Home / Technology / गूगल ने लांच किया मानव की तरह कार्य करने वाला एआई फीचर

गूगल ने लांच किया मानव की तरह कार्य करने वाला एआई फीचर

May 24, 2018
by


Please login to rate

गूगल ने लांच किया मानव की तरह कार्य करने वाला एआई फीचर

गूगल आईओ कॉन्फ़्रेस का कमरा तालियों के साथ गूँज उठा जब उन्होंने बेहद उच्च नई एआई (आर्टिफिशल इन्टेलिजन्स) फीचर गूगल डुप्लेक्स से परिचय करवाया। गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने गूगल सहायक का एक प्रभावशाली नया संस्करण प्रदर्शित किया, जो आपके लिए फोन कॉल कर सकता है। लेकिन यह आश्चर्यजनक तत्व है कि नई एआई फीचर मानव की तरह वार्तालाप करता है।

सम्मेलन में, एआई (आर्टिफिशल इन्टेलिजन्स) ने दो फोन कॉल एक सैलून और एक रेस्तरां में सफल रिजर्वेशन (आरक्षण) करके दिखाया। और सबसे दिलचस्प बात यह थी कि कॉल के दूसरे तरफ वाला व्यक्ति यह नहीं समझ सका कि यह वास्तविक इंसान नहीं था। अब यह फीचर बहुत प्रभावशाली है।

गूगल की इस नई सुविधा के साथ, बस आपको अपने सहायक गूगल से अपनी बात बतानी होगी जैसे डॉक्टर की नियुक्ति लेना हो या किसी भी  रेस्तरां में एक टेबल बुक करनी हो और डुप्लेक्स को एक बार कार्य सौंपने के बाद वह कॉल कर देगा और मिली हुई तिथि और समय आपको बता देगा। अब यह उन सभी उबाऊ काम करने से वास्तविक समय को बचाता है।

ऐसी अन्य तकनीकें भी हैं, जो फोन वार्तालाप में शामिल होने के लिए बॉट का उपयोग करती हैं, लेकिन यह अनुमान लगाने में काफी आसान है कि कॉल की दूसरी तरह पर एक बॉट है और गूगल का डुप्लेक्स इसी चीज को बदल रहा है। डुप्लेक्स फीचर इंसानों की तरह बातचीत कर सकता है औऱ कुछ मायनों में इंसानों से भी बेहतर है। ऐसा माना जाता है कि यह गूगल की सबसे बड़ी उपलब्धि है क्योंकि अभी तक कोई एआई (आर्टिफिशल इन्टेलिजन्स) इतना विकससित नहीं हुआ है।

एक कारण है कि गूगल की एआई अपने समकक्ष और पूर्ववर्तियों के सामने डटकर खड़ी हुई है।

शुरुआत के लिए, यह विशेष रूप से मानव वार्तालाप की बारीकियों को समझने के लिए डिजाइन किया गया है। डेमो (प्रदर्शन) में एआई (आर्टिफिशल इन्टेलिजन्स) सही जगहों पर रुक गया और सही सवाल पूछे। वार्तालाप को वास्तविक बातचीत बनाने के लिए उसने कभी-कभी “एमएमएचएमएम” भी बोल दिया। और जिन मामलों में वार्तालाप अपने मुख्य मुद्दे से बाहर निकलती या उम्मीद के अनुसार नहीं बोली जाती हैं, तो डुप्लेक्स अपनी हल्की हँसी को पर्याप्त रूप से अलग ढंग से व्यक्त और दोहराए जाने के चतुर उपयोग के साथ वार्तालाप को मुख्य मुद्दे पर लाने के लिए चाल चलता है। डुप्लेक्स सिंक का उपयोग कर सकते हैं, जैसे कि  “क्या आप मुझे सुन सकते हैं?”, “और यह संख्या 212 है – क्षमा करें, क्या आप शुरू कर सकते हैं?”। गूगल की यह स्मार्ट नया फीचर वास्तव में हमारी सहायता के बिना आवश्यक कार्य को पूरा कर सकता है।

लेकिन मानव प्रकृति के कारण, हम हमेशा संयम खोने से डरते रहे हैं। और जब यह एआई के हाथों में सत्ता का प्रबंधन है, तो हमने न केवल खुलेआम बल्कि कलात्मक रूप से अपने डर को प्रदर्शित किया है। यह कई हॉलीवुड विज्ञान-फिक्शन फिल्मों में दिखाया गया है, जैसे टर्मिनेटर, आई, रोबोट और कई अन्य, जो एक मानव एआई फॉर्म के हाथों द्वारा मानव जाति के विनाश के डर का सामना करना पड़ा है, लेकिन इन विज्ञान-फिक्शन फिल्मों में वास्तविकता तत्काल भविष्य या दूर तक नहीं हो सकती है लेकिन नई गूगल एआई के हाथों कुछ संभावित संभावनाएं हैं।

विशेषज्ञों का दावा है कि नई एआई अराजकता के लिए अत्यधिक क्रूसिबल (संकटकालीन) है, जो संभावताः किसी व्यक्ति की सुरक्षा और गोपनीयता को खत्म कर सकती है। यह कोई रहस्य नहीं है कि हमारी बहुत सारी जानकारी तक गूगल की पहुँच है। यह अच्छी तरह से जानता है कि हम क्रोम में क्या करते हैं- इसकी हमारे सभी ब्राउजिंग इतिहास तक पहुँच है। यह उन स्थानों को जानता है जहाँ हम गूगल मैप की कृपा से यात्रा करते हैं। और हम में से अधिकांश लोगों के पास एंड्रॉइड फोन हैं, इसलिए यह भी जानता है कि हम किससे कॉल (वार्तालाप) करते हैं। और यदि कोई जीमेल का उपयोग करता है, तो यह हमारे मेलिंग व्यवहारों के बारे में जानता है- जिनका हम अक्सर जवाब देते हैं और वेन्डर (विक्रेता) के चेन मेल हम थोक में छोड़ देते हैं। इसने अपने पंजे को अपने डेटा में इतनी गहराई से पकड़ बना ली है कि एक एआई होने से इंसान का प्रतिरूपण हो सकता है, हमें चिंता करनी चाहिए।

कल्पना कीजिए, बस थोड़ा सा ट्रेकर वार्तालाप वाला कोई व्यक्ति डुप्लेक्स से आसानी से जानकारी प्राप्त करके धोखा दे सकता है। डुप्लेक्स आपके पूरे जीवन के बारे में पता कर सकते हैं और एक दिन यह हमारे फोन के माध्यम से किए गए सभी व्यवसायों को भी संभाल सकते हैं। और यह डेटा का उपयोग कैसे करेगा और अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि डुप्लेक्स सिस्टम का हिस्सा और कंपनियां इसका उपयोग कैसे करेंगी, चिंता का कारण है। इसके अलावा, यदि रोबोट इंसानों के रूप में पेश हो सकते हैं, तो स्वचालित धोखाधड़ी से लेकर कमजोर दुर्भावनापूर्ण घोटाले कॉल तक बहुत सारी शरारत के लिए अनुमोदित व्यवहार को जन्म दे सकता है।

वर्तमान में, डुप्लेक्स केवल 3 स्थितियों को संभाल सकता है: हेयरकट्स के साथ शेड्यूल, रेस्तरां में टेबल बुक करना और व्यवसायों में उनके अवकाश के समय के बारे में पूछना। हालांकि, हम जानते हैं कि यह हमेशा के लिए नहीं रहेगा यह हमारे जीवन में गहराई से घुसपैठ करता जा रहा है, जिसके परिणामस्वरूप, केवल हम केवल अपनी कल्पना में ही रहते हैं। अभी के लिए केवल इतना ही।

साराँश
लेख का नाम – गूगल की एआई पेशकश, जो है एक वास्तविक मानव की तरह: क्या आपको इसके बारे में चिंतित होना चाहिए?

लेखिका का नाम – हर्षिता शर्मा

विवरण – गूगल ने एक नई एआई लॉन्च की है जो हमारी तरफ से कॉल कर सकती है। और अनुमान लगाओ, यह सिर्फ एक इंसान की तरह बात करेगी। अब क्या यह एक पेंडोरा बॉक्स खुलता है या एक तकनीकी रूप से उन्नत दुनिया में बाधा मुक्त कदम होगा?