Home / India / 10 प्राकृतिक रक्त शोधक खाद्य पदार्थ

10 प्राकृतिक रक्त शोधक खाद्य पदार्थ

September 14, 2018


10 प्राकृतिक रक्त शोधक खाद्य पदार्थ

रक्त ऑक्सीजन, हार्मोन्स और शर्करा के संचार से लेकर प्रतिरक्षा तंत्र को विनियमित करने और शरीर के शुद्धिकरण तक हमारे शरीर में होने वाली कई प्रक्रियाओं के लिए जिम्मेदार है। इस बात का पता आसानी से लगाया जा सकता है कि शरीर के समुचित कार्य के लिए हमारे रक्त को स्वच्छ और विषाक्त पदार्थों से मुक्त रहने की जरूरत है। यदि रक्त विषाक्त और अपशिष्ट पदार्थों से मुक्त हो, तो मुँहासे मुक्त चमकदार त्वचा और कोलेस्ट्रॉल का निम्नतम स्तर, पोषक तत्वों का आसानी से संचार जैसे कई अन्य स्वास्थ्य लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं।

रक्त को शुद्ध करने में गुर्दे और यकृत महत्वपूर्ण सहयोग करते हैं। स्वस्थ और तन्दरुस्त रहने के तरीके में हर कोई इन अवयवों का ध्यान रख सकता है। रक्त को शुद्ध करने के लिए कोई अन्य दवा खरीदने की जरूरत नहीं है, क्योंकि आप रक्त को शुद्ध करने के लिए कई प्राकृतिक रक्त शोधक कारको का उपयोग कर सकते हैं।

इन प्राकृतिक रक्त शोधकों के बारे में और अधिक जानने के लिए नीचे दी गई सूची का अध्यन करें –

जल

जल

जल एक प्राकृतिक डिटॉक्सीफाई (विषहरण) कारक है जो सबसे आम और सरल रक्त शोधकों में से भी एक है। यह हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल देता है और हमारे अवयवों को अच्छी तरह से काम करने में मदद करता है। नेशनल किडनी एसोसिएशन की रिपोर्ट के अनुसार, एक व्यक्ति को रोजाना कम से कम 2 से 3 लीटर जल पीना चाहिए। जल खनिज और विटामिन के प्रवाह को सुचारू रूप से संचारित करने में सहायता करता है और पेशाब के द्वारा विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर रक्त के शुद्धिकरण में भी मदद करता है।

हल्दी

हल्दी

हल्दी एक सुनहरे रंग का मसाला है जिसके अनेकों फायदे हैं। यह यकृत के कार्य को बढ़ावा देता है और यह सबसे अच्छे प्राकृतिक उपचारों में से एक है। हल्दी में पाया गया करक्यूमिन नामक एक यौगिक, सूजन और शरीर की अन्य अधिकांश समस्याओं से लड़ सकता है।

इसके अलावा, हल्दी लाल रक्त कोशिकाओं को उत्पन्न करती है और हमारे शरीर को आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करने के साथ एक गुणकारी टॉनिक के रूप में कार्य करती है। हल्दी के लाभ आयुर्वेद के काल से ही देखे जा सकते हैं।

दूध के साथ मिश्रित होने पर हल्दी रक्त शोधक बनकर अनुकूलतम कार्य में यकृत की मदद कर सकती है।

जामुन

जामुन

जामुन सबसे अच्छे प्राकृतिक रक्त शोधकों में से एक हैं। यह यकृत कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकती है और इसे स्वस्थ भी रखती है। केवल यही नहीं, ब्लूबेरी एंटीऑक्सीडेंट का मात्रा से भरपूर होती है जो स्पष्ट रूप से यकृत में होने वाली किसी भी तरह की क्षति को रोकती है। यह शरीर से भारी धातुओं और हानिकारक रसायनों को कुशलता से बाहर निकाल देती है।

मछली 

मछली 

सैल्मन, सार्डिन और ट्यूना जैसी विभिन्न मछलियों में ओमेगा -3 फैटी एसिड होते हैं जो रक्त में ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करता है और रक्तचाप को कम करता है और अंततः यकृत और गुर्दे को प्रभावी ढंग से शुद्ध करने में भी मदद करता है। केवल प्रोटीन की मात्रा के सेवन को ध्यान में रखने की जरूरत है। उच्च प्रोटीन का सेवन आपके गुर्दे को प्रभावित कर सकता है जिससे शरीर के उचित कार्य विक्षुब्ध हो सकते हैं।      

ब्रोकली

ब्रोकली

ब्रोकली विटामिन सी, ओमेगा -3 फैटी एसिड, कैल्शियम, पोटेशियम, फॉस्फोरस, मैंगनीज इत्यादि से भरपूर है जो हमारे रक्त से विषाक्त पदार्थों को निष्कासित करने में मदद करता है। नियमित सेवन से, ब्रोकली नियमित रूप से डिटॉक्सिफिकेशन सुनिश्चित करता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को भी बढ़ावा देता है।

चुकंदर

चुकंदर

चुकंदर बीटालैन और नाइट्रेट नामक एंटीऑक्सीडेंट की उपस्थिति के कारण स्वाभाविक रूप से रक्त को डिटाक्सफाई कर सकता है। यह यकृत में ऑक्सीडेटिव क्षति को कम करने में भी कारगर है। अध्ययन के अनुसार, यदि चुकंदर का सेवन नियमित रूप से किया जाए तो यह सहायक एंजाइमों के उत्पादन में वृद्धि करके शरीर को डिटाक्सीफाई करने में सक्षम है।

गुड़

गुड़

गुड़ सुनहरी भूरे रंग की शुद्ध शर्करा है जो एक अच्छी रक्त शोधक होने के लिए जानी जाती है। यह शुद्ध शर्करा शरीर से अपशिष्ट पदार्थ को बाहर निकालने और रक्त को शुद्ध करने के लिए बेहद लाभकारी औषधि है। गुड़ में आयरन की एक उच्च मात्रा होती है जो न केवल हीमोग्लोबिन के स्तर को सुधारने में मदद करती है बल्कि कब्ज से भी छुटकारा दिलाती है। गुड़ शरीर में जमे हुए रक्त को हटाकर रक्त के शुद्धिकरण में मदद करती है।

कॉफी

कॉफी

कॉफी के अनेकों फायदे हैं, उनमें से एक है रक्त का शुद्धिकरण। कॉफी लोगों में सिरोसिस, जो एक पुरानी यकृत की बीमारी होती है, के खतरे को कम करती है। कॉफी यकृत कैंसर में होने वाली वृद्धि के खतरे को भी कम कर देती है। कॉफी मूल रूप से यकृत में वसा और कोलेजन के संचय को भी रोकती है और इस प्रकार यह इसे स्वस्थ और तंदरुस्त रखने में मदद करती है।

लहसुन

लहसुन

कच्चा लहसुन सल्फर नामक तत्व से भरपूर होता है, जो विषाक्त पदार्थों से छुटकारा दिलाने में लाभकारी होता है। यह डिटॉक्सीफैक्शन एंजाइमों का उत्पादन करके हमारे रक्त से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है। लहसुन पूरे शरीर के शोधन और समाशोधन में भी सहायक होता है। इसमें एंटी-इन्फ्लामेट्री गुण निहित हैं जो शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर कम करने और रक्तचाप को नियंत्रित रखने में मदद कर सकता है।

नींबू

नींबू

नींबू हमारे पाचन तंत्र के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर तंत्र को साफ करके रक्त को डिटॉक्सीफाई करने में मदद करता है। खाली पेट में गर्म नींबू पानी का सेवन आपको चौंकाने वाले परिणाम दे सकता है। यह मोटापे को कम करने में सहायता कर सकता है और गुर्दे पर पड़ने वाले भार को भी कम कर सकता है। नींबू में मौजूद खनिज और विटामिन शरीर का डिटॉक्सीफिकेशन करने में मदद करते हैं। नींबू का रस विषैले पदार्थों को बाहर निकालकर यकृत को सक्रिय बना सकता है जो आंतों की सफाई में मदद करता है।

इसलिए इन आवश्यक तत्वों को अपने आहार में शामिल करके एक स्वस्थ और शुद्ध रक्त प्रणाली प्राप्त करिए।

 

 

 

Summary
Article Name
10 प्राकृतिक रक्त शोधक खाद्य पदार्थ
Author
Description
इन आवश्यक तत्वों को अपने आहार में शामिल करके एक स्वस्थ और शुद्ध रक्त प्रणाली प्राप्त करिए।