Home / Education / वर्षा जल संचयन – यह कैसे किया जाता है और भविष्य के लिए कितना महत्वपूर्ण है?

वर्षा जल संचयन – यह कैसे किया जाता है और भविष्य के लिए कितना महत्वपूर्ण है?

August 2, 2018
by


Please login to rate

वर्षा जल संचयन

जल एक मात्र ऐसा कारण है जिसकी वजह से पृथ्वी ग्रह पर जीवन मौजूद है, इसके बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। हालांकि, गुजरते समय के साथ-साथ ताजे पानी के स्रोत कम होते जा रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र सहित कई वैश्विक एजेंसियों की रिपोर्ट से यह संकेत मिले हैं कि यदि जल की वर्तमान स्थित में कोई बदलाव नहीं किया जाता है और निवारक उपायों पर ध्यान नहीं दिया जाता है, तो 2050 तक दुनियाभर में ताजे पानी के स्रोत समाप्त होने शुरू हो जाएंगे। वर्षा जल संचयन एक दीर्घकालिक प्रक्रिया है जो विभिन्न उद्देश्यों के लिए और भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए वर्षा जल को संरक्षित करने में मदद करती है। वर्षा जल संचयन विभिन्न उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाने वाले वर्षा के जल को इकट्ठा करने और संग्रहीत करने की एक विधि है जिसका उपयोग भविष्य में भी किया जा सकता है।

वर्षा जल संचयन के तरीके

वर्षा जल संचयन के मुख्य रूप से दो प्रचलित तरीके हैं जिनका उपयोग अधिकांश क्षेत्रों में किया जाता है:

घटक: जलग्रहण, जल-परिवहन, फस्ट फ्लश, फिल्टर

तरीके:

वर्षा जल संचयन के लाभ

  1. सतह अपवाह वर्षा जल संचयन – शहरी क्षेत्रों में बहने वाले वर्षा जल को नालियों में बहाने की बजाय, भूजल स्तर या जलवाही स्तर तल के पुनर्भरण (रिचार्ज) के लिए संग्रहीत और एकत्रित किया जा सकता है।
  2. छत प्रणाली द्वारा वर्षा जल संचयन–छत संचयन प्रणाली में वर्षा जल सीधे इमारतों की छतों से एकत्र किया जाता है और या तो एक टैंक में या एक कृत्रिम जलवाही स्तर में पहुँचाया जाता है। इस विधि के माध्यम से संचयित जल दैनिक उपयोग उद्देश्यों (पीने और खाना पकाने सहित, केवल मूल स्तर पर पानी को शुद्ध करने के बाद) और जलवाही स्तर के पुनर्भरण (रिचार्ज) एवं भूजल स्तर को बहाल करने में मदद करता है।

 

  1. उपयोग के लिए जल भंडारण
  2. जलवाही स्तर का पुनर्भरण
  3. बोरवेल पुनर्भरण
  4. जलीय गड्ढों का पुनर्भरण
  5. शाफ्ट या सोकावे द्वारा पुनर्भरण
  6. कुओं द्वारा पुनर्भरण
  7. खाइयों द्वारा पुनर्भरण
  • वर्षा जल भंडारण जलवाही स्तर के पुनर्भरण (रिचार्ज) में मदद करता है।
  • यह अतिरिक्त बारिश के कारण शहरी बाढ़ को रोंकने में मदद करता है।
  • संग्रहीत जल का उपयोग कृषि क्षेत्र में सिंचाई कार्य के लिए किया जा सकता है।
  • संग्रहीत जल का उपयोग दैनिक कार्यों के लिए किया जा सकता है, जिससे कस्बों और शहरों में पानी के बिलों को कम करने में मदद मिल सकती है।
  • बंजर और सूखे क्षेत्रों में जल की कमी से निपटने का यह एक उपयोगी तरीका है।
  • यह भूजल स्तर को बहाल करने में मदद करता है।

 

वर्तमान और भविष्य में उपयुक्तता

ग्लोबल वार्मिंग दुनिया भर में जलवायु को क्षति पहुंचा रही है। वर्षा का होना प्रकृति में अप्रत्याशित हो गया है जहाँ सामान्य रूप से कुछ क्षेत्र सूखे से पीड़ित हैं, वहीं कुछ ऐसे क्षेत्र भी हैं जो लगातार बारिश की मार झेल रहे हैं। वर्षा से प्रभावित क्षेत्र अतिरिक्त पानी का उपयोग या नियंत्रण करने में असमर्थ हैं, जिससे बाढ़ जैसी स्थिति बन जाती है। वर्षा जल संचयन बाढ़ की समस्या को दूर करने में मदद कर सकता है, जबकि अतिरिक्त जल भंडारण जलीय दुर्लभ क्षेत्रों में जल उपलब्ध कराने में मदद कर सकते हैं। जल प्रबंधन का यह नवीकरणीय स्रोत जल से संबंधित प्रमुख समस्याओं पर काबू पाने में मदद कर सकता है, जो समस्याएं न केवल अभी के लिए दुनिया को परेशान कर रही हैं बल्कि जो भविष्य में भी वैश्विक आबादी और पर्यावरण पर गंभीर प्रभाव डाल सकती हैं।

Summary
Article Name
वर्षा जल संचयन - यह कैसे किया जाता है और भविष्य के लिए यह कितना महत्वपूर्ण है?
Author
Description
वर्षा जल संचयन विभिन्न उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाने वाले वर्षा जल को इकट्ठा करने और संग्रहीत करने की एक विधि है।