Home / Imo / क्या मृत्यु दण्ड समाप्त होना चाहिए?

क्या मृत्यु दण्ड समाप्त होना चाहिए?

August 28, 2018
by


Please login to rate

क्या मृत्यु दण्ड समाप्त होना चाहिए?

सरकारी सूत्र बताते हैं कि स्वतंत्रता के बाद से भारत में 52 लोगों को मृत्यु दण्ड दिया गया है।हालांकि, एक भारतीय मानवाधिकार संगठन,पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज का दावा है कि यह संख्याएं बहुत अधिक हैं।उनके शोध के अनुसार दशक 1953-63 में 1422 मृत्यु दण्ड दिए गए हैं। 30 जुलाई 2015 को भारत मेंअंतिम मृत्यु दण्ड याकूब मेमन को दिया गया था।1993 के मुम्बई बम विस्फोट में उसकी भूमिका के लिए उन्हें दोषी ठहराया गया था।एक अन्य नाम जिसे लोग हमेशा याद रखते हैं वह 2008 के मुंबई हमलों का आतंकवादी अजमल कसाब है।उसे 21 नवंबर, 2012 को मृत्यु दण्ड दिया गया था।

वर्तमान में, दुनिया भर के लगभग 140 देशों ने मृत्यु दंड को या तो सामान्य व्यवहार में या कानून द्वारा समाप्त कर दिया है।भारत में इसका कुछ अंश बाकी है जो अभी भी चीन, संयुक्त राज्य अमेरिका, पाकिस्तान आदि के साथ मृत्यु दण्ड को बरकरार रखता है।2017 में, संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने उत्कृष्ट रुप से कहा कि “21 वीं शताब्दी में मृत्युदंड का कोई स्थान नहीं है”, उन देशों से आग्रह है जहां अभी भी मृत्यु दण्ड का प्रवधान है वहां इसे तुरंत ही समाप्त किया जाना चाहिए। हालांकि, भारत में इस मुद्दे को लेकर तर्क में मतभेद हैं।

क्या मृत्युदंड वास्तव में “अंतिम सजा” है या क्या इसे प्रतिबंधित किया जाना चाहिए?

लोग मृत्यु दंड का समर्थन क्यों करते हैं

जुलाई, 2018 में, लोकसभा ने एक बिल पारित किया जिसमें 12 वर्ष से कम आयु के नाबालिग के साथ बलात्कार करने वाले किसी भी व्यक्ति को दोषी पाए जाने पर मृत्यु दंडदिया जाएगा। उसी महीने, सुप्रीम कोर्ट ने 2012 निर्भया बलात्कार मामले के तीन दोषियों को मृत्यु दण्ड दिया। दोनों कार्यवाहियों की सराहना की गई, इसे भारत के साहसिक कार्य के रूप में देखा जा रहा था कि “हम अब बलात्कार को और अधिक बर्दाश्त नहीं करेंगे”।

उन लोगों के लिए जो समान विचारधारा का पालन करते हैं, उनके लिए मृत्युदंड न्याय और सजा का सर्वोच्च रूप है। लोग मानते हैं कि यह अपराध के लिए एक प्रभावशाली निवारक के रूप में कार्य करता है, मृत्यु एक ऐसी चीज है जिससे सभी डरते हैं। इसके अलावा, उनका मानना है कि हत्या, नरसंहार, आतंकवाद, बलात्कार आदि जैसे अपराधों के दोषी अभियुक्तों के लिए, मृत्युदंड से कम कोई भी सजा न्याय की सेवा में विफल रही है।

सिक्के का दूसरा पहलू

2015 में, भारत के विधि आयोग ने अपनी 262 वीं रिपोर्ट जारी की, जिसमें देश को आतंकवाद के मामलों को छोड़कर अन्य मामलों में मृत्युदंड को समाप्त करने की सिफारिश की। भारत का विधि आयोग एक सलाहकार निकाय है जो सरकार को कानून संशोधन का सुझाव देता है। कारण बताते हुए, यह ध्यान दिया गया है कि सामान्य धारणा के विपरीत, मृत्यु दंड अनिवार्यता एक निवारक के रूप में कार्य नहीं करता है। तर्क का समर्थन आंकड़ों द्वारा किया गया था। भारत की हत्या दर 1992 से 2013 तक गिर गई है, जो मृत्यु दंड में गिरावट से मिलती जुलती है।

2009 में, सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार किया कि उसने 15 वर्षों में 15 लोगों कोगलत तौर पर मृत्यु दंड दिया था।

2012 में, 14 सेवानिवृत्त न्यायाधीशों ने तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को लिखा था कि 1996 से अब तक सुप्रीम कोर्ट ने 15 लोगों को गलत तौर पर मृत्यु दंड दिया था, जिनमें से दो को फांसी दी गई थी। ऐसे मामले रहे हैं, जिनमें मृत्यु दंड के बाद शोध ने निष्कर्ष निकाला है कि जाँच में चौंकाने वाली कमियां सामने आई थी।

धनंजय चटर्जी, 21 वीं शताब्दी में आतंकवाद के अलावा अन्य कारणों से मृत्यु दंड दिए जाने वाले एकमात्र भारतीय को14 अगस्त 2004 को फांसी दी गई थी। उन्हें 14 वर्षीय लड़की की हत्या और बलात्कार के लिए दोषी ठहराया गया था। मृत्यु तक, वह इस बात पर दृढ़ बना रहा कि वह निर्दोष था। उसे पूरी तरह से परिस्थिति संबंधी साक्ष्य पर सजा सुनाई गई थी। बाद में निष्कर्ष प्रकाश में आए कि जांच में गंभीर गड़बड़ी हुई थी, भारतीय सांख्यिकी संस्थान, कोलकाता के दो प्रोफेसरों ने गहन शोध कियाऔर दावा किया कि चटर्जी को गलत तरीके से दोषी ठहराया गया था।

अमेरिकी आधारित अध्ययन में, 88% अपराधियों का विचार था कि मृत्युदंड एक प्रभावी निवारक के रूप में कार्य नहीं करता है। उसी अध्ययन में, लगभग 91% अपराधियों ने दावा किया कि राजनेता अपराध पर कठोर दिखने के लिए मृत्युदंड का समर्थन करते हैं।

विचार का एक अन्य मत मृत्यु दंड का विरोध करता है, लेकिन एक अलग कारण के लिए। ऐसा कहा जाता है कि मृत्युदंड सजा नहीं है। किसी ऐसे व्यक्ति के लिए जिसने एक गंभीर अपराध किया है, मृत्यु  दंड,पश्चाताप का पालन नकर,सजा के त्वरित अंत के रूप में कार्य करता है।

निष्कर्ष

आपराधिक कानून में, ब्लैकस्टोन्स फार्मूलेशन नामक एक प्रसिद्ध सिद्धांत है। यह कहता है कि “एक निर्दोष को सजा देने से बेहतर दस दोषी व्यक्तियों को मुक्त करना है”। हालांकि एक बात निश्चित है कि उपरोक्त उद्धरण का विरोध करने के लिए कई कारण हैं। इस बात से इनकार नहीं किया जाता है कि मृत्यु की सजा अपरिवर्तनीय हैऔर निर्दोष होने की संभावना पर दोषी करार देना इसेएक बहुत ही खतरनाक निर्णय बना देता है।

अपराधको रोकने के लिए मृत्युदंड को एक प्रभावी उपकरण माना जाए या नहीं लेकिन इसे स्वीकार किया जाना चाहिए कि यह शायद अधिक दोषों की उचित निष्पक्षता है। यह सुनिश्चित करना आवश्यक हो गया है कि न्याय की तलाश में, हम लापरवाही से किसी निर्दोष जीवन को दण्डित न करें।

 

 

Summary
Article Name
क्या मृत्यु दण्ड समाप्त होना चाहिए
Author
Description
भारत उन कुछ देशों में से एक है जिनमें अभी भी मृत्यु दंड दिया जाता है। क्या यह समय है कि हम इसे समाप्त करने पर विचार करे?