Home / India / मिर्जापुर : निगाहें हटा नहीं पाएंगे आप

मिर्जापुर : निगाहें हटा नहीं पाएंगे आप

December 7, 2018


मिर्जापुर

‘मिर्जापुर’ भारत की ओरिजनल सीरीज अमेज़न प्राइम पर स्ट्रीम कर रही है, इस वेब सीरीज का नाम यूपी के शहर ‘मिर्जापुर’ पर रखा गया है। इसकी कहानी मिर्जापुर शहर पर आधारित है। करन अंशुमन और पुनीत कृष्णा द्वारा निर्मित, मिर्जापुर की कहानी हर मोड़ पर क्राइम, एक्शन और रोमांच को घेरती है। यह शो पूर्वांचल में प्रचलित विभिन्न प्रथाओं, जिसके बारे दुनिया को पता नहीं था, को सामने लाता है। इस शो में भयानक हत्याकांड, विश्वासघात और अनियमित हिंसा भी इसका विशाल कार्य है, यही कारण है कि यह युवाओं के बीच बेहद लोकप्रिय है। मिर्जापुर ऐसा एक शो है जिसने भारतीय शोबीज के विकास के प्रक्षेप पथ को बदल दिया है।

कथानक

मिर्जापुर का सेटअप सेक्रेड गेम्स (नेटफ्लिक्स मूल) और अनुराग कश्यप के “क्राइम-एस्क्यू यूनीवर्स” गैंग्स ऑफ वासेपुर की तरह है। लेकिन, मिर्जापुर में अनूठा तत्व वास्तविक जीवन की राजनीति, कानून प्रवर्तन, व्यापार और व्यभिचार को दर्शाते हुए निर्माताओं का ध्यान केंद्रित करता है जो इसे एक आकर्षक घड़ी बनाता है।

अखंडानंद त्रिपाठी उर्फ कालीन भैया (पंकज त्रिपाठी) पूर्वी उत्तर प्रदेश के एक शहर मिर्जापुर में स्थित कालीन के बड़े कारोबारी हैं। वह न केवल एक व्यापारी ही हैं, बल्कि माफिया डॉन भी है। त्रिपाठी वंश अखंडानंद के पिता सत्यानंद त्रिपाठी, जिन्होंने बीस साल पहले एक खूनी खेल के बाद शासन पर कब्जा जमाया था, की पीढ़ी के बाद से पूर्वांचल के अवैध क्षेत्र पर शासन कर रही है। अखंडा का एक बेटा है जिसका नाम “मुन्ना” है। सत्ता का भूखा मुन्ना जल्द से जल्द अपना साम्राज्य पाने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है। लेकिन कहानी में ट्विस्ट तो तब आता है जब एक ईमानदार और नेक वकील के बेटे गुड्डू और बबलू अखण्डानंद त्रिपाठी से मिलते हैं और त्रिपाठी के साथ उसके व्यापार में शामिल हो जाते हैं।

गुड्डू एक ऐसा इंसान है जो मुन्ना और अखण्डानंद की तारीफ करता है उनके जैसा बनना चाहता है जबकि बबलू एक बेवकूफ इंसान है जो आईएएस अधिकारी बनना चाहता है। एक बड़े झटके से मजबूर होकर अखण्डा के साथ काम करने वाले दोनों भाई सभी गैंगस्टरों से लड़ते हैं और उसके अफीम और हथियार के अवैध धंधे को आगे बढ़ाते हैं।

पूरे शो में राजनेता, वकील और माफिया सत्ता और दुश्मनी के इस दलदल में फंसे रहते हैं और अपना पूर्ण प्रभुत्व स्थापित करने की कोशिश करते हैं।

रिव्यु  

मिर्जापुर मूवी बेहद लोकप्रिय हो रही है क्योंकि इसमें उल्लेखनीय रूप से आकर्षक प्रवाह और एक अनोखी दृढ़ कथा की शैली है। इसमें कुछ ऐसे संवाद भी हैं जो सोशल मीडिया से संबधित हैं। चरित्रों के लव और सेक्स लाइफ में जटिलता, जो इससे पहले कभी नहीं दिखाई गई, का चित्रण मिर्जापुर मूवी का लोकप्रिय होने का एक और कारण है। इस शो में पंकज त्रिपाठी, दिव्येंदु शर्मा, अली फजल, विक्रांत मैसी, श्वेता त्रिपाठी, श्रीया पिलगांवकर और रसिका दुग्गल शामिल हैं, जिन्होंने पूरी श्रृंखला में वास्तव में अच्छा प्रदर्शन किया है।

इस मूवी की हिंसा (विशेष रूप से रोजमर्रा की घटना), महिलाओं का चित्रण, अपरंपरागत यौन संबंध और इस तरह की घटनाएं हमें दर्शकों पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में चिंतित  करती हैं। बाकी, शो बहुत ही आश्चर्यजनक है क्योंकि इसमें एक संक्षिप्त कथानक है और इस कथानक में कोई कसर नहीं रही है। जैसा कि इसका पहला ही संस्करण जनता के बीच काफी लोकप्रिय रहा था और इसके अंत को भी बेहतरीन बनाने के लिए वास्तव में रचनाकारों ने कोई कसर नहीं छोड़ी है। ऐसा लगता है कि शुरुआत से अंत तक मिर्जापुर को लेकर उत्सुकता ही इसका एक लाभकारी कारक है।

ऐसा लगता है कि नई पीढ़ी के भारतीय दर्शक क्राइम की इस उभरती हुई शैली वाली फिल्मों की अधिक तलाश करना चाहते हैं। इससे पता चलता है कि क्यों मिर्जापुर, गैंग्स ऑफ वासेपुर और सेक्रेड गेम्स जैसी फिल्में और शो लोकप्रिय हो रहे हैं, यहां तक कि निर्माता भी अधिक प्रयोगात्मक हो रहे हैं। इन शो का आकर्षण इतना अनूठा है कि सैफ अली खान, नवाजुद्दीन सिद्दीकी, पंकज त्रिपाठी, अली फजल, कुलभूषण खरबंगा और श्रेया पिलगांवकर इत्यादि जैसी बड़ी बॉलीवुड हस्तियां भी इसमें शामिल हैं।

अब यह देखना रोमांचक होगा कि यह शैली हमें कितना अधिक आकर्षित करेगी, जब यह उस माहौल में पूरी तरह से रम चुकी है, जिसमें हम हर वक्त जीते हैं। मिर्जापुर सीजन-2 में निश्चित रूप से हमें एक अलग ही झलक देखने को मिलेगी।

Summary
Reviewer
आयुषी नामदेव
Review Date
Reviewed Item
मिर्जापुर शो
Author Rating
3