Home / India / एसिडिटी दूर भगाने के 21 आश्चर्यजनक घरेलू उपचार

एसिडिटी दूर भगाने के 21 आश्चर्यजनक घरेलू उपचार

August 29, 2018
by


Please login to rate

एसिडिटी दूर भगाने के 21 आश्चर्यजनक घरेलू उपचार

हम में से कोई न कोई एसिडिटी जैसी समस्या से पीड़ित रहता है। एसिडिटी बच्चों और वयस्कों में उनके खाने की गलत आदतों के कारण होने वाली एक आम समस्या बन गई है। एसिडिटी का इलाज करने के लिए दवाइयों को लेने की बजाय, घरेलू उपचार करना हमेशा लाभदायक होता है। ये घरेलू उपचार पेट में एसिड की अधिक मात्रा को बनने से रोकते हैं और एसिडिटी के लक्षणों से राहत दिलाते हैं।

एसिडिटी के लिए कुछ प्राकृतिक घरेलू उपचार जिनकी सूची नीचे दी गई है:

1.पानी पीना: नियमित रूप से सुबह के समय दो गिलास पानी पीना एसिडिटी  के इलाज के लिए सबसे अच्छा घरेलू उपाय है। यह पेट में एसिड के स्तर को बनाए रखने में सहायता करता है और डाइजेशन (पाचन क्रिया) में भी सुधार करता है।

2.ठंडा दूध: गर्म दूध की तुलना में ठंडा दूध, हर्ट बर्न और एसिड बनने के इलाज के लिए एक बेहतरीन उपाय है। दूध में मौजूद कैल्शियम पेट में होने वाली जलन से तत्काल राहत प्रदान करता है और यह पेट में एसिड को बनने से रोकता है तथा अतिरिक्त एसिड को अवशोषित करने का भी कार्य करता है।

3.पवित्र तुलसी: बेसिल जिसे पवित्र तुलसी के नाम से भी जाना जाता है। तुलसी की पत्ती गैस्ट्रिक एसिड के प्रभाव को कम करने, अतिरिक्त गैस को बनने से रोकने और एसिडिटी से पीड़ित व्यक्ति की मदद करती है। तुलसी की 2-3 पत्तियां नियमित चबाने से एसीडिटी की समस्या से छुटकारा मिलता है।

4.गुड़ (जैगरी): क्या आपने कभी सोचा है कि हमारे बुजुर्ग भोजन के बाद गुड़ क्यों खाते हैं? क्योंकि गुड़ पाचन के लिए अच्छा होता है। यह पेट में एसिडिटी को कम करता है और इसे अधिक क्षारीय बनाता है। भोजन के बाद गुड़ खाने की आदत बनाएं।

5.अदरक: अदरक एसीडिटी के इलाज के लिए एक कारगर उपाय है क्योंकि यह शरीर के पीएच स्तर को संतुलित रखने का कार्य करता है। यह पेट में एसिड के स्तर को कम करके पेट को आराम देता है। बेहतर परिणाम पाने के लिए, अदरक के रस में थोड़ा नींबू का रस डालकर इसका सेवन करें।

6.पुदीने की पत्ती: याद रखें कि एसिडिटी के लिए पुदीनहरा एक कारगर दवा है। इस दवा को पुदीने की पत्ती का रस निचोड़कर बनाया जाता है, जो पेट में अतिरिक्त एसिड बनने से राहत प्रदान करता है। पुदीना एक प्रभावी और सबसे अच्छा प्राकृतिक शीतलता प्रदान करने वाला है। पुदीने की कुछ पत्तियों को पानी में उबालें और इसे ठंडा करने के बाद इस पानी को पिएं।

7.एलोवेरा: एलोवेरा का उपयोग एक प्रभावी घरेलू उपचार के रूप में एसिडिटी का इलाज करने के लिए किया जा सकता है। एलोवेरा के उत्तेजक गुण पेट में सूजन को कम करते हैं और पाचन तंत्र में होने वाली पीड़ा को कम करते हैं। एलोवेरा जूस का उपयोग हर्टबर्न के इलाज के लिए भी कर सकते हैं। भोजन करने से पहले एलोवेरा से बनी चीजों का उपभोग अच्छा होता है क्योंकि यह भोजन में प्रभावी पाचन को बढ़ावा देता है।

8.मठ्ठा (छाछ): छाछ पेट में एसिड बनने में एक एंटीडोट (विष हारक औषधि) की तरह कार्य करता है। एक गिलास ठंडे छाछ का सेवन पेट के लिए जादू की तरह कार्य करता है और पेट में ठंडक प्रदान करता है। छाछ में पाया जाने वाला लैक्टिक एसिड पेट में एसिडिटी के लक्षण और जलन को कम कर देता है। मसालेदार और भारी भोजन करने के बाद स्वयं को एसिडिटी से छुटकारा दिलाने के लिए यह एक प्रोबायोटिक पेय है। बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए इस पेय में थोड़ा काली मिर्च पाउडर डालें।

9.नारियल पानी: नारियल का पानी पेट में एसिड स्त्राव को सामान्य रखने में सहायता करता है। इस नारियल पानी में उच्च फाइबर सामग्री होती है जो अपच और एसिड को बनने से रोकने का कार्य करता है।

10. सौंफ: क्या आपने कभी सोचा है कि क्यों लोग अक्सर रात के खाने के बाद सौंफ का उपभोग करते हैं। सौंफ पेट में होने वाली एसिडिटी से आराम पहुँचाने में बेहद फायदेमंद हैं और पेट में होने वाली किसी भी तरह की ऐंठन को रोकता है। सौंफ में पाए जाने वाले मिनरल्स, विटामिन और फाइबर पाचन क्रिया में मदद करते हैं। आप थोड़े से सौंफ को पानी में भिगो सकते हैं और शीघ्र लाभ प्राप्त करने के लिए प्रत्येक दिन इस पानी को पी सकते हैं।   

11.अनानास का रस: एसिडिटी से छुटकारा पाने के लिए अनानास का रस बहुत प्रभावी होता है। इसमें ऐसे एंजाइम होते हैं जो पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड के उत्पादन स्तर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं और एसिडिटी को रोकते हैं। इस रस में एक चुटकी नमक डालने से इसके परिणाम प्राप्त हो जाएंगे।

12.जीरा:  जीरा एक शक्तिशाली एसिड को अप्रभावी बनाने के रूप में कार्य करते हैं जो पाचन में सुधार करते हैं और पेट दर्द को कम करते हैं।

एसिडिटी के इलाज के लिए इन बीजों को कई तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है – जैसे कि आप इन बीजों को थोड़े गर्म पानी के साथ कच्चा खा सकते हैं या आप बीज को पानी में उबाल लें और भोजन करने के बाद इस पानी को पी सकते हैं या कुछ भुने हुए बीज पीसकर एक गिलास पानी में मिलाएँ और पी लें।

13.आंवला : आंवला अनेक गुणों वाला एक आयुर्वेदिक खाद्य पदार्थ है जो विस्तृत रूप से अपने लाभकारी गुणों के लिए जाना जाता है। भूख बढ़ाने वाला यह आंवला एसिडिटी के लिए एक प्राकृतिक रूकावट बन जाता है। यह क्षतिग्रस्त पेट और एसोफैगस (ग्रासनली) को भी ठीक करता है। नियमित रूप से एक चम्मच आंवला पाउडर खाना एसिडिटी को रोकने के लिए फायदेमंद होता है।

14.सब्जी का रायता: एसिड से पीड़ित होने पर खीरा, टमाटर, या धनिया पत्ती जैसी सब्जियों के साथ बनाया गया रायता बहुत उपयोगी होता है। आप इसे अधिक स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक बनाने के लिए रायता में कुछ भुना हुआ जीरा पाउडर डाल सकते हैं।

15.अजवाइन: अजवाइन एंटी-एसिड गुणों से भरपूर है जो इसे एसिड के इलाज के लिए एक अच्छा उपाय है। दो सप्ताह तक गर्म पानी के साथ अजवाइन, काला नमक का सेवन करें यह एसिडिटी से छुटकारा दिलाने का एक बेहतर घरेलू उपाय है। आप इन बीजों को पानी में उबाल कर इस मिश्रण को छानकर पी सकते हैं।

16.दालचीनीः मसालों में प्रयोग की जाने वाली दालचीनी न केवल भोजन को स्वादपूर्ण बनाता है बल्कि एसिडिटी जैसी समस्या को दूर करने में भी मदद करता है। यह एक प्राकृतिक एंटीएसिड है जो पाचन में सुधार करता है। दालचीनी चाय पीने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट संक्रमण से छुटकारा दिलाने में मदद करती है।

17.केलाः जब पेट से संबंधित बीमारियों की बात आती है, तो केला बहुत महत्व रखता है। यह फल क्षारीय है और आपके पेट में एसिड के प्रभाव को कम करता है। एसिडिटी से पीड़ित होने पर प्रतिदिन एक केला खाना एक उचित विकल्प है।

18.लहसुन: क्या आप सूची में लहसुन को देखकर आश्चर्यचकित हैं? यदि हाँ, तो हम आपको बता दें कि लहसुन अपच और एसिड के इलाज के लिए एक अच्छा घरेलू उपाय है। यह एंटीऑक्सीडेंट से समृद्ध है और एसिड के लिए एक विष हरक औषधि है। भोजन तैयार करने में लहसुन का प्रयोग पेट के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने और एसिडिटी को रोकने के लिए आदर्श है।

19.कच्चे बादाम: यह एक घरेलू उपचार है जो एसिडिटी के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। सुनिश्चित करें कि आप उन्हें पानी में नहीं भिगोएंगे या फिर बादाम को किसी अन्य तरीके से प्रयोग करेंगे। कच्चे बादाम में प्राकृतिक तेल और फाइबर की समृद्ध मात्रा होती है जो भोजन के बाद पाचन क्रिया में मदद करता है।

20.नीबू पानी: एसिडिटी का इलाज करने के लिए नींबू पानी एक अच्छा घरेलू उपाय है यह पाचनशक्ति को बढ़ाता है। यह आपके पेट में मौजूद एसिड के प्रभाव को बेअसर करने में मदद करता है। भोजन से पहले नींबू पानी को पीने से उचित पाचन को बढ़ावा मिलता है। बेहतर परिणामों के लिए आप इस पानी में जीरा पाउडर और सेंधा नमक डाल सकते हैं।

21.पपीता: अपने आहार में पपीते को शामिल करने से आपके पाचन में सुधार होता है और यह एसिडिटी को कम करता है। पपीते में पाई जाने वाली फाइबर सामग्री पेट से अतिरिक्त एसिड को बाहर निकालने में मदद करती है।

 

Summary
Article Name
एसिडिटी दूर भगाने के 21 अद्भुत घरेलू उपचार
Author
Description
अस्वास्थ्यकर खाने की आदतों के कारण आजकल एसिडिटी की समस्या बढ़ती जा रही है। इस लेख में दिए गए 21 घरेलू उपचारों को जानें जो एसिडिटी के इलाज में बेहद प्रभावी हैं।