Home / Politics

Category Archives: Politics

प्रियदर्शनी इंदिरा गाँधी - एक नेता या तानाशाह?

कुछ दिनों पहले पूरे देश में समाचार रिपोर्टों ने बड़े प्रशंसनीय शब्दों में कहा कि भारत के प्रधानमंत्री ने अमेरिका की आधिकारिक यात्रा की और व्हाईट हाउस में भोजन करने वाले वह पहले भारतीय (हमारे देश के प्रधानमंत्री) थे। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र (निश्चित रूप से भारत) और दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र (इस समय के लिए इस दावे की बहस को नजरअंदाज करते हैं) के बीच संबंधों को मजबूत बनाने के सन्दर्भ में [...]

इंदिरा गांधी के शासन में भारत में कितना परिवर्तन हुआ?

इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में भारत की सबसे अच्छी ज्ञात राजनीतिज्ञ और नेता थी। इनका जन्म एक राजनीतिक परिवार में हुआ था और भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की एकलौती बेटी थीं, इसलिए जवाहरलाल नेहरू ने इंदिरा गांधी को भारतीय राजनीति की वास्तविकताओं में शामिल होने से पहले, इन्हें अंतर्राष्ट्रीय मामलों और भू-राजनीति से अवगत कराया था। इंदिरा गांधी ने मंत्री बनने के समय राजनीतिक नीतियों और भारत पर इसके प्रभाव को समझने के [...]

by
क्या वसुंधरा राजे विरोधी लहर पर काबू कर पाएंगी?

राजस्थान राज्य में मुख्यमंत्री का पद पिछले 20 सालों से भारतीय जनता पार्टी के वसुंधरा राजे और कांग्रेस के अशोक गहलोत के बीच लगातार बदलता रहा है। पिछले लगभग तीन दशकों में, राजस्थान के मतदाताओं ने सत्ता में मौजूदा सरकार को वोट नहीं दिया है। वसुंधरा राजे ने 2013 के विधानसभा चुनावों के दौरान सत्ताधारी अशोक गेहलोत के खिलाफ एक सफल अभियान का नेतृत्व किया, जहाँ उन्होंने राज्य में 74 प्रतिशत मतदाताओं के समर्थन के [...]

by
शिवराज सिंह चौहान के 13 साल पूरे, जानिए मध्य प्रदेश के विकास की कहानी

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, जो गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में भाजपा के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पीछे छोड़ते हुए भाजपा के दूसरे सबसे लंबे कार्यकाल वाले मुख्यमंत्री बन गए हैं और वर्तमान में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह के पीछे हैं। वर्ष 2005 में मध्य प्रदेश विधानसभा के मुख्यमंत्री बनने के बाद से वह मध्य प्रदेश राज्य में बीजेपी का एक जाना-माना चेहरा रहे हैं। शिवराज सिंह चौहान के मध्य प्रदेश [...]

by
सत्तारूढ़ बीजेपी के लिए परीक्षण का समय?

बिहार और उत्तर प्रदेश के हालिया उपचुनावों के दौरान प्रमुख लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों में हारने से लेकर, उत्तर-पूर्वी राज्य विधानसभा चुनावों में विजय प्राप्त करने तक, यह साल भारतीय जनता पार्टी के लिए उतार-चढ़ाव भरा रहा है। बीजेपी ने त्रिपुरा में वाम मोर्चा पार्टी को हराया और मेघालय में मौजूदा कांग्रेस सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए गठबंधन की रणनीति अपनाई। हालांकि, कर्नाटक विधानसभा चुनाव में हालिया हार इस साल पार्टी के लिए सबसे बड़ी [...]

by
प्रसिद्ध भारतीय राजनीतिक राजवंश

भारत में सदियों से राजनीतिक परिवारों का इतिहास विस्तृत रहा है, ये राजवंश राजनीति में स्थानीय और राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर सक्रिय रूप से शामिल होते रहे हैं। कई वंश एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक विरासत के रूप में अपना निर्वाचन क्षेत्र सावधानीपूर्वक सौंपते हुए राजनीतिक राजवंशों के रूप में उभर कर सामने आए हैं। हालांकि, भारत में एक बड़ी संख्या में राजनीतिक राजवंशों का अस्तित्व कई अन्य बाहरी लोगों के लिए असामान्य बात [...]

by
क्या भारतीय नेताओं को शिक्षित होना चाहिए

भारत एक ऐसा देश है, जहाँ के अधिकतर लोग मौलिक सुविधाओं से वंचित हैं। कुछ मामलों में लोगों को कागजों पर सुविधा तो मिल जाती है, लेकिन वास्तव में उनको इसमें कुछ भी नहीं मिलता है। अब सवाल यह उठता है कि इसके लिए किसको दोषी ठहराया जाए? क्या नीति निर्माताओं को इसका दोषी ठहराया जा सकता है, जो उन लोगों के बारे में उचित विचार नहीं करते हैं, जो उनको अपना वोट देते हैं। [...]

by
Karnataka Elections in hindi

कांग्रेस और भाजपा एक बार फिर चुनावी रण में आमना-सामना करने के लिए तैयार है, क्योंकि भारतीय निर्वाचन आयोग ने कर्नाटक राज्य में होने वाले चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है। 27 मार्च को निर्वाचन आयोग ने घोषणा की थी कि राज्य के सभी निर्वाचन क्षेत्रों में 12 मई को मतदान आयोजित होंगे, जबकि इनकी गणना 15 मई होगी। पूरे देश के राजनीतिक विश्लेषक, कर्नाटक चुनावों को 2019 में होने वाले बड़े फाइनल [...]

by
पूर्वोत्तर में भाजपा की जबरदस्त बढ़त

भाजपा और उनके सहयोगी दल त्रिपुरा और नागालैंड में  सरकार बनाने के लिए तैयार हैं, जबकि कांग्रेस मेघालय में अपनी सरकार बनाने के लिए विभिन्न क्षेत्रीय पार्टियों के साथ गठबंधन करके मुकुल संगमा को फिर से मुख्यमंत्री के पद पर आसीन करने की भरपूर कोशिश कर रही है। फरवरी महीने में तीनों राज्यों में चुनाव आयोजित हुए और भाजपा इन तीनों राज्यों में भारी संख्या में जनमत हासिल करने की कोशिश कर रही थी, जहाँ [...]

by

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्राउडु पहली बार भारत के दौरे पर आए। आमतौर पर प्रधानमंत्री ने जहाँ भी यात्रा की है वहाँ पर उनको जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली, लेकिन इसके विपरीत इस “लिबरल” नेता का भारत दौरा उदासीन मामला साबित हुआ। कैनेडियन नेता को उदारवादी राजनीति मसीहा के रूप में चित्रित किया गया है, जिन्होंने खुले तौर पर पुरूष समलैंगिक अधिकारों का समर्थन किया है, जबकि इनके मंत्रिमंडल की 50 प्रतिशत सीटों पर महिलाओं का कब्जा [...]

by