Home / Health / भोजन विषाक्तता (फूड पॉइजनिंग) – कारण, लक्षण और रोकथाम

भोजन विषाक्तता (फूड पॉइजनिंग) – कारण, लक्षण और रोकथाम

March 26, 2018


विषैले खाद्य पदार्थों के साथ जहरीले रसायनों का सम्मलित होना ‘भोजन विषाक्तता’ के बारे में एक सामान्य गलतफहमी है। जिसे आप अपने दैनिक समाचार पत्र के तीसरे पेज में अपराध की कहानियों के अलावा देख सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। भोजन विषाक्तता (फूड पॉइजनिंग), संक्रमण के कारण होती है, जिसमें कुछ सामान्य जीवाणु, खाद्य पदार्थों के वायरल और परजीवी संदूषक, जठरांत्र मार्ग के भीतर विषाक्त पदार्थों का निर्मुक्तिकरण और और नैदानिक लक्षण अहम भूमिका निभाते हैं।

कारण 

सूक्ष्मजीवों का सूत्रधार भोजन विषाक्तता (फूड पॉइजनिंग) का कारण बन सकता है। सबसे आम सूक्ष्मजीव एंटम्यूबा (एक आम परजीवी, जिसके कारण पेचिश हो सकती है), जिआर्डिया (एक ऐसा परजीवी, जो दस्त की कारण बनता है), कैंबिलोबैक्टर, शिगेला, साल्मोनेला, ई कोलाई, लिस्टेरिया और नोरोवायरस (ऐसा बैक्टीरिया, जो टाइफाइड का कारण बनता है) हैं।

ऊपर लिखे हुए सूक्ष्मजीवों में से ज्यादातर भोजन पदार्थों में पाए जाते हैं। दूषित खाद्य पदार्थ खाने या पीने से इनमें से कोई भी बीमारी आसानी से हो सकती है। हरी पत्तेदार सब्जियाँ, कोई भी कच्ची सब्जी, कच्चे अंडे, कच्चे फलों का रस, दूध और डेयरी उत्पाद, अंकुरित पदार्थ, टूना मछली और अन्य समुद्री भोजन आदि जैसे खाद्य पदार्थ सामान्यतः संक्रमण का स्त्रोत होते हैं। हाल ही में एक पत्रिका और पर्यावरण माइक्रोबायोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन में, शंघाई ओसिएन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला है कि आयस्टर, नोरोवायरस संक्रमण का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत हैं। भोजन के अलावा, पशु मल, कृषि उत्पाद, डायपर और स्विमिंग पुल भी संक्रमण का स्त्रोत हो सकते हैं।

संकेत और लक्षण  

संक्रमण के स्त्रोत चाहे जो भी हो, लेकिन पेट का दर्द, जी मिचलाना, उल्टी, दस्त, बुखार और शरीर में दर्द आदि विषाक्त भोजन के लक्षण हैं। पेचिश के कारण रक्त और श्लेष्मा के साथ पतले दस्त आते हैं। भले ही भोजन विषाक्तता के अधिकांश मामलों की अवधि 5-7 दिनों की होती है, लेकिन फिर भी यह युवा, बुजुर्ग या कम प्रतिरक्षा की स्थिति वाले लोगों (जैसे गर्भवती महिलाओं और एचआईवी संक्रमण वाले लोगों) के जीवन के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं।

उपचार  

बैक्टीरिया और परजीवी संक्रमण को छोड़कर, सभी में एंटीबायोटिक दवाएं और एंटी-पैरासिटिक दवाओं का उपयोग किया जा सकता है। भोजन विषाक्तता के उपचार का मुख्य आधार प्रकृति में विद्यमान होता है। तरल पदार्थों का उपयोग पानी की कमी को पूरा करने के लिए किया जा सकता है, जो उल्टी और डायरिया से शीघ्र राहत दिलाने का काम करते हैं। खनिज संबंधी तरल पदार्थों जैसे कि नारियल का पानी और सुरक्षित फलों के रस का अधिक सेवन करना चाहिए और गंभीर मामलों में, इन्ट्रावेनस फ्लूड के साथ-साथ अस्पताल में भर्ती कराना आवश्यक माना जाता है। बच्चों में, ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्यूशन (ओआरएस), जो कि ज्यादातर फार्मेसियों और प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों में उपलब्ध है, उपचार की एक बहुत महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्यूशन (ओआरएस) की अनुपस्थिति में, 6 चम्मच चीनी और आधा चम्मच नमक को एक लीटर गर्म या ठंडे पानी में मिलाया जा सकता है और बच्चों, वयस्कों दोनों को रिहाइड्रेशन के स्थान पर दिया जा सकता है।

रोकथाम

कुछ सावधानियाँ बरतने से इन अधिकांश संक्रमणों को होने से रोका जा सकता है। जिसमें हाथ धुलकर भोजन करना सबसे मूलभूत और महत्वपूर्ण आवश्यकता है। खाना खाने से पहले और बाद में साबुन से हाथ धोना दूषितकरण को रोकने का एक आसान तरीका है। जबकि कच्ची सब्जियाँ खाना इसके संभावित स्वास्थ्य लाभों की दृष्टि से फायदेमंद है। इस बीच प्रेरक जीवाणुओं के साथ संक्रमण के खतरे को बढ़ने से रोकने के लिए संतुलन बनाए रखना पड़ता है। फ्रिज में सब्जियाँ रखते समय उनपर सिरके या नमक के पानी का उपयोग करने से, उनमें संक्रमण की संभावना काफी कम हो जाती है। पशु उत्पादों और माँस का उपभोग अच्छी तरह से पकाकर करना चाहिए। केवल पाश्चुरीकृत दूध और फलों के रस का सेवन करना चाहिए। सड़क के किनारे बने सभी भोजनालयों में भोजन करने से बचना चाहिए। बाल विशेषज्ञों द्वारा स्तनपान की सलाह दी जाती है, इसलिए शिशुओं को प्रारंभिक चरणों में केवल स्तनपान कराना चाहिए।