Home / History / ईश्वर चंद्र विद्यासागर- एक महान समाज सुधारक

ईश्वर चंद्र विद्यासागर- एक महान समाज सुधारक

May 31, 2017


Please login to rate

ishwar-chandra-vidhyasagar

महान लोग समाज पर अपना प्रभाव छोड़ने के लिए पैदा होते हैं। ऐसा ही एक व्यक्तित्व, ईश्वर चंद्र विद्यासागर थे जो बहुत विनम्र थे, जिन्होंने निश्चित उद्देश्यों को पूरा करने के लिए दृढ़ संकल्प और उद्देश्य के साथ अपना पूरा जीवन बिता दिया। वह महान समाज सुधारक, लेखक, शिक्षक एवं उद्यमी थे और समाज को बदलने के लिए निरंतर काम करते रहे थे। भारत में शिक्षा के प्रति उनका योगदान और महिलाओं की स्थिति को बदलना उल्लेखनीय था। ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने भारत में बहुपत्नी, बाल-विवाह का जोरदार विरोध और विधवा पुनर्विवाह और महिला शिक्षा अनुग्रह किया। इस तरह के मुद्दों के प्रति उनके योगदान के कारण, विधवा पुनर्विवाह अधिनियम 1856 में पारित किया गया था जिसके तहत विधवाओं का पुनर्विवाह कानूनी तौर पर मान्य हो गया।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने महिलाओं को शिक्षा प्रदान करने के लिए अनेक प्रयास किए। उन्होनें स्वयं के खर्च पर कई स्कूल खोले जिसमें लड़कियों ने एडमिशन लिया। उनकी धर्मार्थ प्रकृति और उदारता के कारण उन्हें “दया-आर सागर” या “करुणा सागर” (शाब्दिक रूप से “दया का सागर”) कहा जाता है।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर का जन्म 26 सितंबर 1820 ई0 को एक रूढ़िवादी परिवार में हुआ था। बचपन से वह अधिक से अधिक ज्ञान प्राप्त करने के लिए उत्सुक रहते थे। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी, इसलिए वह रात में स्ट्रीट लाइट में अध्ययन करते थे। उनके गाँव के लोगों ने विभिन्न विषयों पर उनके विशाल ज्ञान के कारण, “विद्यासागर” नाम से सम्बोधित किया। विद्यासागर का अर्थ है शिक्षा का एक महासागर (“विद्या”- शिक्षा, “सागर”- महासागर)। वह संस्कृत के पंडित बन गए और इस विषय में बेहद निपुणता हासिल कर ली। अपनी सेवानिवृत्ति से पहले, उन्होंने कलकत्ता के संस्कृत कॉलेज में संस्कृत के प्रोफेसर के रूप में सेवा की। वह जब कॉलेज के प्रिंसिपल थे, तो कॉलेज सुधार का स्थान बन गया था। इतना ही नहीं, विद्यासागर एक महान लेखक भी थे और उनको आधुनिक बंगाली भाषा के पिता के रूप में जाना जाता है। उन्होनें कई बंगाली वर्णमालाओं को संशोधित किया। उन्होंने संस्कृत के व्याकरण के नियमों पर एक पुस्तक भी लिखी जो आज तक प्रयोग की जाती है।

एक प्रेरणादायक कहानी

ईश्वर चंद्र विद्यासागर एक बेहद नम्र व्यक्तित्व थे और कई बार उनके स्वभाव ने दूसरों को प्रेरित किया। उनके जीवन की कई कहानियाँ उसकी सादगी को साबित करती हैं जो पाठकों के लिए बहुत ही प्रेरक हैं। समाज के प्रति उनके योगदान के अलावा, उनकी विनम्रता ने उन्हें पूरे भारत में एक प्रसिद्ध और सम्मानित व्यक्तित्व बना दिया।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर अपने कुछ दोस्तों के साथ कलकत्ता विश्वविद्यालय शुरू करने के लिए एक मिशन पर काम कर रहे थे और इसके लिए वे लोग दान माँग कर रहे थे। वह उसी के तहत अयोध्या के नवाब के महल में गये। हालांकि उनके साथी सदस्यों ने वहाँ जाने से मना किया। यद्यपि नवाब एक दयालु व्यक्ति नहीं था, विद्यासागर ने नवाब के सामने पूरी स्थिति प्रस्तुत की।

यह सुनकर नवाब ने, विद्यासागर के दान बैग में अपने जूते डाल दिए। इस पर, विद्यासागर ने कोई प्रतिक्रिया नहीं की लेकिन सिर्फ उन्हें धन्यवाद किया और वहाँ से चले गये। अगले दिन, विद्यासागर ने नवाब के महल के सामने नवाब के जूते की नीलामी का आयोजन किया। नवाब को प्रभावित करने के लिए नवाब के जहाँगीरदार और अदालत के सदस्य आदि आगे आए और बोली लगाई। जूते 1000 रुपये में बिक गये थे। यह सुनकर नवाब बहुत खुश हुआ और उसी राशि का दान दे दिया।

जब नवाब ने दान के बैग में अपना जूते डाल दिये थे, तो विद्यासागर दूसरी प्रतिक्रिया भी कर सकते थे। वह इसे अपना अपमान समझ कर निराश हो सकते थे। लेकिन दूसरी तरफ, उन्होंने इसे अवसर के रूप में अपने मिशन को पूरा करने के लिए उन जूतों का इस्तेमाल किया। उन्हें न केवल पैसा मिला बल्कि उन्होंने नवाब को भी खुश किया। उन्होंने हमेशा अपनी व्यक्तिगत भावनाओं से हटकर एक लक्ष्य की ओर काम किया था। अंततः कलकत्ता विश्वविद्यालय खोलने का उनका सपना सच हो गया।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर का निधन 19 जुलाई, 1891 में 70 साल की उम्र में हुआ। उनकी मृत्यु के बाद उनके बेटे ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर का घर कोलकाता के मलिक परिवार को बेच दिया था जिसे बाद में बंगाली एसोसिएशन, बिहार द्वारा 29 मार्च 1974 को खरीदा गया था। उन्होंने अपने घर को वास्तविक रूप में बनाए रखा और लड़कियों के स्कूल और एक निःशुल्क होम्योपैथिक क्लिनिक भी शुरू किया। ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने वास्तव में बंगाल की शिक्षा प्रणाली में सर्वव्यापी अंधेरे को हटाकर उनमें सुधार किए।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर का योगदान

ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने कई अन्य सक्रिय सुधारकों के साथ लड़कियों के लिए स्कूल खोले। ऐसा इसलिए था क्योंकि उनके लिए शैक्षिक सुधार किसी भी अन्य सुधार से बहुत महत्वपूर्ण था। उनका मानना ​​था कि महिलाओं की स्थिति और सभी प्रकार के अन्याय और असमानताएं जिनका वे सामना कर रही थीं, केवल शिक्षा के माध्यम से बदल सकती हैं।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने सभी जातियों, धर्म और लिंग के बावजूद सभी पुरुषों और महिलाओं को समान शिक्षा प्रदान करने के लिए उल्लेखनीय कार्य किए। उन्होंने अपने संस्कृत महाविद्यालय में उच्च जाति के लोगों की बजाय निम्न जातियों के लोगों को अनुमति प्रदान की थी।

विद्यासागर ने विशेष रूप से अपने मूल बंगाल में भारत में महिलाओं की स्थिति का उत्थान किया। वे एक सामाज सुधारक थे और वे रूढ़िवादी हिंदू समाज को भीतर से बदलना चाहते थे। ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने विधवा पुनर्विवाह पर अमल शुरू किया और बहुपत्नी प्रथा के खिलाफ कार्य किया।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने अनेक किताबें लिखी हैं और इस तरह बंगाली शिक्षा प्रणाली को काफी हद तक समृद्ध किया है। उनके द्वारा लिखी गई सभी किताबें आज भी पढ़ी जाती हैं।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर वास्तव में एक महान व्यक्तित्व और सुधारक थे। आज भारत को इस तरह के समर्पित, विनम्र और दृढ़ व्यक्तित्वों की जरूरत है जो समाज की भलाई के लिए पूरी तरह से अपने आप को समर्पित करके आवश्यक सुधार ला सकें।