Home / Imo / इस्मत चुगताई, एक सरल स्वभाव की महिला

इस्मत चुगताई, एक सरल स्वभाव की महिला

August 14, 2018


इस्मत चुगताई

मुझे लगता है कि यह उनकी कार्यनीति है- अपने संघर्षों के माध्यम से जीवन की सच्चाई का परीक्षण करने की – सआदत हसन मंटो द्वारा इस्मत चुगताई के बारे में

सआदत ने बताया कि इस्मत एक अत्यधिक जिद्दी महिला थी। वे अक्सर सबसे सरलतम चीजों के बारे में भी तर्क किया करती थीं और उनकी बहस देर रात तक, मध्यरात्रि के बाद तक चलती रहती थी। मंटो ने बताया कि वे हमेशा बच्चों की तरह व्यवहार करती थीं। हालांकि यह कोई बहस का विषय नहीं है, क्योंकि यह शब्द उनके नहीं थे। इस्मत चुगताई के द्वारा ईमानदारी और बचपने में लिखे गए लेख लोगों को ज्यादा प्रसन्न नहीं कर पाए। एक रूढ़िवादी दुनिया और रूढ़िवादी समय में जन्मीं इस्मत चुगताई हमेशा अपने लेखन के लिए कानून की नजर में रहीं। मंटो की तरह, इन पर भी अश्लीलता का आरोप लगाया गया था। हालांकि, मंटो की तरह इन पर भी लगाए गए आरोपों को “सही” साबित करने के लोगों के प्रयास व्यर्थ रहे थे।

इस्मत आपा का प्रारंभिक जीवन

इस्मत आपा का जन्म अगस्त 1915 में आधुनिक उत्तर प्रदेश के एक मुस्लिम परिवार में हुआ था। इस्मत आपा, नुसरत खानम और मिर्जा कासिम की दस संतानों में से नौवीं संतान थीं। इस्मत ने 1972 की गर्मीयों में दिए गए एक साक्षात्कार में, अपने बचपन की कहानियों को बड़े ही प्रेमपूर्वक ढंग से सुनाया।

इस्मत आपा ने बताया है कि “हम सभी स्पष्टवादी थे, मेरे पिता, मेरे भाई और हम सब,”। हमारे परिवार में सेक्स और गर्भावस्था जैसे विषयों पर खुलेआम बातचीत की जाती थी। इस्मत चुगताई का मानना था कि उनके घर के सभी सदस्यों के बीच होने वाली स्पष्ट बातचीत और उनकी अच्छी परवरिश ने ही उनके मन में एक लेखिका बनने की भावना को जागृत किया, जो कि वे बाद में बनीं भी। इस्मत आपा के पिता एक प्रगतिशील व्यक्ति थे और इसीलिए, उन्होंने इस्मत को भी इस्मत के भाइयों के समान ही आगे बढ़ने का मौका दिया। चूँकि इस्मत की बहनों का विवाह बचपन में ही हो गया था और वे अपने ससुराल चली गईं थी। इसलिए युवा इस्मत ने अपना अधिकांश समय अपने भाइयों के साथ ही बिताया। इस्मत आपा ने अपने भाइयों के साथ मिलकर पेड़ों पर चढ़ना, घुड़सवारी करना सीखा। अपने पुराने दिनों के बारे में सोचकर, इस्मत ने कहा कि यह उनके साथ कभी नहीं हुआ, कि उन्हें एक औरत होने के नाते खुद पर शर्म आयी हो या खुद को कमजोर समझा हो। वे बड़े गर्व के साथ, एक स्पष्टवादी, जिद्दी और साहसी बच्ची बनी रहीं।

इस्मत चुगताई का लेखन प्रभाव

यद्यपि इस्मत चुगताई को अक्सर इनके द्वारा लिखित ‘लिहाफ’ कहानी के लिए अधिक याद किया जाता है जो 1942 में प्रकाशित हुई थी। हालांकि लेखन की दुनिया में इनकी यात्रा की शुरूआत बहुत पहले ही हो चुकी थी। उनके दूसरे सबसे बड़े भाई मिर्जा अजीम बेग चुगताई उनके सलाहकार थे और उन्होंने कई वर्षों तक निरंतर उन्हें उनके कार्य के लिए प्रेरित किया जब इस्मत किशोरावस्था में थी, तब उनके भाई पहले से ही एक प्रतिष्ठित लेखक बन चुके थे। उनके भाई अजीम बेग चुगताई ने उन्हें कहानियों के माध्यम से मजबूत सच्चाइयों को वर्णित करने की कला सिखायी। इस्मत की पहली रचना साकी पत्रिका में प्रकाशित एक नाटक थी, जो उन्होंने अपने स्कूल के लिए लिखी थी।

इस्मत चुगताई को अपने लेखन कैरियर में, इनके भाई के अलावा प्रोग्रेसिव राइटर्स एसोसिएशन की प्रमुख महिला लेखकों में से एक राशिद जहाँ से भी प्रेरणा मिली थी। राशिद, शेख अब्दुल्ला और वाहिदा जहाँ की सबसे बड़ी बेटी थीं और वे अपने माता-पिता की तरह – अपने समय से काफी आगे थीं और अलीगढ़ महिला कॉलेज की संस्थापक थीं। यह राशिद जहां ही थीं, जिनसे 1936 में इस्मत से मिलने के बाद, साम्यवाद के प्रति अपनी रूचि दिखाई। इनकी मृत्यु के बाद इनके कृत्यों ने इनके मार्क्सवादी प्रभावों को प्रतिबिंबित किया। राशिद जहाँ ने उन्हें निडर होना और अपने विचारों के लिए शर्मिंदा न होना सिखाया था। एक तरह से, मिर्जा अजीम और राशिद जहाँ ने इस्मत को एक साहसी व्यक्तित्व में ढालने में मदद की, जिस व्यक्तित्व से वे आज भी जानी जाती हैं।

प्रमुख कार्य और विवाद

इस्मत चुगताई जब पहली बार साहित्यिक भूमि पर पहुँची तो वह ऐसा करने वाली पहली महिला नहीं थी। सुधारवादी महिला लेखिकाओं ने पहले से ही मुस्लिम महिलाओं के जीवन में सुधार लाने के उद्देश्य से लघु लेख लिख रखे थे। हालांकि, इन्होंने शराफत की सीमाओं को न पार करते हुए बड़े पैमाने पर ऐसा किया। रशीद जहां द्वारा लिखित ‘अंगारे’ तथा कुछ वर्षों बाद, इस्मत द्वारा लिखित ‘लिहाफ’ ने उर्दू साहित्य की दुनिया को हिलाकर रख दिया। पाठक और आलोचक नाराज हो गए थे, क्योंकि महिला लेखिकाओं ने उन विषयों के बारे में लिखा जो अब तक उनके लिए वर्जित थे या केवल पुरुषों के लिए आरक्षित किए गए थे।

अदब-ए-लतीफ पत्रिका द्वारा पहली बार लिहाफ (1942) प्रकाशित किए जाने के, दो महीने पहले इस्मत ने शाहिद लतीफ से विवाह कर लिया था। जब संपादकों ने उन्हें पाठकों से प्राप्त पत्र भेजे, इस्मत ने जबाव दिया कि ये भारी पुलिंदा थे। उनमें से सभी में अपशब्द लिखे थे जो उन्हें अपमानित कर रहे थे। हालांकि, लघु कहानी, महिला कामुकता और समलैंगिक संबंधों के अपने साहसी चित्रण के साथ, वर्तमान में विद्वानों द्वारा उत्कृष्ट कृति मानी जाती है।

इस्मत चुगताई ने मध्यम वर्ग की मुस्लिम महिलाओं की स्थिति के बारे में बड़े पैमाने पर लिखा। उदाहरण के लिए, छुई मुई (कहानी) में, कैसे महिलाओं को हमारे समाज के पृष्ठों में केवल बच्चे पैदा करने वाली इकाइयों के रूप में लिखा गया है। एक अन्य कहानी ‘घरवाली’ जो आलोचनाओं को और अधिक बढ़ाती है, इसमें महिलाओं की कामुकता की कहानियों को बताया गया है कि कैसे एक महिला के जीवन में शादी को एक आवश्यकता के रूप में देखा जाता है। नायिका, लाजो एक निडर महिला है और खुले तौर पर अपने यौन की उत्तेजना को स्वीकार करती है। जब वह एक अवांछित एकपतित्व में फंस जाता है, तो वह जीवन पर अपने साहस को प्राप्त करने का अभ्यास जारी रखती है।

साहसी नारीवादी

हालांकि ‘घरवाली’ जैसी कहानियां लिखने का विचार ही आधुनिक समय के लेखकों के मन में हिचकिचाहट पैदा कर देगा, लेकिन इस्मत चुगताई ने इसे पिछली शताब्दी में, अधिक असहिष्णु के समय में लिखा था। सआदत हसन मंटो और इस्मत चुगताई दोनों पर एक ही समय में उनके लेखन के लिए अश्लीलता का आरोप लगाया गया था। बाद में चुगताई ने दावा किया कि उसने सरकार से इस अद्भुत इत्तिफाक के साथ उसे पेश करने के लिए प्रार्थना की है।

विभाजन पर लिखी उनकी लघु कहानी को ‘गरम हवा (1973)’ के रुप में बड़े परदे पर बनाया गया। यह फिल्म जगत में कला की एक उत्कृष्ट साहित्यिक रचना बनी हुई है।

अच्छे साहित्य की रचना करने के बाद कार्यरत लेखिक ने खुद को कभी भी एक ही दिशा में नहीं देखा। वह कहती थीं कि उनका लेखन शायद ही कभी “साहित्यिक शैली” में लिखा गया होगा। उन्होंने जो सोचा वही बोला और वैसा ही लिखा। शायद यह पर्दे की कमी ही है कि उनकी कहानियाँ पाठकों के दिलों को छूने में असफल रही हैं। इस्मत चुगताई साहसी नारीवादी आवाज के रूप में अनुरूप साहित्य के मार्ग पर पहुँची तथा 1991 में अपनी मृत्यु तक इसे जारी रखा। आखिरकार समय का प्रवाह शब्दों को चुरा नहीं सकता है।

 

 

Summary
Article Name
इस्मत चुगताई एक सरल स्वभाव की महिला
Author
Description
इस्मत चुगताई अपने शब्दों और मात्र अपनी सच्चाई के साथ अपने समय की एक प्रमुख लेखिका थीं। उनके जीवन के बारे में इस लेख में वर्णन किया गया है।