Home / Food / 15 हानिकारक स्नैक्स जिन्हें आप स्वास्थ्य के लिए समझते हैं हितकर

15 हानिकारक स्नैक्स जिन्हें आप स्वास्थ्य के लिए समझते हैं हितकर

August 21, 2018
by


Please login to rate

15 हानिकारक स्नैक्स जिन्हें आप स्वास्थ्य के लिए समझते हैं हितकर

हम एक ऐसे समय में हैं, जहाँ स्वास्थ्य, पोषण और संतुलित आहार के बारे में जागरुकता बढ़ रही है। हम में से कई लोग अपने आहार में केवल स्वस्थ भोजन के प्रति शपथबद्ध हैं।

चाहे कोई रेस्तरां में सलाद का ऑर्डर दे रहा हो या स्नैक्स के रूप में चिप्स के बजाय साइट्रस फलों का चयन कर रहा हो, हममें से अधिकांश लोग स्वस्थ रहने के लिए इसको अपना हिस्सा बना रहे हैं।

लेकिन क्या होगा अगर हम जिन खाद्य पदार्थों पर भरोसा करते हैं, वे खाद्य पदार्थ जिनके बारे हम सोचते है कि इनमें कुछ भी हानिकारक नही है, वो हमारे शरीर के लिए हानिकारक साबित हों? जानने के लिए पढ़ें जो खाद्य पदार्थ ‘स्वास्थ के लिए हितकर’ दिखाई देते हैं लेकिन वो वास्तव में बहुत अच्छे होते नहीं हैं।

ध्यान रखिए: कुछ लोगों को झटका लगने वाला है!

1. एनर्जी बार

एनर्जी बार

एक सुरक्षित पौष्टिक भोजन होने के नाते एनर्जी बार पर लोगों को इतना विश्वास होता है कि जब लोगों के स्वास्थ्य लाभ की बात आती है तो किसी के लिए भी यह सोंच पाना मुश्किल होता है कि ये एनर्जी बार मिठाई से ज्यादा अलग नहीं है।अधिकांश एनर्जी बार उच्च ऊर्जा और प्रोटीन का दावा करते हैं लेकिन वास्तव में, इनके पोषण चार्ट कैंडी बार से शायद ही अलग होते हों। वास्तव में, कुछ एनर्जी बार में उतनी ही अधिक चीनी होती है जितनी एक कैंडी में। हालांकि, अभिप्राय यह नही है कि आप इन्हें आहार से पूरी तरह से हटा दें, बल्कि इनका उतनी बार सेवन नही किया जाना चाहिए, जितनी बार स्वस्थ स्नैक का सेवन किया जाता है।

2. डाइट सोडा

डाइट सोडा

हर कोई अच्छी तरह से जानता है कि सोडा स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है– यह आपके पेट की चर्बी को बढ़ाता है और आपके दांतों में कैविटी का कारण बनता है। अध्ययनों से पता चला है कि यह हृदय रोग, मधुमेह तथा कई और बीमारियों से जुड़ा हुआ है। इसलिए, बहुत से लोग इसको डाइट के रूप में शुरू करते हैं, सोचते हैं कि यह अच्छा, स्वास्थ्यवर्द्धक सोडा है। लेकिन अफसोस की बात है, डाइट सोडा न केवल नियमित सोडा के जितना हीखराब हो सकता है, बल्कि यह इससे भी बदतर हो सकता है। डाइट सोडा में एक कृत्रिम मिठास होती है जो आपके इंसुलिन को बढ़ा सकती हैं (कृत्रिम मिठास वास्तविक चीनी की तुलना में मीठी वस्तु से बनीहोती है)। अंततः यह संग्रहित वसा में बदल जाएगा और फिर अनिवार्य रूप से आपको नियमित सोडा की तरह प्रभावित करेगा।

3. ड्राई फ्रूट्स

ड्राई फ्रूट्स

अब, यह कई लोगों के लिए एक शॉक हो सकता है, आखिरकार, यह एक फल है। खैर, ड्राई फ्रूट्सखराब नहीं होते हैं, इन ड्राई फ्रूट्स की पैकेजिंग और प्रसंस्करण इन्हें अस्वास्थ्यकर बना देता है।

कई कंपनियां स्वीट फ्लेवर बनाने के लिए इनमें चीनी डालती है –जो कुछ हद तक ड्राई फूड्स को कैंडी की तरह ही बनाता है। साथ ही, माल के ताजे पन को संरक्षित करने के लिए, अक्सर सल्फर डाइऑक्साइड का उपयोग किया जाता है।

निश्चित रूप से, ड्राई फूड्स में फाइबर, खनिज और विटामिन के गुण होते है, परन्तु इन सब के साथ ही आप बहुत सारी चीनी और रसायनों का भी सेवन करने जा रहे हैं। क्या ड्राई फूड्स अभी भी स्वस्थ टोली का हिस्सा है?

4. वसा-रहित पनीर

वसा-रहित पनीर

आपकी किताबों में वसा-मुक्त जो कुछ भी अच्छा दिया गया हो? उस पर एक बार फिर से विचार करिए। अध्ययनों से पता चला है कि सबसे पहले, सभी वसा आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह नहीं हैं। मोनो-असंतृप्त वसा जैसी कुछ वसा (ओमेगा 3 फैटी एसिड पढ़ें) और पॉली तथा मोनो-असंतृप्त वसा वास्तव में आपके दिल के लिए अच्छी है। जब आप आसानी से इसे अपने पनीर में प्राप्त कर सकते हैं, तो आप इसे हाथ से निकलने न दें। दूसरी बात, जब आप वसा रहित विकल्प चुनते हैं, तो आप वही चुनते हैं जिसमें वसा को अतिरिक्त सोडियम और चीनी द्वारा प्रतिस्थापित किया गया हो। ऐसा इसके खोए हुए स्वाद को ठीक करने के लिए किया जाता है। आखिरकार, आप अधिक मात्रा में भोजन कर सकते हैं, क्योंकि आप वसा रहित भोजन से संतुष्ट नहीं होंगे। इसलिए, वसा रहित पनीर का चयन करते समय एक दूसरा विकल्प चुनिए। मोटापा शायद आप पर अच्छा न लगे, लेकिन मोटापा तो पनीर से ही बढ़ता है।

5. कम वसा वाला मूंगफली का मक्खन

कम वसा वाला मूंगफली का मक्खन

मुँह में पानी ला देने वाला मूँगफली के मक्खन का स्वाद अप्राभावशाली प्रभाव छोड़ता है।

और जब यह कम वसा के विकल्प के साथ आता हो, तो फिर इसका क्या कहना। लेकिन वास्तविकता में लसदार प्राकृतिक संस्करण बेहतरीन है। ऐसा क्यूं? क्योंकि, उपरोक्त पनीर की तरह, जब मक्खन से वसा-मुक्त कर दिया जाता है, तो वे अन्य पूरक तत्व और चीनी डालते हैं, ऐसा कुछ नहीं– जो आपके लिए लाभदायक हो। इसके अलावा, इसमें प्राकृतिक पूर्ण वसा वाले संस्करण के समान ही कैलोरी होती है। इसलिए, नए संस्करण में अधिक शर्करा के साथ वसा की एक ही मात्रा है। नहीं, कम वसा वाला मूंगफली का मक्खन चुनना निश्चित रूप से बेहतर नहीं है।

6. फ्रूट जूस

फ्रूट जूस

सबसे पहलेपैक किया गया या बिना पैकज्यादातर फल (अनार और कुछ अन्यके अपवाद के साथ) जूस में परिवर्तित होने पर अपने पोषण की गुणवत्ता को खो देते हैं। एक फल के छिल के में पोषक तत्व और विटामिन होते हैं और उसके छिलके में स्वस्थ फाइबर होता है, जो अधिकांश जूस के रूप में खो जाता है। और पैक किया हुआ जूस तो और भी बदतर होता है क्योंकि इसको चीनी डाल के पैक किया जाता है। फलों के रस से बनी चीनी आपके लीवर के लिए नुकासानदायक साबित हो सकती है। फलों के जूस सेवन करना एक अच्छा विकल्प नहीं है, बल्कि सीधे फल का उपयोग करना बेहतर विकल्प है।

7. फल और सब्जियों के चिप्स

फल और सब्जियों के चिप्स

जैसा कि हो सकता है कि आलू से बने चिप्स, फल और सब्जी के चिप्स की तुलना में स्वास्थ्यवर्द्धक न हो। इसमें से उनके अधिकांश प्रसंस्करण, चिप्स से फल और सब्जी की पोषण सामग्री को हटा देता है। क्या आप नाश्ते में चिप्स लेते हैं जो स्वादिष्ट और रंगीन होते हैं तथा वास्तविक फल या सब्जी की तरह ही प्रतीत होते हैं?

यदि आप वास्तव में फल या सब्जी की चिप्स के शौकीन हैं, तो आपके पास सबसे अच्छा विकल्प है कि उन्हें घर पर ओवन में तैयार करें।

8. पैकड् कुकीज़

फल और सब्जियों के चिप्स

माना कि पैकड् कुकीज़ मुलायम होते हैं और क्या वे स्वादिष्ट नहीं होते? वे अच्छा स्वाद देते हैं और शाम की भूख को भी आसानी से शांत करते हैं। लेकिन यदि आपने इसकी सामग्री पर ध्यान दें, तो आप देख सकते हैं कि यह नुकसान देय हैं। उनमें बहुत सारे कृत्रिम फ्लेवर, चीनी, खराव होने से बचाने वाली दवाएं और कलर मिले होते हैं जो स्वास्थ के लिए हानिकारक हैं। इसके अलावा, इनको ना खाने का एक और कारण यह है कि वे वनस्पति तेल से बने होते हैं। इसलिए घर पर अपनी खुद कुकीज़ बनाना बेहतर होगा। अपने रसोई के कौशल को आगे बढ़ने दें!

9. ग्लूटेन फ्री पैकज फूड्स

ग्लूटेन फ्री पैकज फूड्स

कभी-कभी ऐसा लगता है कि यह सब कुछ धोखा (ठगी) है और यह वाक्य निश्चित रूप से ग्लूटेन-मुक्त खाद्य पैकेजों (जो अधिक पोषण का दावा करते हैं) के लिए सही साबित होता है। कंपनियां ग्लूटेन (लसा) को हटाने के लिए निम्न उत्पादों जैसे टैपिओका स्टार्च, आलू और चावल जैसे सस्ते उत्पादों का उपयोग करती हैं। ये उत्पाद आपके स्वास्थ्य को बहुत कम लाभ प्रदान करते हैं और यह आपको लंबे समय तक भूखा बनाए रखते हैं जिसके कारण आप मजबूरी में इन उत्पादों को बस खाते चले जाते हैं। इसके अलावा वे ग्लूटेन के एक स्रोत के रूप में शुगर का भी इस्तेमाल करती हैं।

10. साबुत अनाज की ब्रेडया कई अनाज वाली ब्रेड

साबुत अनाज की ब्रेडया कई अनाज वाली ब्रेड

आप जब भी ब्रेड खरीदें तो बहुत ही देख समझ कर ही खरीदें। क्योंकि ये जो दुकानदार ब्राउनब्रेड बेचते हैं वह सामान्य सफेद ब्रेड के अलावा और कुछ नहीं है बस वह भूरी होती है। तो, अगली बार, जब आप किराने की दुकान पर खरीदारी करने के लिए जाएं, तो इसमें पड़ने वाली सामग्री जांचें। आम तौर पर, अच्छी ब्राउन ब्रेड की सामग्री सूची में सबसे पहली सामग्री साबुत अनाज का आटा होती है। और यह “अधिक प्रोटीन वाला गेहूं का आटा” नहीं होना चाहिए। आप केवल एक साबुत अनाज की ब्रेड खरीद रहे हैं, जिसके लिए कोई नया शब्द बोलने की जरूरत नहीं है। तो, केवल उतना ही भुगतान करें आप भगतान करने के लिए सोच रहें हो।

11. फ्लेवर्ड मिल्क

फ्लेवर्ड मिल्क

आह! फ्लेवर्डमिल्क! कौन नहीं पसंद करता? तो इस हिसाब से ये  स्वादिष्ट और बहुत ही स्वाथवर्धक होने चाहिए, सही है ना? खैर,क्या वे पौष्टिक दूध नहीं हैं? खैर सच है, लेकिन आप इनमें मिली हुई अत्याधिक चीनी का उपभोग भी कर रहे हैं। डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) किसी भी व्यक्ति के लिए, एक दिन में 6 से अधिक चम्मच चीनी के उपयोग की सलाह नहीं देता है और यदि आप इन फ्लेवर्ड मिल्क से ही इतनी या इससे अधिक चीनी का उपभोग कर रहे हैं तो अन्य खाद्य पदार्थों से आपके शरीर में जाने वाली चीनी के बारे में सोचें। यकीनन इससे आपके शरीर में अधिक मात्रा में चीनी जाएगी।

12. नट्स के पैक

नट्स के पैक

अब नट्स की बात करें तो इनमें तो कोई खराबी नहीं लेकिन सिर्फ बात इतनी है कि इन पर कोट किया हुए फ्लेवर सारा खेल खराब कर देते हैं। बहुत से नमक और चीनी के साथ कोटेड होते हैं, यह उससे अधिक होता है जितना की आप अपनी डाइट में लेना चाहते हैं। हालांकि, आपको अपने आहार में नट्स का उपयोग अवश्य करना चाहिए क्योंकि नट्स पोषक तत्वों और प्रोटीन में समृद्ध होतेहैं। तो, एक अखरोट पैक खरीदने के बजाय, आप अपने कच्चे, अनप्रचारित नट्स खाएं और यदि आप चाहें तो थोड़ा सा नमक भी छिड़क सकते हैं। यह कदम आपके स्वस्थ जीवन की ओर है।

13. ग्रेनोला

ग्रेनोला

ग्रोनोला को एक स्वस्थ नाश्ता माना जाता है। लेकिन ब्रांड का चयन करते समय आप बहुत समझदारी से काम लें। क्योंकि कुछ चीजें बहुत समृद्ध नहीं होती हैं और ये आपके आहार में कार्बोहाईड्रेट, कैलोरी और चीनी की मात्रा को बढ़ा सकती हैं। इस लिए उस ब्रांड का इस्तेमाल करें जिसमें चीनी की मात्रा कम हो और स्वस्थ बर्धक नट्स का उपयोग किया गया हो।

14. स्मूदी

स्मूदी

जब आप किसी दुकानपर एक स्मूदी पैक पर नजर डालते हैं, तो हम पर भरोसा करें, आप कैलोरी और शुगर से परिपूर्ण पदार्थ को देख रहे हैं। वास्तविक रूप से दुकान पर बिकने वाले स्मूदी पेय पदार्थों में असली फल की मात्रा बहुत कम होती है। इसलिए घर पर स्मूदी पेय पदार्थ बनाना एक बहुत ही स्वस्थ विकल्प है। इस तरह आप आवश्यक सामग्रियों और चीनी को सही मात्रा में डाल सकते हैं जिनका आप अपने आहार में ध्यान नहीं रख पाते है। लेकिन तरल पेय पदार्थ बनाने के लिए फलों के रस का उपयोग करने से बचें, क्योंकि यह चीनी की अधिक मात्रा को कम कर देगा। नारियल का पानी या सिर्फ सादा पानी ठीक रहेगा।

15. तैयार सलाद

तैयार सलाद

यदि आपको लगता यह है कि जब आप एक रेस्तरां में पिज्जा के बजाय सलाद का ऑर्डर करते हैं तो आप स्वस्थ्य विकल्प चुनते हैं, फिर से सोंचें। अधिकांश सलाद पूरी तरह से सजावट से भरपूर होते हैं जो स्वास्थ्य की मात्रा को खत्म कर देते है। कभी-कभी आपके पास चीजबर्गर की तुलना में कम कैलोरी नहीं है। तो यह वास्तव में सजावट पर बहुत अधिक निर्भर करती है। तो, अपने टॉपिंग और सजावट का ध्यान रखें और उन चीजों से सजावट करें जिनमें कम संतृप्त वसा हो। पौष्टिक सेम, सैल्मन इत्यादि को अपने आहार में शामिल करके प्रोटीन की मात्रा को बढ़ाएं।

क्या आप आश्चर्यचकित हैं? खैर, इनमें से कुछ या सभी 15 आपके आहार का हिस्सा हो सकते हैं। तो, क्या आप उन्हें पीछे रखने और वास्तविक स्वस्थ जीवन जीने के लिए तैयार हैं?

 

Summary
Article Name
15 स्नैक्स जो आपको लगते हैं कि स्वस्थ हैं लेकिन असल में हैं नहीं
Author
Description
हमें स्वास्थ्य, पोषण और संतुलित आहार के बारे में जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता हैं। हम में से कई ने केवल अपने आहार में स्वस्थ भोजन खाने की वादा किया है। खाद्य पदार्थों के बारे में जानने के लिए इस लेख को पढ़ें जो 'स्वस्थ' दिखाई देते हैं लेकिन वास्तव में बहुत ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक नहीं हैं।