Home / Food / लखनऊ के स्ट्रीट फूड

लखनऊ के स्ट्रीट फूड

May 28, 2018
by


Please login to rate

लखनऊ के स्ट्रीट फूड

नवाबों का शहर लखनऊ अपने समृद्ध इतिहास, संस्कृति, कला और महत्वपूर्ण रूप से मांसाहारी भोजन के शौकीन लोगों के लिए जाना जाता है, इसके साथ ही यह शहर स्ट्रीट फूड के साथ मांसाहारी भोजन के शौकीन लोगों के लिए एक शानदार स्थान है। लखनऊ की सड़कें आपको बहुत सी चीजों की पेशकश करती हैं और विशेष रूप से तब, जब आप तन मन से मांसाहारी भोजन की तलाश कर रहे हों। लखनऊ की पुरानी संकीर्ण गलियां शहर के गौरवशाली इतिहास, संस्कृति, कला और शहर के भोजन पर विभिन्न शासकों की छाप दर्शाती हैं। दुनिया भर से आने वाले यात्री घर के स्वाश्थ्यकर भोजन को भूल जाते हैं, मुँह में पानी ला देने वाले कबाबों से लेकर आत्मा को संतुष्ट कर देने वाली कुल्फी तक उत्कृष्ट नवाबी स्वाद और भोजन में समृद्ध मसाले आपको थोड़ा और- थोड़ा और कहने पर मजबूर कर देते हैं।

यदि आप नवाबों के शहर- लखनऊ जाने की योजना बना रहे हैं, तो यहाँ पर लखनऊ में आपकी भूख को शांत करने के लिए कुछ बेहतरीन स्ट्रीट फूड वाले स्थानों के बारे में बताया जा रहा हैः

टुंडे कबाब, टुंडे के कबाब, चौक बाजार

मांसाहारी होने के नाते- आप लखनऊ में सबसे प्रसिद्ध चौक बाजार की गलियों में इन मुलायम, मसालेदार, मुँह में घुल जाने वाले कबाबों को खाने से चूक नहीं सकते, जिसे स्वादिष्ट स्ट्रीट फूड के रूप में जाना जाता है। एक दिलचस्प कहानी है कि कैसे कबाब को वर्तमान समय में टुंडे कबाब- जो किसी जमाने में एक नवाब (काकोरी का नवाब) हुआ करता था, का नाम मिला, वह नबाब कभी भी इन कबाबों को खाने का विरोध नहीं करता था, भले ही वह उन्हें मुश्किल से चबा पाता।

टुंडे कबाब, टुंडे के कबाब, चौक बाजार

अपने कबाबों का आनंद लेना जारी रखने के लिए, नवाब ने ऐसे कबाबों के बनाने की प्रतियोगिता रखी जिनको बिना चबाए ही खाया जा सकते यानी वे इतने मुलायम हों कि बिना चबाए ही मुँह में घुल जाएं। हाजी मुराद अली- जिसका एक ही हाथ था क्योंकि दूसरा हाथ कटा हुआ था, प्रतियोगिता जीत गया, और उसके टूटे हुए हाथ के कारण कबाबों को टुंडे का नाम दिया गया। वह पूरे देश में सर्वश्रेष्ठ कबाब बनाने के लिए प्रसिद्ध हो गया। यह नुस्खा पारिवारिक परंपरा का एक हिस्सा बना हुआ है और पीढ़ियों से पसंद किया जा रहा है, और आप भी 150 से अधिक सामग्रियों से और मुलायम मांस के टुकड़ों से बने इस कबाब के स्वाद को महसूस कर सकते हैं।

नहारी कुल्चा, रहीम के कुल्चा नहारी, अकबरी गेट, चौक बाजार

चौक बाजार की संकीर्ण गलियों के अंदर रहीम की नहारी 1890 में हाजी अब्दुर रहीम साहेब द्वारा शुरू किया गया एक शताब्दी पुराना खाद्य स्थान है, और तब से इस छोटी सी जगह ने कई वर्षों से स्वादिष्ट नहारी और आनंद प्रदान करने वाले गिलाफ कुल्चे के साथ लाखों लोगों को इसकी पेशकश की है। नहारी को रात भर पोटली मसाला, गरम मसाला और अन्य मसालों के साथ माँस के टुकड़ों को डालकर तैयार किया जाता है।

नहारी कुल्चा, रहीम के कुल्चा नहारी, अकबरी गेट, चौक बाजार

इस नुस्खे को बनाने के बाद से यह परिवार द्वारा पसंद किया जाने लगा और गुप्त सामग्री द्वारा नहारी को पसंद करने वाले ग्राहकों के लिए इसे विशेष बनाया जाता है। गिलाफ कुल्चा, आटा, दूध, घी, खमीर और अन्य चीजों से बनाया जाता है।, गिलाफ कुल्चा की ऊपरी परत तंदूर से बनी हुई लगती है जबकि निचली परत को खमीर से बनाया जाता है। इसे स्वादिष्ट नाश्ते या दोपहर के भोजन के रूप में परोसा जाता है। सुबह के समय भूखे पेट इसे खाने से आनन्द मिलता है और ऐसा लगता है जैसे इसका स्वाद और बढ़ गया हो।

बन-मक्खन, शर्मा जी टी स्टाल, लालबाग

लालबाग में शर्मा जी टी स्टाल की यात्रा के बिना लखनऊ की आपकी यात्रा पूरी नहीं हो सकती है, इस चाय की दुकान पर पूरे दिन अधिक संख्या में मौजूद भीड़ को आसानी से देखा जा सकता है।

1948 में पंडित ओम प्रकाश शर्मा अलीगढ़ से लखनऊ आ गए थे और तथी से हजरतगंज की संकीर्ण गलियों के बीच में स्थित, यह स्थान गर्म चाय, बन मास्का और गोल समोसे की पेशकश करता है।

पिछले कुछ वर्षों में, विभिन्न राज्यों और देशों के लोगों ने स्वादिष्ट बन मास्का, स्वादिष्ट गोल समोसा जो गर्म चाय के साथ परोसा जाता है, का स्वाद लेने के लिए इस जगह का दौरा किया।

बन-मक्खन, शर्मा जी टी स्टाल, लालबाग

यह स्थान पूरे दिन लोगों की भीड़ से भरा रहता है जहां शायद ही हिलने डुलने की भी जगह नहीं बचती है। लेकिन, इस भीड़ के पीछे हलचल का मुख्य कारण मुलायम बन मक्खन का स्वाद लेना है, जबकि चाय पसंद करने वाले लोगों को मसाला चाय की पेशकश की जाती है।

इदरीस की बिरयानी, राजा बाजार, चौक

बिरयानी के शौकीन, यदि आप लखनऊ में हैं या लखनऊ यात्रा करने जा रहे हैं, तो आप स्वादिष्ट बिरयानी जिसे इदरीस बिरयानी के रूप में परोसा जाता है, को नहीं भूल सकते। यह जगह पुरानी लखनऊ में चौक की गलियों में खाद्य व्यंजनों में से एक है, यहां की साधारण व्यवस्था आपको निराश नहीं करती क्योंकि भोजन आपकी प्रतीक्षा के लायक होता है।

इदरीस की बिरयानी, राजा बाजार, चौक

स्वादिष्ट मटन कोरमा के साथ मटन बिरयानी का स्वाद अपने आप में अनूठा है। इदरीस की बिरयानी में मसालों का मिश्रण और लखनवी स्वाद जो इसे हर प्रकार से अद्वितीय बनाता है, आप सचमुच, अपने स्वाद के आधार पर विशिष्ट स्वादों को भूलकर इसके हर निवाले से स्वाद को महसूस कर सकते हैं जो आपको आनंद प्रदान करेंगे।

प्रकाश की कुल्फी, अमीनाबाद और गोमती नगर

उत्तर भारत के लखनऊ में कुछ बेहतरीन मिठाइयों की भी पेशकश की जाती है और यदि आप इसे खाने के उत्सुक हैं तो आप निराश नहीं होंगे। शहर में मिठाई की विस्तृत श्रृंखला उपलब्ध है जैसे शाही टुकड़ा, मक्खन मलाई, फ़िरनी, मलाई गिलोरी और जर्दा। भोजन के बाद अपने मीठे की चाहत को पूरा करने के लिए प्रकाश की कुल्फी सबसे अच्छी जगह है, जहां शहर में सबसे अच्छी कुल्फी और फालूदा की अलग-अलग स्वादों में पेशकश की जाती है। जब आप लखनऊ के सभी व्यंजनों जैसे बिरयानी और नहारी कुल्चे का स्वाद ले लेते हैं, तो अमीनाबाद और गोमती नगर में प्रकाश कुल्फी स्थान पर भीड़ के साथ मसालेदार व्यंजनों को खाने के बाद आप पसंदीदा केसर कुल्फी और उसके ऊपर पड़े हुए फालूदे को खाने के लिए इस स्थान पर जा सकते हैं।

प्रकाश की कुल्फी, अमीनाबाद और गोमती नगर

एक यात्री के तौर पर यदि आप लखनऊ जा रहे हैं, तो लखनऊ की भीड़ वाली गाड़ियों पर पेश किए जाने वाले भोजन की विस्तृत श्रृंखला से चूक सकते हैं और फिर इसके बाद आपके पास कोई रास्ता नहीं बचता। टिक्का, कबाब, नहारी कुल्चे की सुगंध हर जगह फैलती है जो आपको देश में कुछ स्वादिष्ट मांसाहारी भोजन को बनाने के लिए बाध्य करती है।

सारांश
लेख का नाम    –    लखनऊ के स्ट्रीट फूड

लेखक का नाम –     वैभव चक्रवर्ती

विवरण             –            नवाबों का शहर लखनऊ अपने समृद्ध इतिहास, संस्कृति, कला और महत्वपूर्ण रूप से मांसाहारी भोजन के शौकीन लोगों के लिए जाना जाता है, इसके साथ ही यह शहर स्ट्रीट फूड के साथ मांसाहारी भोजन के शौकीन लोगों के लिए एक शानदार स्थान है।