Home / Education / मैकेनिकल इंजीनियरिंग के बाद नौकरी दिलाने वाले पाठ्यक्रम

मैकेनिकल इंजीनियरिंग के बाद नौकरी दिलाने वाले पाठ्यक्रम

July 3, 2018


Professional-Courses-After-Mechanical-Engineering-hindi

 

मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इंजीनियरिंग के सबसे पुराने और लोकप्रिय विषयों में से एक है। इसमें विषयों की एक पूरी श्रृंखला जैसे मैकेनिक्स, थर्मोडायनामिक्स, थर्मल इंजीनियरिंग, डिजाइनिंग, पॉवर प्लांट इंजीनियरिंग, एचवीएसी, मैट्रोलॉजी और क्वालिटी कंट्रोल, प्रोडक्शन इंजीनियरिंग, मैनेटेंसन इंजीनियरिंग और मैन्युफैक्चरिंग इंजीनियरिंग शामिल है। अंत में यह पाठ्यक्रम डिजाइन, उत्पादन, निर्माण और संरक्षण में नौकरी की संभावनाएं खोलता है।

यह पूर्णतया आपकी रुचि और क्षमता के अनुसार सबसे अच्छे क्षेत्र का चयन करने का आपका अपना विकल्प है। बी.टेक के बाद मैकेनिकल इंजीनियरिंग में छात्र उन्नत पाठ्यक्रमों का विकल्प चुन सकते हैं या तुरंत काम करना शुरू कर सकते हैं। हालांकि मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसर उपलब्ध हैं, एक उन्नत पाठ्यक्रम का अध्ययन बेहतर रोजगार के अवसर प्रदान करता है।

मैकेनिकल इंजीनियरिंग के बाद लोकप्रिय रोजगार उत्पन्न करने वाले पाठ्यक्रमों की सूचीः

1. मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एम.टेक

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एम.टेक सबसे लोकप्रिय और उन्नत पाठ्यक्रम है। सभी प्रमुख संस्थान जैसे आईआईटी, एनआईटी, बीआईटीएस इत्यादि मैकेनिकल इंजीनियरिंग में एम.टेक पाठ्यक्रम की पेशकश करते हैं। यह बी.टेक के बाद किया जाने वाला दो वर्षीय पूर्णकालिक कार्यक्रम है, इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए बी.टेक तीन वर्ष का अंशकालिक नियमित कार्यक्रम है। एम.टेक पाठ्यक्रम के लिए प्रवेश (बी.ई. /बी.टेक) स्नातक की डिग्री पर या इंजीनियरिंग में स्नातक योग्यता परीक्षण (गेट) की गणना और साक्षात्कार पर भी निर्भर करता है।

एम.टेक पाठ्यक्रम में मुख्य रुप से मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिजाइन, औद्योगिक और प्रोडक्शन इंजीनियरिंग, थर्मल इंजीनियरिंग, ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग आदि शामिल हैं।

2. पाइपिंग डिजाइन और इंजीनियरिंग कोर्स

यह रोजगार उपलब्ध कराने वाला एक श्रेष्ठ पाठ्यक्रम है। यह छात्रों को उद्योग के लिए तैयार करता है। मैकेनिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद यह विशेषज्ञों द्वारा सलाह देने वाले पाठ्यक्रमों में से एक है। सभी इंजीनियरिंग स्नातक इस पाठ्यक्रम को करने के योग्य नहीं हैं। पाइपिंग कोर्स में मैकेनिकल इंजीनियरिंग के विचारों को भी शामिल किया गया है, अन्य इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि की तुलना में इस पाठ्यक्रम का अध्ययन करना मैकेनिकल (यांत्रिक) इंजीनियरों के लिए उचित होता है।

विभिन्न संस्थानों द्वारा प्रस्तुत पाठ्यक्रम

  • पाइपिंग डिजाइन और इंजीनियरिंग में एम.टेक
  • पाइपिंग डिजाइन इंजीनियरिंग में पीजी डिप्लोमा
  • पाइपिंग डिजाइन और प्रारूपण में सर्टिफिकेट कोर्स
  • सर्टिफिकेट कोर्स पाइप स्ट्रेस एनालिसिस
  • पाइपिंग टेक्नोलॉजी में डिप्लोमा

जबकि एम.टेक और पीजी डिप्लोमा पाठ्यक्रम 2 साल के पूर्णकालिक पाठ्यक्रम हैं, प्रमाण पत्र वाले पाठ्यक्रम थोड़े समय के हैं जिनकी अवधि 3 महीने से लेकर 1 वर्ष तक होती है।

रोजगार की संभावनाएं

पाइपिंग इंजीनियरिंग का कोर्स करने पर रासायनिक उद्योग, मर्चेंट नेवी, पेट्रोलियम रिफाइनरी सेक्टर, मैन्युफैक्चरिंग फर्म आदि में कैरियर के अवसर खुल जाते हैं। क्योंकि इन सभी क्षेत्रों में पाइपिंग विशेषज्ञों की बहुत बड़ी माँग होती है।

3. उपकरण डिजाइन में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग

यह मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातकों के लिए एक अत्यधिक लाभदायक पाठ्यक्रम है। यह दो वर्षीय पूर्णकालिक पाठ्यक्रम या थोड़े समय वाला डिप्लोमा और प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम हो सकता है। विभिन्न संस्थानों द्वारा दिए गए लंबी अवधि के पाठ्यक्रम –

  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग में सीएडी / सीएएम
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग में टूल डिजाइन
  • टूल में परास्नातक पाठयक्रम, डाय और मोल्ड (पिघलाना और ढलाई) डिजाइन
  • पोस्ट डिप्लोमा इन टूल डिजाईन
  • एडवांसड डिप्लोमा इन टूल एंड डाय मेकिंग (एडीटीडीएम)
  • एम. टेक (मेक्ट्रोनिक्स)

इसमें ऑटो सीएडी सीएनसी प्रोग्रामिंग, उपकरण डिजाइन, यूनिग्राफिक्स (सीएडी और सीएएम), कैटिया (सीएडी), एएनएसवाईएस (सीएई) सामग्री का विशेष विवरण और हीट ट्रीटमेंट, रिवर्स इंजीनियरिंग की अवधारणा, प्रेस टूल्स, डाइ कास्टिंग डाइस, प्लास्टिक ढालना आदि विशेषज्ञता के विषय हैं।

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई), नई दिल्ली द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थानों से इस पाठ्यक्रम को करना बेहतर है। हैदराबाद में सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ टूल डिजाइन संस्थान है जो टूल डिजाइनिंग पाठ्यक्रम के लिए प्रस्तावित है।

4. रोबोटिक्स पाठयक्रम

रोबोटिक्स मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए एक उपयुक्त उन्नत पाठ्यक्रम है। यह रोबोट के डिजाइन और निर्माण का वैज्ञानिक अध्ययन है और मैकेनिकल इंजीनियरिंग के लिए उप-विशेषज्ञता वाला पाठयक्रम है। इंजीनियरिंग का यह क्षेत्र काफी उभर रहा है, जो कि रोबोट इंजीनियरों के लिए बहुत सारे कैरियर के अवसर प्रदान करता है।

पाठ्यक्रमों की पेशकश

  • रोबोटिक्स में डिप्लोमा
  • रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग
  • रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी
  • एडवांस रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग
  • रोबोटिक्स और ऑटोमेशन इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग
  • मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी
  • ऑटोमेशन एंड रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग
  • ऑटोमेशन एंड रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड रोबोटिक्स में मास्टर ऑफ टैक्नोलॉजी

कुछ प्रमुख विश्वविद्यालय जैसे आईआईटी, जादवपुर विश्वविद्यालय (कोलकाता), हैदराबाद विश्वविद्यालय, थापर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी, एसआरएम यूनिवर्सिटी, (कट्टमकुलाथुर चेन्नई) आदि इन पाठ्यक्रमों की पेशकश कर रहे हैं।

रोजगार की संभावनाएं

रोबोट इंजीनियरों के लिए अंतरिक्ष अनुसंधान संगठनों में, माइक्रोचिप का निर्माण करने वाले उद्योगों में, सेना में, चिकित्सा और मोटर वाहन उद्योगों में प्रायोगिक रोबोटिक्स बनाने के लिए अच्छे रोजगार की संभावनाएं हैं।

5. मेक्ट्रोनिक्स पाठयक्रम

मेक्ट्रोनिक्स, मैकेनिकल इंजीनियरों हेतु उच्च अध्ययन करने के लिए एक आगामी पाठ्यक्रम है। यह यांत्रिकी, सूचना विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स, स्वचालन और रोबोटिक्स जैसे पाँच विषयों का एक संयोजन है।

पाठ्यक्रम की प्रस्तुति

  • मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग
  • मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी

मेक्ट्रोनिक्स में पोस्ट ग्रेजुएट कार्यक्रमों के लिए किसी व्यक्ति को मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से यांत्रिक, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स, इंस्ट्रूमेंटेशन, और दूरसंचार में विशेषज्ञता के साथ बीए / बीटेक होना चाहिए।

इन प्रमुख पाठ्यक्रमों की पेशकश में वीआईटी विश्वविद्यालय (वेल्लोर), कर्पगम कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग (कोयंबटूर), राजलक्ष्मी इंजीनियरिंग कॉलेज (थंडलम, चेन्नई) और मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (चेन्नई) शामिल हैं।

रोजगार की संभावनाएं

मेक्ट्रोनिक्स में एमई / एम.टेक को पूरा करने के बाद इलेक्ट्रॉनिक्स उद्योग, ऑटोमोबाइल, निर्माण, खनन, परिवहन, गैस और तेल, रक्षा, रोबोटिक्स, एयरोस्पेस और विमान, सेना, नौसेना, वायुसेना आदि में रोजगार के अवसर मुख्य रूप से मिलते हैं।

6. नैनो प्रौद्योगिकी

यह मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए उच्च अध्ययन का श्रेष्ठ विकल्प है। इसमें एप्लाइड साइंस, इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी का अध्ययन किया जाता है।

पाठ्यक्रमों की प्रस्तुति

  • नैनो टेक्नोलॉजी में मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी
  • नैनो टेक्नोलॉजी में मास्टर ऑफ साइंस
  • नैनो टेक्नोलॉजी में मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग

नैनो टेक्नोलॉजी में परास्नातक पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए, किसी व्यक्ति को भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित या मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से बीटेक में मैकेनिकल / बायोमेडिकल / बायो टेक्नोलॉजी / इलेक्ट्रॉनिक्स / कंप्यूटर विज्ञान जैसे विषयों में 50% अंकों के साथ स्नातक होना चाहिए।

विशेषज्ञता वाले विषय

  • सिरेमिक इंजीनियरिंग
  • ग्रीन नैनो टेक्नोलॉजी
  • नैनो-बायो टेक्नोलॉजी
  • पदार्थ विज्ञान
  • नैनो मैकेनिक्स
  • नैनोआर्किटेकटॉनिक्स
  • नैनो इंजीनियरिंग
  • वेट नैनो टेक्नोलॉजी

नैनोटेक्नोलॉजी में एम.टेक पाठयक्रम भारत में बहुत कम संस्थानों जैसे जादवपुर विश्वविद्यालय (कोलकाता), एनआईटी (कालीकट), एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ नैनोटेक्नोलॉजी, अमृता विश्वविद्यापीठ और बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (रांची) इत्यादि में किया जा सकता है।

रोजगार की संभावनाएं

नैनो टेक्नोलॉजी (जैव प्रौद्योगिकी) की औद्योगिक उत्पादों, इलेक्ट्रॉनिक्स, स्वास्थ्य बाजार, पर्यावरण उद्योगों और दवा उद्योगों के साथ बायो टेक्नोलॉजी में सलाहकार, सरकारी संस्थानों में अनुसंधान और विकास, निजी अनुसंधान संस्थानों में और उत्पाद में विकास और सलाह आदि के लिए काफी माँग है।

7. बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स

इतना ही नहीं, मैकेनिकल इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए किसी व्यावसायिक स्कूलों या संस्थानों से प्रबंधन या एमबीए एक लोकप्रिय स्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम है। प्रबंधकीय पदों में नौकरी पाने में एमबीए के साथ इंजीनियरिंग की डिग्री बहुत सहायक है। यह कैरियर के विकल्पों को चुनने के लिए एक विस्तृत विकल्प प्रदान करता है।