Home / Government / जीएसटी में ई-वे बिल सिस्टम

जीएसटी में ई-वे बिल सिस्टम

July 11, 2017


Please login to rate

E-way-bill-system-in-GST-for-smooth-generation-of-registration-and-its-verification-hindi1 जुलाई 2017 को वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) के लागू होने के साथ, भारत सरकार अब जीएसटी में ई-वे बिल सिस्टम लॉन्च करने की योजना बना रही है। यह अक्टूबर 2017 तक लागू हो जायेगा, इसके जरिए माल का पंजीकरण एवं उसके सत्यापन की ऑनलाइन बुनियादी सुविधा होगी, टैक्स अधिकारी हाथ में रखी जाने वाली मशीनों के द्वारा सत्यापन करेंगे। ई-वे बिल सिस्टम लॉन्च करने में अभी विलंब है क्योंकि नियम और प्रारूप अभी तैयार नहीं हैं। 5 अगस्त 2017 को प्रस्तावित जीएसटी परिषद की बैठक में, ई-वे बिल सिस्टम को लागू करने और लॉन्च करने की प्रणाली पर विचार-विमर्श किया जाएगा और अखिल भारतीय केंद्रीयीकृत समेकित ई-वे बिल सिस्टम प्लेटफॉर्म विकसित किया जाएगा।

ई-वे बिल सिस्टम क्या है?

जीएसटी प्रावधानों में से किसी एक के अनुसार, किसी भी वस्तु जिसका मूल्य 50,000 रुपये से ज्यादा है, इसे बाजार में स्थानांतरित करने से पहले ऑनलाइन पंजीकृत होना जरूरी है। इसके लिए, एक केंद्रीकृत सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म की आवश्यकता है। जीएसटी नेटवर्क (जीएसटीएन) के साथ राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) के शीर्ष आईटी अधिकारी इस पर काम करेंगे ताकि सॉफ्टवेयर सिस्टम इस साल अक्टूबर तक तैयार हो सके।

ई-वे बिल सिस्टम की विशेषताएं

  • वर्तमान में केंद्र सरकार ने जीएसटीएन द्वारा उत्पन्न ई-वे बिल के लिए समय सीमा प्रावधान 15 से 20 दिनों तक बढ़ा दिया है। इसमें 1,000 किलोमीटर से अधिक दूरी की यात्रा के माध्यम से भेजी जाने वाली वस्तुओं को शामिल किया जाएगा।
  • जीएसटीएन ई-वे बिल तैयार करेगा। ये बिल 1 से 20 दिनों के लिए मान्य होंगे। आवंटित दिनों की संख्या, यात्रा की जाने वाली दूरी पर निर्भर करेगी।
दिन दूरी
1 100 कि.मी.
3 कम से कम 100 कि.मी. अधिकतम 300 कि.मी.
5 कम से कम 300 कि.मी. अधिकतम 500 कि.मी.
10 कम से कम 500 कि.मी. अधिकतम 1000 कि.मी
  • यह भी सूचित किया गया है कि जीएसटी आयुक्त कुछ श्रेणियों के सामानों के लिए ई-वे बिल प्रदर्शित करने की वैधता अवधि को बढ़ा सकता है।
  • विमान, विमान इंजन और जीएसटी के दायरे से पट्टे पर प्राप्त भागों के आयात को सरकार द्वारा छूट देने की भी खबर है।

कुछ राज्य जो पहले से ही कर रहे हैं ई-वे बिल सिस्टम का उपयोग

कुछ राज्य जो पहले से ही मजबूत ई-वे बिल सिस्टम का उपयोग कर रहे हैं, उन्हें मौजूदा फॉर्म को जारी रखने की अनुमति दी गई है जब तक कि केंद्रीकृत प्रणाली विकसित नहीं होती है। ये राज्य हैं –

  • पश्चिम बंगाल
  • केरल
  • बिहार
  • ओडिशा
  • आंध्र प्रदेश

ई-वे बिल सिस्टम नियमों का प्रारूप

ई-वे बिल के नियमों के मुताबिक इसे अप्रैल में सार्वजनिक किया गया था (हालांकि ये नियम अंतिम नहीं हैं), वाहक या वाहन चालक के प्रभारी व्यक्ति को चालान, बिल या डिलीवरी चालान को ले जाने की आवश्यकता होगी। आपूर्ति या वितरण चालान और इसके साथ-साथ, उन्हें ई-वे बिल या ई-वे बिल नंबर की एक प्रति भी लेनी होगी। इस नंबर को एक रेडियो फ़्रीक्वेंसी पहचान डिवाइस (आरएफआईडी) के साथ जोड़ा जाएगा जो कि परिवहन के लिए एम्बेडेड होगा।

इन नियमों के अनुसार टैक्स कमिश्नर या उसकी ओर से तैनात अधिकृत किसी अधिकारी को परिवहन के दौरान कहीं भी इस सामान की जाँच करने का अधिकार होगा। इस दौरान अधिकारियों को ई-वे बिल की हार्ड कॉपी या इलेक्ट्रानिक मोड में इसे दिखाना होगा।

नियमों के अनुसार, कर चोरी पर किसी विशिष्ट जानकारी के मामले में वाहनों का वास्तविक सत्यापन किया जा सकता है।

ई-वे बिल की जाँच के बाद ड्यूटी के अधिकारी को एक दिन के अंदर माल के प्रत्येक निरीक्षण का सारांश प्रस्तुत करना होगा और अंतिम रिपोर्ट तीन दिनों के अंदर तैयार करनी होगी।