Home / Book-reviews / द अनेन्डिंग गेम: ए फॉर्मर R&AW चीफ इनसाइट्स इनटू एस्पोनेज

द अनेन्डिंग गेम: ए फॉर्मर R&AW चीफ इनसाइट्स इनटू एस्पोनेज

October 18, 2018
by


Please login to rate

द अनेन्डिंग गेम: ए फॉर्मर R&AW चीफ इनसाइट्स इनटू एस्पोनेज

रिसर्च एंड एनालिसिस विंग के पूर्व प्रमुख विक्रम सूद द्वारा लिखित द अनेन्डिंग गेम, पुस्तक में खुफिया विफलताओं और सफलताओं के कुछ बेहद रोमांचक पहलुओं को शामिल किया गया है। इस पुस्तक में भारत पर विशेष ध्यान देने के साथ दुनिया भर से उदाहरणों और उपाख्यानों को प्रदान किया गया है। जासूसी की जटिलताओं और दूरसंचार तथा सोशल मीडिया में वृद्धि के साथ कितनी जासूसी और निगरानी बढ़ी है, का पता लगाया गया है। हालांकि खुफिया एजेंसी के इन अन्य स्रोतों के विकास के बावजूद, क्लासिक ‘ह्यूमिंट’ या मानव खुफिया अपनी प्राथमिकता बरकरार रखती है।

खुफिया एजेंसियों को उनकी विफलताओं से जाना जाता है, न कि उनकी सफलताओं से। फैशनेबल और सौम्य ‘जेम्स बॉन्ड’ जैसे जासूस किसी काल्पनिक कहानी से ज्यादा कुछ नहीं है क्योंकि एक आदर्श जासूस खुद पर कोई ध्यान आकर्षित नहीं करता है और भीड़ के साथ लीन हो जाता है। जैसा कि लेखक ने बताया कि, “एस्टन मार्टिन फिल्मों में आकर्षक लग रहे थे, उन्होंने कभी काम नहीं किया होगा। ‘केंब्रिज फाइव’ बहुत प्रसिद्ध नहीं है इसलिए दिलचस्प है। लेकिन जैसा कि लेखक दृढ़ता से कहता है, हम इन कहानियों को जानते हैं क्योंकि ये कहानियां निवृत्त, असंगत और निर्विवाद होने के बावजूद जासूसी से पूर्ण और नाकामयाब रहीं।

इसके अलावा, अल-कायदा और इस्लामी राज्य जैसे खतरनाक गैर-राज्य कर्ताओं के उदय के साथ, संगठित अपराध और आतंकवादी समूहों के बीच बढ़ते ताल्लुकातों से, पहले से ही चुनौतियों का सामना कर रहीं खुफिया एजेंसियां परिवर्तन के साथ और मुश्किल में पड़ गई हैं।

9/11 के बाद से सैन्य-खुफिया-निजी सुरक्षा-औद्योगिक परिसर में सैन्य-औद्योगिक परिसर काफी हद तक विकसित हुआ है, जहां मुख्य रूप से भारत और अमेरिका जैसे लोकतंत्रों में गोपनीयता और राज्य निगरानी के प्रश्नों के बीच तनाव बढ़ रहा है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि एक लेखक को अपनी पृष्ठभूमि के साथ खुफिया अधिकारी के रूप में अपनी भूमिका की निरपराध समझ होती है। हालांकि, वह एक ऐसे शिक्षक की तरह महसूस करता है जिसके पास अपने विषय या विशेषज्ञता के क्षेत्र में उत्कृष्ट आदेश तो है लेकिन निर्देश के कौशल की कमी होती है। महत्वपूर्ण शर्तों, वृत्तांतों और घटनाओं की एक बड़ी संख्या स्पष्ट नहीं हो पाती। वह पाठकों को विभिन्न तथ्यों के साथ रू-ब-रू कराता है, लेकिन विश्लेषण और महत्वपूर्ण सोच का स्तर आनुपातिक रूप से मेल नहीं खा पाता। ऐसे कई भाग हैं जो प्रासंगिक हैं, फिर भी वे स्पष्ट रूप से धाराप्रवाह और विश्लेषणात्मक गहराई से रहित रहते हैं और एक समय के बाद जटिल हो जाते हैं। ऐसा लगता है कि किताब जल्दबाजी में लिखी गई थी और यह किताब पाठक को प्रबुद्ध करने के प्रभाव को बनाने की दिशा में अधिक थी।

पुस्तक अंततः बेहतर प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण, उन्नत और लोचदार भर्ती प्रक्रिया, शिथिल पारिश्रमिक नियमावली के माध्यम से हमारे खुफिया तंत्र को बेहतर बनाने के लिए सुझावों के एक सेट के साथ समाप्त हो जाती है तथा सबसे महत्वपूर्ण रूप से पेशेवरों को सुरक्षा और स्थिरता प्रदान करने के लिए किसी प्रकार के पक्षपात को रोकती है। हमें अपने बेहतर अनुभवी समकक्षों से सीखना चाहिए, लेकिन उनका आँख बन्द करके पालन नहीं करना चाहिए, इस प्रकार निरंतर बदलती वैश्विक वास्तविकताओं को समझना और उसमें अपना सामंजस्य बिठाना ही समझदारी होती है।

Summary
Article Name
द अनेन्डिंग गेम: ए फॉर्मर आर एंड ए डब्ल्यू चीफ इनसाइट्स इनटू एस्पोनेज”
Author
Description
रिसर्च एंड एनालिसिस विंग के पूर्व प्रमुख विक्रम सूद द्वारा लिखित द अनेन्डिंग गेम, पुस्तक में खुफिया विफलताओं और सफलताओं के कुछ बेहद रोमांचक पहलुओं को शामिल किया गया है। इस पुस्तक में भारत पर विशेष ध्यान देने के साथ दुनिया भर से उदाहरणों और उपाख्यानों को प्रदान किया गया है।