Home / society / लोग चाहते हैं कि ये 5 चीजें भारत में हो जाएं प्रतिबंधित

लोग चाहते हैं कि ये 5 चीजें भारत में हो जाएं प्रतिबंधित

January 31, 2019


Please login to rate

चलिए बात करें अनदेखे मुद्दों पर

हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन में कई चीजें हमें कष्टप्रद लगती हैं। लेकिन कई चीजें ऐसी हैं जिनसे हम इतना तंग आ चुके हैं कि हम इन्हें अब बर्दाश्त नहीं कर सकते। हमने इधर-उधर खोजबीन की, चारों ओर पूछा और कुछ चीजें ढूंढीं जिन्हें लोग अब और बर्दाश्त नहीं कर सकते। उनमें से कुछ वास्तव में अनुचित और अतार्किक हैं। भारत किन चीजों पर प्रतिबंध लगाना चाहता है जानने के लिए इस लेख को पढ़िए।

1. सार्वजनिक स्थानों पर कचरा फेंकना प्रतिबंधित हो

कई सालों से, हम कचरे से होने वाले प्रदूषण को सहते-सहते तंग आ चुके हैं। कितनी बार हमने लोगों को बेशर्मी से सड़कों के किनारे थूकते देखा है? और, सड़कों पर कोनों में पेशाब करने वाले लोगों के बारे में भी बात करना न भूलें। राहगीरों की नाक में दम कर दिया है इस गंदगी ने, क्योंकि वे न केवल शहर की स्वच्छता को बर्बाद कर रहे हैं बल्कि शहर की स्वच्छता कहीं लुप्त होती जा रही है। खुले में शौच करना / खुले सार्वजनिक स्थानों पर पेशाब करना संभावित रोगों को उत्पन्न करना है। सार्वजनिक स्थानो पर कूड़ा-कर्कट फेंकना ऐसा कुछ नहीं है जिसे टाला न जा सकता हो। इन सब पर भी प्रतिबंध लगाने का आदेश होना चाहिए।

2. बाबाओं पर प्रतिबंध

न जाने कितनी बार हमारी आँखों में धूल झोंकी गई, हमें ठगा गया और गुमराह किया गया? और वह भी बार-बार एक ही तरीके से। मामला चाहे जो भी हो उनका तरीका बस एक ही रहता है – वे आते हैं, ज्ञान के दो शब्द कहते हैं और हम उनके जाल में फंस जाते हैं। ये सारे बाबा आलीशान बंगलों में भोग-विलास कर रहे हैं, जबकि हमें संयम में रहना सिखा रहे हैं क्योंकि यह सब ‘माया’ है। लेकिन किसी कारण से, हम जानबूझकर इन सबको को नजरअंदाज कर देते हैं कि कोई बाबा गलत कैसे कर सकता है। और हम उनके बताए रास्ते पर चलते रहते हैं। लेकिन एक दिन, जब उनकी इच्छाएं बढ़ जाती हैं तो मामला हत्या और बलात्कार जैसे मामलों तक पहुंच जाता है। अनुयायियों को न केवल दुश्चरित्र बल्कि भ्रमित भी किया जाता है और उन्हें दृढ़ता से चोट भी पहुंचाई जाती है। समय आ गया है कि उन बाबाओं के नाटक का अंत किया जाए।

3. भाईभतीजावाद पर प्रतिबंध

भाई-भतीजावाद एक बुरी अवधारणा बनती जा रही है, चाहे वह राजनीति में हो या बॉलीवुड में। सबसे पहले फिल्म उद्योग के बारे में बात करते हैं। यहां जो कुछ भी है वह यहां के लोगों और उनके बच्चों तथा उनके पोते-पोतियों का है। वास्तव में, बाहर के कलाकार बहुत कम हैं। यहां ऐसा होता है कि जो लोग इस उद्योग से जुड़े लोगों के घर जन्म लेते हैं, उन्हें बॉलीवुड का टिकट मिल जाता है। उनकी उम्र, उनकी सुंदरता और उनके हुनर से फर्क नहीं पड़ता बस पुराना नियम – जो इंडस्ट्री से है वह इंडस्ट्री में रहता है। हमें बहुत ही कम ऐसे चेहरे देखने को मिलते हैं जिनका पहले से ही बॉलीवुड के प्रतिष्ठित कलाकारों से नाता न रहा हो। इसके साथ ही, राजनीति में यह प्रथा और भी विचलित करने वाली है। क्योंकि यहां हम अपने देश के भविष्य के बारे में बात कर रहे हैं। शीर्ष-अधिकांश आधिकारिक पदों पर परिवार के ही सदस्यों को रखना बहुत ही दुखद है।

4. तम्बाकू पर प्रतिबंध

तम्बाकू भारत में होने वाली मौतों के प्रमुख कारणों में से एक है। हम गंभीरता से पान मसाला, गुटका और सिगरेट से छुटकारा पा सकते हैं। कुछ राज्य हैं जहां तम्बाकू के सेवन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है जबकि कुछ राज्यों में नहीं। हमें ऐसी स्थितियों पर प्रतिबंध लगाने की आवश्यकता है। यदि विज्ञापनों में तम्बाकू के सेवन से निदान वाले लोगों की भयावह छवियां आपके लिए संकेत नहीं हैं, तो आपको उन आंकड़ों को देखना चाहिए जहां हर साल दुनिया भर में तम्बाकू के सेवन से लाखों लोगों के मरने की सूचना मिलती है। ओरल कैंसर उन लोगों में एक आम बीमारी है जो मनोरंजन के लिए तंबाकू पर निर्भर हैं। क्यों न इन करोड़ों जिंदगियों को बचाया जाए और एक बार सभी द्वारा इसके सेवन पर स्थाई प्रतिबंध लगाया जाए।

5. प्लास्टिक पर प्रतिबंध

देश के कई हिस्सों को पता है कि प्लास्टिक हमारे पारिस्थितिकी तंत्र के साथ कितना गहरा खिलवाड़ कर सकता है। उन्होंने लोगों के जीवन से पूरी तरह से इसे खत्म करने के लिए कागज और कपड़े के थैले बनाकर सही कदम उठाया है। हालांकि, देशव्यापी प्रतिबंध लगाने के लिए अभी भी एक लंबा सफर तय करना बाकी है। प्रदूषण और अपशिष्ट निपटान की समस्या पर कुछ मदद के साथ वास्तव में व्यापक प्रतिबंध लगाया जा सकता है, क्या यह नहीं हो सकता?

तो, ये सभी थे। यदि आपके मन में कोई विचार है जिस पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए? हमें नीचे टिप्पणी में बताएं।

 

Summary
Article Name
लोग चाहते हैं कि ये 5 चीजें भारत में हो जाएं प्रतिबंधित
Author
Description
हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन में कई चीजें हमें कष्टप्रद लगती हैं। लेकिन कई चीजें ऐसी हैं जिनसे हम इतना तंग आ चुके हैं कि हम इन्हें अब बर्दाश्त नहीं कर सकते। वे बस उन्हें हमेशा के लिए प्रतिबंधित कर देना चाहते हैं। कोई अनुमान है कि वे क्या हो सकती हैं?