Home / Education / पर्यावरण के लिए हमारी छोटी सी पहल

पर्यावरण के लिए हमारी छोटी सी पहल

July 17, 2018
by


Please login to rate

पर्यावरण के लिए हमारी छोटी सी पहल

पारिस्थितिकीय क्षेत्र में पर्यावरण और मनुष्य, दोनों परस्पर एक-दूसरे पर निर्भर होते हैं। यह अतिशयोक्तिपूर्ण कथन की तरह लग सकता है लेकिन इससे सिद्ध होता है कि मनुष्यों और पर्यावरण के बिना दुनिया एक अकल्पनीय दृश्य है, जो आपको अत्यधिक भयभीत कर सकता है। हालांकि इस धरती पर एक प्रभावशाली वर्ग बनने की होड़ में, हमने बार-बार अपने पर्यावरण के साथ खिलवाड़ किया है और इस प्रभाव के कारण हम पृथ्वी के छठे सबसे बड़े चेहरे के रूप में विलुप्त होने की कगार पर हैं। पर्यावरण न केवल हमें पृथ्वी पर रहने के लिए एक स्वस्थ माहौल प्रदान करता है बल्कि यह पृथ्वी का अस्तित्व बनाए रखने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस प्रकार, प्रत्येक व्यक्ति को इस पारिस्थितिक तंत्र के एक हिस्से के रूप में, योगदान देने की आवश्यकता है जो न केवल हमारे पर्यावरण में हो रहे नुकसान को कम करेगा बल्कि आने वाली पीढ़ियों के लिए इसे बचाने में भी सहायता करेगा।

पर्यावरण पूरी तरह से ध्वस्त होने की कगार पर है, ग्लोबल वार्मिंग अनियमित मौसम के उदाहरण के साथ एक बहुत ही खतरनाक स्थिति पैदा कर रही है। प्रत्येक व्यक्ति को न केवल वर्तमान के लिए, बल्कि आने वाली पीढ़ियों के लिए भी पर्यावरण संरक्षण और सुरक्षा के कर्तव्य को समझने की आवश्यकता है। यहां तक कि आपके द्वारा उठाए गए छोटे प्रयास भी इसमें अंतर कर सकते हैं, इसलिए यदि हम अपना पूरा समय पर्यावरण के प्रति समर्पित नहीं कर सकते हैं, लेकिन हम वास्तविक उपायों के माध्यम से तो योगदान कर ही सकते हैं।

हमारे पर्यावरण को बहाल करने और सुरक्षित रखने में सहायता प्रदान करने वाले 10 उपाय यहां दिए गए हैः

 

वृक्षारोपण करके और एक पेड़ को अपनाकर

भवन निर्माण, खनन, फर्नीचर निर्माण और कई ऐसी मानवीय आवश्यकताओं के लिए वनों की कटाई चिंता का कारण बन गईं हैं। यह समय है जब हम लोगों को अपने आस-पास के इलाकों में वृक्षारोपण करके, जब तक पेड़-पौधे विकसित न हो जाएं, उनकी देखभाल करनी चाहिए।

पानी का उपयोग पर्याप्त मात्रा में करके

हालांकि पृथ्वी के 70 प्रतिशत से अधिक हिस्से में पानी है, लेकिन अभी भी स्वच्छ और सुरक्षित पानी की कमी है और यदि पर्याप्त उपाय नहीं किए गए तो जल्द ही दुनिया की आबादी के आधे हिस्से को पानी की गंभीर कमी का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को ध्यान रखना होगा कि इधर-उधर से पानी की लीकेज को न रहने दें, शावर या नहाने वाले टब के उपयोग को कम से कम करें। अपशिष्ट जल को आरओ से शुद्ध करके पौधों में या छोटे घरेलू कार्यों में एक बार फिर उपयोग किया जा सकता है।

ऊर्जा संरक्षण से

यदि रोशनी की आवश्यकता न हो तो स्विच बंद रखें, उच्च बीईई स्टार रेटिंग वाले इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद ही खरीदें, इलेक्ट्रॉनिक यंत्रों को स्टैंडबाय मोड पर न छोड़ें, बल्ब और ट्यूबलाइट्स के स्थान पर सीएफएल बल्ब और ट्यूबलाइट्स का उपयोग करें।

जैव प्रदूषित कचरे और गैर-जैव प्रदूषित कचरे को अलग-अलग रखना

घरों या सार्वजनिक स्थानों पर उत्पन्न जैव प्रदूषित कचरे और गैर-जैव प्रदूषित कचरे को अलग-अलग रखना वास्तव में आवश्यक है। जैव प्रदूषित कचरे से खाद बनाई जा सकती है, यह कचरा कुछ महीनों के बाद ही जैविक खाद में बदल जाता है जिसका उपयोग बगीचे के लिए भी किया जा सकता है। दूसरी तरफ इसगैर-जैव प्रदूषित कचरे का पुनर्नवीनीकरण या निपटान आसानी से किया जा सकता है, यह पर्यावरण को कोई भी नुकसान नहीं पहुंचाता।

अधिक क्लोरोफ्लोरोकार्बन उत्सर्जित करने वाले उपकरणों के उपयोग को कम करके

एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर और ऐसे कई उत्पाद जो हानिकारक क्लोरोफ्लोरोकार्बन गैस उत्सर्जित करते हैं, ये न केवल किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए, बल्कि पृथ्वी की ओजोन परत के लिए भी हानिकारक हैं। वर्तमान दुनिया में, अधिकांश घरों में ऐसी बहुत सी वस्तुएं उपयोग की जातीं हैं। एसीएस से सीएफसी गैसों को कम करने के लिए तापमान को 25˚ सेल्सियस पर सेट करना चाहिए। रेफ्रिजरेटर को एक घंटे या उससे भी अधिक समय तक बन्द रखना चाहिए।

पुनर्चक्रण और पुनर्प्रयोग करके

अपने पुराने या खराब उत्पादों का पुनर्चक्रण करना और किसी अन्य उद्देश्य के लिए इनका पुनर्प्रयोग (दोबारा उपयोग) करना, आपके पास एकत्रित कचरे की मात्रा को कम करता है। उत्पादों (माल या  वस्तु)को खरीदते समय यह ध्यान रखें कि उनमें अधिक पैकेजिंग नकी गई हो और प्रयोग के बाद पैकेजिंग को नष्ट कर दें, ताकि कचरा इकट्ठा न हो पाए। दूसरी तरफ पुनर्प्रयोग, पुनर्चक्रणकी तरह ही है, जिसमें पुरानी वस्तु जैसे फर्नीचर, घरेलू उत्पाद या सिर्फ साधारण प्लेंटर या फूलदान का पुनर्चक्रण करके दोबारा प्रयोग में लाना शामिल है।

सार्वजनिक परिवहन और कारपूलिंग का उपयोग करके

वाहन, देश के बढ़ते प्रदूषण स्तर में सबसे प्रमुख योगदान कर्ता हैं, हर साल निजी वाहनों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। लोगों को नियमित आधार पर निजी वाहनों में सफर करने के बजाय, सार्वजनिक परिवहन के विकल्प को चुनना चाहिए, क्योंकि सार्वजनिक परिवहन न केवल प्रदूषण स्तर को बढ़ाता है, बल्कि वैयक्तिक कार्बन उत्सर्जन को भी कम करते हैं। सार्वजनिक परिवहन के अलावा लोग मित्रों, सहयोगियों और परिवारों के साथ कारपूलिंग का भी चयन कर सकते हैं। कम दूरी या बाजारों की यात्रा के लिए कार का सफर करने के बजाय साइकिल या पैदल यात्रा करें।

प्लास्टिक के उपयोग को कम करके

प्लास्टिक का उपयोग पर्यावरण को प्रभावित करने वाले प्रमुख पर्यावरणीय मुद्दो में से एक है, प्लास्टिक से महासागरों, वन्यजीवन और मानवीय स्थानों पर घुटन उत्पन्न होती है। एक बार उपयोग करने के उद्देश्य से किसी भी प्लास्टिक सामग्री का उपयोग न करें, हाथ से बने थैलों का उपयोग करें, हालांकि दुनिया भर की सभी सरकारें प्लास्टिक बैग के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने के लिए दबाव डाल रही हैं। फिर भी, यह हमारे जीवन से संबधित पर्यावरण के प्रति हमारा कर्तव्य है कि हमें प्लास्टिक के उपयोग को कम से कम करना चाहिए।

पर्यावरण के प्रति अपने आपको स्वेच्छा से शामिल करके

प्रत्येक व्यक्ति को एनजीओ या समुदाय द्वारा स्वच्छता पर उठाए गए कदम के प्रति (साप्ताहिक या मासिक) कुछ समय निकालना चाहिए, जैसा किये समुदाय आज-कल पर्यावरण में आने वाली समस्याओं के बारे में जागरूकता फैलाने में सहायता कर रहे हैं। पर्यावरण की इस मुहिम में आपको अपनी इच्छा से शामिल होना बहुत जरूरी है, क्योंकि एक सुरक्षित और स्वच्छ वातावरण के बिना हमारा अस्तित्व खतरे में पड़ जाएगा।

पर्यावरण का सम्मान करके

अंतिम लेकिन महत्वपूर्ण, पर्यावरण का सम्मान करें, क्योंकि पहाड़ी स्टेशनों या समुद्र तटों पर जितना आनंद हमें पहले प्राप्त होता था उतना अब नहीं। अगर हम अपने पर्यावरण की रक्षा करने और आने वाली पीढ़ियों के लिए इसे संरक्षित करने में सक्षम नहीं हो पाए, तो वे हमसे प्रश्न करेंगी कि आपने पर्यावरण के खिलाफ खिलवाड़ क्यों किया, जिसने पृथ्वी की पारिस्थितिकी को ही बदल दिया।

 

Summary
Article Name
पर्यावरण के लिए हमारी छोटी भूमिका
Author
Description
हम मनुष्य पर्यावरण पर निर्भर हैं और प्रकृति से जुड़ने के लिए यह वास्तव में आवश्यक है, पर्यावरण ही एकमात्र ऐसा तरीका है जिससे हम स्वच्छ और स्वस्थ वातावरण को पुनः प्राप्त कर सकते हैं। जैसा कि हम सभी व्यक्तिगत या सामुदायिक स्तर पर अपना थोड़ा सा समय देकर न केवल इस पीढ़ी के लिए बल्कि आने वाली पीढ़ी के लिए स्वच्छ और स्वस्थ वातावरण प्रदान कर सकें।