Home / Travel / यात्रा से संपूर्ण व्यक्तित्व विकास के 10 तरीके

यात्रा से संपूर्ण व्यक्तित्व विकास के 10 तरीके

April 25, 2018
by


Please login to rate

यात्रा से संपूर्ण व्यक्तित्व विकास के 10 तरीके

एक स्थान से दूसरे स्थान की यात्रा करना मानव जीवन की सबसे मूलभूत आवश्यकताओं में से एक है। यह आपको ऊर्जावान और जीवित होने का अनुभव देता है। अलग-अलग लोगों के पास यात्रा करने के अलग-अलग कारण होते हैं, लेकिन यात्रा से होने वाला लाभ सभी के लिए समान ही रहता है। कुछ लोग मजबूरी में यात्रा करते हैं जबकि अन्य लोग अपने बंधनों को तोड़ने के लिए यात्रा करते हैं। महत्वपूर्ण यात्राओं के प्रति लोगों की चाहत ही उनको अपने आसपास के क्षेत्रों का भ्रमण करने के लिए इच्छुक बनाती है।

प्रत्येक व्यक्ति एक समय में एक बार बदलाव चाहता है और यही कारण है कि लोग छुट्टियां मनाने और घूमने की योजना बनाते हैं। घर से दूर एक आरामदायक स्थान की यात्रा लोगों को अंदर से बाहर तक तरोताज़ा कर पुनः जीवन की चुनौतियों का सामना करने के लिए सक्षम बनाती है। अलग-अलग स्थानों की यात्रा न केवल आपको उस जगह से अवगत कराती है बल्कि आपको जीवन के बारे में भी जागरूक बनाती है।

आपके द्वारा की गई प्रत्येक यात्रा आपको या किसी और को कुछ न कुछ तो सिखाती है। यात्रा में हर कदम पर आप एक अनुभव प्राप्त करते हैं जो आपके सम्पूर्ण जीवन भर आपके साथ रहता है। कुछ बातें ऐसी हैं जो आप यात्रा के दौरान सीखते हैं, आज मैं आपको कुछ ऐसे तरीकों के बारे में बताने जा रही हूँ जिसके द्वारा यात्रा आपके जीवन में एक बदलाव ला सकती है! यह तरीके प्रारंभ होते हैं यहाँ से –

  1. यात्रा आपको बुद्धिमान बनाती है। जितनी अधिक आप यात्रा करेंगे उतना ही अधिक आप सीखेंगे। एकत्रित ज्ञान का हर छोटा से छोटा टुकड़ा आपको और अधिक समझदार और थोड़ा सा बुद्धिमान बनाता है।
  2. यात्रा आपको उन चीजों के आनन्द का अनुभव कराएगी जो शायद आपने कभी नहीं किया होगा। एक छोटा कप कॉफी, थोड़ा पैदल चलना, एक लंबी सैर या बस, ट्रेन की गति ये सभी इस तरह की चीजें हैं जो आपके लिए महत्वपूर्ण होती हैं।
  3. यात्रा आपको और अधिक लचीला और उदार-चित्त (खुली मानसिकता वाला) बनाती है। जब आप अपनी आरामदायक स्थिति से बाहर आते हैं तो आप और अधिक अनुकूल होना सीख जाते हैं। आप नए लोगों, नए विचारों और नए रीति-रिवाज को स्वीकार करते हैं।
  4. यात्रा आपको उससे भी अधिक धैर्यवान बनाती है जितना आप ध्यान लगाकर बनते हैं। सब कुछ एकदम समय पर नहीं होता है, यात्रा के दौरान हवाई उड़ानों और रेलगाड़ियों का लंबा विलंब आपको धैर्य की शिक्षा देता है।
  5. यात्रा आपको स्वतंत्र बनाती है। जिस समय आपको अकेले यात्रा करने की आवश्यकता होती तो यह आपको जिम्मेदार और आत्मविश्वास की शिक्षा देती है। इस प्रकार आप एक मजबूत और आत्मविश्वासी व्यक्ति के रूप में उभर कर सामने आते हैं।
  6. यात्रा प्रकृति के प्रति आपका लगाव बढ़ाती है। एक बार जब आप जंगल की यात्रा कर लेते हैं, तो आप कभी भी शहरी जीवन से प्यार नहीं कर सकते। आपको अपने चारों और केवल प्राकृतिक वातावरण की आवश्यकता होगी और आप प्रयावरण की देखभाल करना प्रारंभ कर देंगे।
  7. यात्रा आपको अपने स्वयं के साथ दोस्त बनाती है। लंबी यात्रा आपको आत्मसंतोषी और आत्मनिर्भर बनना सिखाती है। यदि आप अकेले यात्रा करते हैं तो आप कभी भी ऊब नहीं सकते हैं और अकेलापन महसूस नहीं कर सकते हैं।
  8. यात्रा आपको बुद्धिमान बनाती है। यात्रा से आप न केवल अपना बचाव करने में सक्षम होना सीखते हैं बल्कि संकट के समय में अपने दिमाग की क्षमता का उपयोग करना भी सीखते हैं।
  9. यात्रा आपके दृष्टिकोण का विस्तार करती है। यात्रा में लोग आपस में मिलते हैं, उनमें परस्पर विचारों का आदान-प्रदान होता है। इससे लोगों में काफी बड़े बदलाव आते हैं और लोगों का जीवन के प्रति नजरिया बदलता है।
  10. यात्रा आपको जीवन का सबसे महत्वपूर्ण ज्ञान प्रदान करती है और तथ्य यह है कि यात्रा सबसे महत्वपूर्ण है लेकिन अपने आप में गंतव्य नहीं है। अंतिम लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि यात्रा आपकी घुमक्कड़ी की आदत को बढ़ाती है। एक बार जब आप यात्रा के लिए जूते पहनते हैं, तो पीछे मुड़कर नहीं देखते। यात्रा आपकी जिंदगी की एक जरूरत बन जाती है। आपके जीवन का एकमात्र आनंद!