Home / Government / 86वां वायुसेना दिवस: आकाश के सरपरस्तों को सलाम

86वां वायुसेना दिवस: आकाश के सरपरस्तों को सलाम

October 8, 2018


86वां वायुसेना दिवस: आकाश के सरपरस्तों को सलाम

हर साल भारत, भारतीय वायु सेना दिवस 8 अक्टूबर को बहुत ही गर्व  के साथ मनाता है क्योंकि इस दिन 1932 में वायुसेना की स्थापना हुई थी। यह दिन, भारत के सहायक निकाय के रूप भारतीय वायुसेना की आधिकारिक स्थापना के पुण्य स्मरण में मनाया जाता है। आजादी से पहले इसे रॉयल इंडियन एयरफोर्स के नाम से जाना जाता था मगर बाद में 1950 में इसके नाम से रॉयल शब्द को हटा दिया गया था।

इस दिन, वायु सेना द्वारा हवा में शानदार करतब देखने को मिलते हैं, जो वायुसेना दिवस का प्रतीक है। हर साल, विभिन्न आईएएफ विमान द्वारा स्काईडाइविंग, परेड और शपथ समारोह का आयोजन भी किया जाता है। इस साल डकोटा विमान 1940 के पुराने विमान सहित अट्ठाईसविमान फ्लाई-पास्ट समारोह में भाग लेंगे। इसके अलावा, वायुसेना स्टेशन हिंडन (गाजियाबाद) में टाइगर मॉथ और हार्वर्ड विंटेज एयरक्राफ्ट भी हवाई प्रदर्शन में भाग लेंगे।

भारतीय वायु सेना ने युद्ध, राहत और बचाव अभियान तथा शांति रक्षा मिशन सहित विभिन्न गतिविधियों में सक्रिय रूप से भागीदारी की है। वायुसेना दिवस के अवसर पर आइए भारतीय वायु सेना के महत्वपूर्ण योगदानों पर नज़र डालते हैं–

भारतीय वायुसेना द्वारा युद्ध और जंगी कार्रवाई

भारतीय वायुसेना ने द्वितीय विश्व युद्ध और ऑपरेशन विजय सहित कई महत्वपूर्ण युद्धों और जंगी कार्रवाइयों में हिस्सा लिया है। आइए सेना द्वारा किए गए प्रमुख युद्धों और जंगी कार्रवाइयों पर डालें एक नज़र:

द्वितीय विश्व युद्ध (1939) – रॉयल इंडियन वायुसेना ने द्वितीय विश्व युद्ध में एक सहायक भूमिका निभाई थी। वायुसेना ने बर्मा में जापानी सेना को अवरुद्ध कर दिया था और उत्तरी थाईलैंड में मै होंग सोन, चियांग माई और चियांग राय में स्थित जापानी एयरबेस के खिलाफ स्ट्राइक मिशन को भी अंजाम दिया था। भारतीय वायु सेना (आईएएफ) इसी समय विस्तारित हुई और वुल्टे वेन्जेन्स, डगलस डीसी -3, सुपरमाराइन स्पिटफायर तथा वेस्टलैंड लिस्डर सहित आदि नए एयरकाफ्ट को इसके बेड़े में जोड़ा गया।

कश्मीर युद्ध (1947) – कश्मीर के विभाजन के दौरान, भारतीय वायु सेना हवाई परिवहन और जमीनी सैनिकों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने में सक्षम थी। इसने भारतीय सैनिकों को श्रीनगर तक ले जाने में भी मदद की थी।

ऑपरेशन विजय (1961) – भारत के भीतर पुर्तगाली उपनिवेशों को मुक्त करने के उद्देश्य सेऑपरेशन विजय की शुरुआत 1961 में की गई थी। रक्षा बलों के सभी तीन वर्गों ने ऑपरेशन विजय में भाग लिया था। वायुसेना ने इसमें एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 12 दिसंबर 1961 को, भारतीय वायुसेना के विमानों ने बम्बोलिम में स्थित रेडियो स्टेशन और दाबोलिम में हवाई अड्डे पर हमला किया।

भारत-चीन युद्ध (1962) – अधिकांश लड़ाई पहाड़ों में हुई थी, फिर भी भारतीय वायु सेना की भूमिका महत्वपूर्ण रही क्योंकि इसने सैन्य-तं‍त्र की आवश्यकता को पूरा किया था। भारतीय वायुसेना ने तत्कालीन उत्तर पूर्व फ्रंटियर एजेंसी (एनईएफए) और लद्दाख में सेवा प्रदान करके योगदान दिया।

भारत-पाकिस्तान युद्ध (1965) – 1962 में भारत -चीन युद्ध में, वायु सेना काफी हद तक युद्ध से दूर रही, जिसकी भारी कीमत भारत को चुकानी पड़ी। अपनी गलती को न दोहराते हुए, इस बार भारतीय वायुसेना ने 1965 के भारत-पाक युद्ध में सक्रिय रूप से भाग लिया और पाकिस्तानी वायुसेना के खिलाफ इन्डिपेन्डन्ट रेड मिशनको अंजाम दिया।

बांग्लादेश मुक्ति युद्ध (1971) – 1965 के युद्ध के बाद, भारतीय वायुसेना में कई बदलाव हुए। ये बदलाव आधुनिकीकरण और एकत्रीकरण के थे, जिसमें नए विमानों को शामिल करते हुए एचएफ -24 और मिग -21 समेत नए विमानों कोअभिगृहीत किया गया था। यह वही समय था जब आईएएफ (भारतीय वायु सेना) को दुनिया की सबसे शक्तिशाली वायु सेनाओं में से एक माना जाता था। 1971 के युद्ध के दौरान, वायुसेना ने पूर्वी पाकिस्तान में आगे बढ़ने के लिए भारतीय सेना को सफल वायु रक्षा प्रदान की। भारतीय वायुसेना ने बंगाल की खाड़ी में पाकिस्तानी जहाजों को डुबोने में भारतीय नौसेना की भी सहायता की। युद्ध के दौरान आईएएफ ने कई टैंक और वाहनों को भी ध्वस्त कर दिया था। युद्ध के दौरान पूर्ण वायु श्रेष्ठता प्राप्त करने के बाद, आईएएफ ने बांग्लादेश की मुक्ति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

ऑपरेशन मेघदूत (1984) – 1984 में लॉन्च किया गया ऑपरेशन मेघदूत, बहुत ही अद्वितीय था क्योंकि यह दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन में किया जाने वाला युद्ध था। आईएएफ ने इसमें एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जिसमें उसने सामग्री, सैनिकों का अपवाहन किया और राहत सामग्री की आपूर्ति की।

सियाचिन ग्लेशियर में सैन्य कार्रवाई की सफलता को आईएएफ द्वारा किए गए सक्रिय संचालन का जिम्मेदार, अपनी सहायक नदियों और मार्ग पर नियंत्रण हासिल करने की भारत की क्षमता को ठहराया जा सकता है।

ऑपरेशन पुमालाई (1987) – गृहयुद्ध के दौरान मानवतावादी आधार पर श्रीलंका की सहायता के लिए 1987 में भारतीय वायुसेना द्वारा ऑपरेशन पुमालाई शुरू किया गया। ऑपरेशन के दौरान, आईएएफ एयर ने जाफना शहर में राहत सामग्री को हवाई जहाज द्वारा गिरा दिया गया था।

कारगिल (1999) – भारतीय वायु सेना ने ऑपरेशन सफेद सागर शुरू करके कारगिल युद्ध के दौरान एक प्रमुख भूमिका निभाई थी। आईएएफ ने हमले के लिए 16 लड़ाकू जेट और मिग्स तैनात किए थे। आईएएफ को कभी भी भारतीय सीमा रेखा (एलओसी) को पार करने की इजाजत नहीं थी इसलिए इसे अपने ही हवाई क्षेत्र में सीमित रखा गया था। युद्ध के दौरान पाकिस्तानी सेनाओं को आईएएफ अभी भी काफी नुकसान पहुंचा सकता था। यह पहली बार था जब एक वायुसेना जमीन के लक्ष्यों में लगी हुई थी और कारगिल के ऊंचे पर्वत शिखर पर वायु रक्षा हथियारों द्वारा भी इसका बचाव किया गया था।

अटलांटिक घटना (1999) –1999 में, एक पाकिस्तानी नौसेना का विमान ब्रेगेट अटलांटिक कच्छ के रैन पर उड़ रहा था, जिसे दो आईएएफ जेटों ने गोली मार दी और सभी सवार लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी।

ऑपरेशन सागर लहर (2004) – जब 26 दिसंबर 2004 को बड़े पैमाने पर भूकंप और सुनामी ने भारत के पूर्वी तट को तहस-नहस कर दिया था, तो भारतीय वायु सेना द्वारा तत्काल राहत और बचाव अभियान शुरू करने के लिए ऑपरेशन सागर लहर शुरू किया गया। कार निकोबार में वायु सेना बेस भी सबसे खराब हिट में से एक था। हालांकि, वायु सेना ने लोगों को पुनर्वास के लिए उपलब्ध विमानों का उपयोग करके राहत और बचाव अभियान चलाया और राहत उड़ान परिवहन में तेजी लाने के लिए उड़ानों की पूर्वावश्यकता को सहारा दिया।

ऑपरेशन राहत (2015) – ऑपरेशन राहत शुरू किया गया जब गृह युद्ध के दौरान यमन राज्य संकट में था। भारत सरकार ने यमन में विभिन्न स्थानों पर आधारित 4000 से अधिक भारतीय नागरिकों का तत्काल निकासी मूल्यांकन किया। भारतीय वायुसेना ने राष्ट्रीय नागरिकों को बजीबुती से वापस लाने के लिए तीन सी -17 विमान तैनात किए। आईएएफ द्वारा कुल 11 निकासी यात्राएं की गईं और 2096 भारतीय नागरिकों को बचाया गया।

भारतीय वायु सेना द्वारा आयोजित राहत और बचाव अभियान

वायुसेना प्राकृतिक आपदाओं और विपत्तियों  के समय देश के नागरिकों को राहत और बचाव अभियान भी प्रदान करती है। भारतीय वायु सेना ने राहत और बचाव कार्यों में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। हाल ही में, केरल में राज्य सरकार के अनुरोध परवायु सेना ने प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए वायनाड में तत्काल सहायता प्रदान की।

वायु सेना प्राकृतिक आपदाओं के दौरान राहत कार्यों के लिए व्यापक सहायता भी प्रदान करती है जैसे 1998 में गुजरात चक्रवात, 2004 में सुनामी, 2013 में उत्तराखंड बाढ़, 2015 में तमिलनाडु बाढ़।

भारतीय वायु सेना ने न केवल भारत में बल्कि पड़ोसी देशों यमन, म्यांमार, श्रीलंका और मालदीव समेत पड़ोसियों के लिए रेस्क्यू मिशन किए हैं।