Home / / आरबीआई – करने जा रहा है मौजूदा वित्तीय वर्ष के लिए द्वि-मासिक नीति की घोषणा

आरबीआई – करने जा रहा है मौजूदा वित्तीय वर्ष के लिए द्वि-मासिक नीति की घोषणा

August 3, 2017


Please login to rate

RBI_hindiभारत मे नवीनतम आर्थिक विश्लेषण से पता चला है कि भारत की मुद्रास्फीति में गिरावट का एक नया रिकॉर्ड बन गया है, इस तरह की गिरावट पहले कभी नहीं देखी गई। इस प्रकार, देश में चल रहे कारखानों के उत्पादन में भी कमी पाई गई है। उम्मीद की जा रही है कि इस स्थिति के चलते भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) अपने रेपो दर को कम कर देगा। रेपो दर भारत की सर्वोच्च बैंकिंग संस्था द्वारा उपयोग की जाने वाली अल्पकालिक ऋण दर है जो मूल रूप से वाणिज्यिक बैंकों को दिए गए ऋणों पर लगाई जाती है। उम्मीद की जा रही है कि 2 अगस्त को होने वाली आरबीआई की मौद्रिक नीति की समीक्षा में ऐसा किया जायेगा। जब 7 जून को मौजूदा वित्त वर्ष के लिए आरबीआई ने अपनी दूसरी द्वि-मासिक पॉलिसी की समीक्षा की थी तब रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया गया था।

रेपो दर में परिवर्तन के कारण

उस समय भी रेपो दर 6.25% पर स्थिर रही थी। आरबीआई द्वारा जारी पॉलिसी स्टेटमेंट में कहा गया था कि छह सदस्यों वाली मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने मुद्रास्फीति में खतरे के आधार पर यह निर्णय लिया था। जून 2017 के दौरान, भारत की खुदरा मुद्रास्फीति में 1.54% की एक रिकॉर्ड गिरावट आई। इसी समय, औद्योगिक उत्पादन के आँकड़ों से पता चला है कि मई 2017 के दौरान कारखानों के उत्पादन में वृद्धि की दर 1.7% नीचे आ गई थी। अनुमान लगाया गया था कि मई 2016 में इसकी दरें 8% हो जाएंगी।

कटौती कैसे होगी?

उम्मीद यह है कि 2 अगस्त को आरबीआई अपनी मुख्य नीति दर को कम से कम एक तिमाही प्रतिशत तक कम कर देगा। रेपो दर में कटौती की यह दर ठीक नवंबर 2010 से पिछले साढ़े छह सालों में सबसे निम्नतम दर हो सकती है। इस समय पूछा जाने वाला मुख्य प्रश्न यह है कि यदि इस स्थिति की मांग की जाए तो क्या केंद्रीय बैंक, जो अब तक सतर्क रहा है, वृद्धि को कम करने के लिए तत्परता दिखाएगा। हाल ही में एक राइटर द्वारा 56 अर्थशास्त्रियों के साथ किए गए सर्वेक्षण में, 40 अर्थशास्त्रियों ने भविष्यवाणी की थी कि आरबीआई रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर सकता है, जिससे रेपो की नई दरें 6% हो जायेंगी।

क्या कुछ सस्ता हो सकता है?

तथ्य यह है कि सोसाइटी जनरल कुनाल कुमार कुंडू के द्वारा पहले से ही उम्मीद की गई थी कि रेपो दर में कटौती की जाएगी, जिन्होंने कहा है कि मुद्रास्फीति में देरी की वजह से तेजी से आई गिरावट के लिए आरबीआई अनजान है। सामान्य मानसून, कमजोर क्षमता का उपयोग, कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट और भारतीय राष्ट्रीय रुपये (आईएनआर) की मजबूत स्थिति जैसे कारकों से स्थिति में और भी तेजी आई है। मुद्रास्फीति में गिरावट का यही प्रमुख कारण है।

आरबीआई की मौद्रिक समीक्षा

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल की अगुवाई वाली मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने समीक्षा करने के लिए, दो दिवसीय लंबी विचार-विमर्श वाली बैठक 1 अगस्त को शुरू कर दी है। वर्तमान में, शेयर बाजार और विभिन्न उद्योगों सहित भारतीय अर्थव्यवस्था के सभी हितधारक इस बैठक के परिणामों की प्रतीक्षा कर रहे हैं। विलम्ब से कीमतों में काफी सुधार हुआ है इस प्रवृत्ति से उत्साहित बैंकरों को एक नई उम्मीद मिली है कि आरबीआई को राजकोषीय मुद्दों पर अपना रुख बदलना होगा। वे पहले से ही यह सोंच रहे हैं कि बेंचमार्क द्वारा ऋण दर में कम से कम 0.25% तक कटौती की जाएगी। हालांकि, कई लोग मुद्रास्फीति में देरी के कारण आई गिरावट को देखते हुए देश के सर्वोच्च बैंकिंग संगठन के और भी ज्यादा आक्रामक रवैये की संभावना कर रहे हैं।