Home / Imo / क्या आरएसएस ने स्वतंत्रता संग्राम में योगदान दिया था?

क्या आरएसएस ने स्वतंत्रता संग्राम में योगदान दिया था?

August 23, 2018
by


Please login to rate

क्या आरएसएस ने स्वतंत्रता संग्राम में योगदान दिया था?

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, दुनिया का सबसे बड़ा स्वैच्छिक मिशनरी संगठन है जिसकी स्थापना 27 सितंबर सन 1925 में के. बी. हेडगेवार ने की थी। हेडगेवार का जन्म नागपुर के एक मराठी देशस्थ ब्राह्मण परिवार में सन् 1889 को हुआ था। वह पेशे से एक डॉक्टर थे तथा 1915 में अपनी शिक्षा और शिक्षुता को पूरा करने के बाद अपने जन्मस्थान में लौट आए। इसके तुरंत बाद, 1920 के दशक में सक्रिय रूप से हेडगेवार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए।

अगस्त 1921 में, वह असहयोग आंदोलन के दौरान जेल गए थे। साधारणतया उसी समय विकसित होकर, वह विनायक दामोदर सावरकर के लेखन के संपर्क में आए और उनसे गहराई से प्रभावित हुए। सावरकर ने पहली बार “हिंदुत्व” शब्द गढ़ा था – यह एक शब्द परिणामस्वरूप आरएसएस विचारधारा का आधार बन गया। 1925 में, हेडगेवार अंततः सावरकर से मिले, जब सावरकर रत्नागिरी जेल में बंद थे। जल्द ही छह प्रारंभिक स्वयंसेवक के साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का गठन किया गया। इसका उद्देश्य हिंदू समाज को मजबूत करना और इसकी संस्कृति की रक्षा करना था।

विचार की विभिन्न दिशाएं

आरएसएस की स्थापना उस समय हुई थी जब देश ब्रिटिश शासन की “अंत की शुरुआत” देख रहा था-आंदोलनों की एक श्रृंखला जो आखिरकार ब्रिटिश युग के अंत का नेतृत्व करेगी। स्वाभाविक रूप से, स्वतंत्रता संग्राम में सभी स्कूलों में आरएसएस की भूमिका अनुमानों और विचारों के लिए बहुत रुचि का विषय रही है।

18 मार्च 1999 को तत्कालीन प्रधानमंत्री (एनडीए) अटल बिहारी वाजपेयी ने के. बी. हेडगेवार को एक उल्लेखनीय स्वतंत्रता सेनानी के रूप में अभिनंदन करने के लिए एक डाक टिकट जारी किया था। इनको दिया जाना वाला सम्मान का संघ सदस्यों द्वारा उत्साहपूर्वक स्वागत किया गया जिस पर कई अन्य लोगों ने आलोचना की। विपक्ष ने इसे आरएसएस संगठन के एक अस्तित्वहीन स्वतंत्रता संग्राम योगदान में करने के प्रयास के रूप में देखा- जिसे अक्सर भारतीय जनता पार्टी की मूल जड़ माना जाता है। विडंबना यह है कि यह आरएसएस अभिलेख और प्रकाशन है जिसका प्रयोग अक्सर आरएसएस के दावों के विरूद्ध एक विरोधी राय बनाने के लिए किया जाता है।

आरएसएस और स्वतंत्रता संग्राम

के. बी. हेडगेवार को 1921 और 1931 में, असहयोग आंदोलन और नमक सत्याग्रह के लिए क्रमशः उनको दो बार जेल की सजा सुनाई गई थी। समर्थक, स्वतंत्रता आंदोलन में संघ के योगदान पर ध्यान आकर्षित करने के लिए इन घटनाओं का हवाला देते रहे। हालांकि, इसके जवाब में पर्याप्त तर्क हैं। जब हेडगेवार को उनकी पहली जेल की सजा सुनाई गई, तो आरएसएस अस्तित्व में नहीं था तथा वह कांग्रेस के एक कार्यकारी सदस्य थे। 1931 की कारावास के लिए, आरएसएस द्वारा प्रकाशित उनकी जीवनी में बताया गया है कि वह इस विचार के कारण जेल गए थे “वहाँ वह अपने साथ स्वतंत्रता से प्यार करने वाले, आत्म-त्याग करने वाले और प्रतिष्ठित समूह तथा उनके साथ संघ के विषय में चर्चा करेंगे और अपने कार्य में विजयी होगें”। इसके अलावा, उनकी जीवनी में यह भी उल्लेख किया गया है कि उन्होंने “हर जगह सूचना भेजी थी कि संघ सत्याग्रह में सम्मिलित नहीं होगा। हालांकि, इसमें व्यक्तिगत रूप से सम्मिलित होने की इच्छा रखने वाले लोगों पर प्रतिबंध नहीं था”।

1940 में के. बी. हेडगेवार की मौत के बाद, एम. एस. गोलवलकर ने आरएसएस के दूसरे मुखिया के रूप में बागडोर संभाली। आरएसएस द्वारा प्रकाशित श्री गुरुजी समागर दर्शन (खंड 4) को अक्सर उद्धरण के लिए प्रस्तुत किया जाता है “निश्चित रूप से संघर्ष के खराब परिणाम होने के बाध्य हैं। 1920-21 के आंदोलन के बाद युवा अनियंत्रित हो गए … ”

आरएसएस जीवनी लेखक, सी. पी. भिशीकर ने यह भी उल्लेख किया है कि हेडगेवार ने अपने भाषणों में कभी भी सरकार पर कोई सीधी टिप्पणी नहीं की है।

निष्कर्ष

बस हर दूसरी कहानी की तरह, यह भी द्विपक्षीय है। के. बी. हेडगेवार जैसे व्यक्तिगत नेताओं ने आजादी आंदोलन में भाग लिया था, उनका लक्ष्य कुछ भी हो सकता था। हालांकि, जब हम किसी संगठन की भूमिका पर विचार करते हैं, तो यह सभी समावेशी भागीदारी के साथ-साथ संगठन के आधिकारिक प्रतीक को ध्यान में रखते हुए करना चाहिए। उस संबंध में, स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने से आरएसएस के सदस्यों को कभी भी निषिद्ध नहीं किया गया था। हालांकि, आंदोलन के लिए अपनी खुली एकजुटता के बारे में संगठन द्वारा पूर्ण रूप से घोषित घोषणा के कुछ अभिलेख पाए गए हैं। संघर्ष, फिर दोनों पक्षों से पक्षपातपूर्ण धारणाओं के बीच से सच्चाई को उजागर करने के लिए बन जाता है।

 

Summary
Article Name
क्या आरएसएस ने स्वतंत्रता संग्राम में योगदान दिया था?
Author
Description
स्वतंत्रता संग्राम में आरएसएस की भूमिका पर विवादित विचारधारा है। आइए उस पर एक नजर डालें।