिहार वीर चक्र मरणोपरांत
अजय अहुजा स्क्वाड्रन नेता भारतीय वायु सेना वीर चक्र मरणोपरांत
चुनी लाल हवलदार 8 जैक ली वीर चक्र, उनको बहादुरी के लिए सेना पदक से भी सम्मानित किया गया और मरणोपरांत एक नायब सूबेदार के रूप में अशोक चक्र से सम्मानित किया

 

वही पुरानी कहानी

शुरुआत में, पाकिस्तान ने यह कहते हुए कारगिल संघर्ष में अपनी भागीदारी को स्वीकार नहीं किया कि भारतीय सेना “कश्मीरी स्वतंत्रता सेनानी” के खिलाफ लड़ाई में शामिल थी। लेकिन, बाद में पाकिस्तानी सरकार ने पाकिस्तानी शहीदों को सैनिक पदक से सम्मानित किया, जिसने पूरी घटना में पाकिस्तान की भागीदारी से संबंधित अनिश्चितता को समाप्त कर दिया। आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, दोनों देशों को दो महीने के लंबे संघर्ष में बड़ी संख्या में हताहतों का सामना करना पड़ा, क्योंकि पाकिस्तान के 357 से 453 के बीच सैनिक मारे गये और भारत को जीत के साथ भारी कीमत चुकाते हुए 527 सैनिकों को खोना पड़ा। युद्ध के परिणामस्वरूप, भारत ने अपने रक्षा व्यय में वृद्धि की। हालांकि, इसने सरकार द्वारा प्राप्त क्षेत्रों मेंअव्यवस्थाओं का नेतृत्व किया। पिछले 19 सालों में, भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय संबंधों में चीजें ज्यादा नहीं बदली हैं, कारगिल युद्ध हमेशा यादों में अंकित रहेगा। भारतीय सेना ने साबित कर दिया कि अगर वह अच्छी सेना नहीं है तो दुनिया की सबसे अच्छी सेनाओं में से एक क्यों है। भारत और कश्मीर के साथ पाकिस्तान का जुनून कभी खत्म नहीं होगा, जबकि कश्मीर दोनों देशों के नेताओं के लिए हमेशा एक गर्म राजनीतिक मुद्दा बना रहता है, जो राजनीतिक और चुनावी लाभों के लिए इस मुद्दे का बार-बार उपयोग करते हैं।

Summary
Article Name
कारगिल विजय दिवस - कारगिल युद्ध के नायकों को याद रखना
Author
Description
19 साल पहले भारत और पाकिस्तान दो महीने के लंबे सैन्य संघर्ष हुआ था। भारतीय सेना ने इस दिन देश के गौरव के लिए पाकिस्तानी सेना को पराजित करने के लिए कारगिल में सबसे ज्यादा सैन्य चौकी पर कब्जा किया। कारगिल युद्ध के शूरवीरों को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता है और 1999 के कारगिल युद्ध के दौरान हमारे सैनिकों के योगदान को याद करने के लिए हर साल 26 जुलाई को कारगिल विजय दिवस के रूप में चिह्नित किया जाता है।