Home / / प्रो कबड्डी लीग 2017 – सीजन 5

प्रो कबड्डी लीग 2017 – सीजन 5

July 11, 2017


Please login to rate

pro-kabaddi-hindi

12 टीमों की भागीदारी के साथ, प्रो कबड्डी लीग 2017 सीजन 5 को चैंपियनशिप के इतिहास का सबसे बड़ा सीजन होने की उम्मीद है, जिसे दो पक्षों के एक नए प्रारूप में विभाजित किया जाएगा। जोन ए में दिल्ली, हरियाणा, जयपुर, अहमदाबाद, पुणे और मुंबई की टीमें शामिल होंगी। जोन बी में चेन्नई, हैदराबाद, बेंगलुरु, पटना, कोलकाता और लखनऊ की टीमें शामिल होंगी। कुल मिलाकर, इस सीजन में 132 मैच होने की संभावना है। सीजन का लीग चरण 28 जुलाई से शुरू होगा और 20 अक्टूबर को समाप्त होगा। लीग चरण में प्रत्येक टीम को 22 मैच खेलने हैं। इन मैचों में से 15 इंट्रा-जोन मैच होंगे और शेष मैच इंटर-जोनल आधार पर खेले जाएंगे।

इस सीजन में नया क्या है?

यह उम्मीद है कि प्रत्येक वेन्यू 11 मैचों की मेजबानी करेगा और प्रत्येक टीम घरेलू मैदान पर छह मैच खेलेगी। प्लेऑफ चरण में 22 से 28 अक्टूबर के बीच छह मैच खेले जायेंगे। इस चरण में दोनों जोनों की सर्वश्रेष्ठ तीन टीमों को चुना जायेगा, जिन टीमो ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है। इंट्रा-जोन चरण में उसी जोन की प्रत्येक टीम उस जोन की दूसरी टीम का कम से कम तीन बार सामना करेगी। इसका मतलब यह है कि इस स्तर पर वे प्रत्येक 15 मैच खेलेंगे। इंटर-जोन चरण में जो अंतिम तीन हफ्ते तक चलेगा, प्रत्येक टीम एक बार दूसरे जोन की टीमों का सामना करेगी। इस चरण के आखिरी हफ्ते में वाइल्ड-कार्ड मैच होंगे जो कि मिड-सीजन ड्रॉ द्वारा तय किये जाएंगे। प्लेऑफ चरण के मैच मुंबई और चेन्नई में खेले जाएंगे। इस सीजन में आयोजक दर्शकों के लिए कुछ अलग करने की कोशिश कर रहे हैं। वे दर्शकों को एक उच्च स्तर का मनोरंजन और रोमांच प्रदान करना चाहते हैं। यही कारण है कि लीग चरण में विभिन्न चरणों की तरह नवपरिवर्तन और वाइल्ड-कार्ड मैचों का आयोजन इस समय के आसपास किया जा रहा है। आठ पुरानी टीमों के साथ, चार टीमें इस सीजन में अपनी शुरुआत कर रही हैं। सभी टीमों का उल्लेख नीचे किया गया है:

  • बंगाल वारियर्स
  • बेंगलुरु बुल्स
  • दबंग दिल्ली के.सी.
  • जयपुर पिंक पैंथर्स
  • पटना पाइरेट्स
  • पूनेरी पलटन
  • तेलुगू टाइटन्स
  • यू मुंबा
  • गुजरात फॉर्च्यूनगेन्ट्स
  • यूपी योद्धा
  • तमिल थलाइवास
  • हरियाणा स्टीलर्स

निम्नलिखित टीमों के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी – आगामी सीजन में ये खिलाड़ी शीर्ष रक्षक और ऑलराउंडरर्स हो सकते हैं:

  • मनोज कुमार
  • श्रीकांत तेवथिया
  • महिपाल नरवाल
  • सचिन शिंगडे
  • सोमवीर शेखर
  • धर्मजाल चेरलाथन

विशेषज्ञों के मुताबिक कबड्डी टूर्नामेंट के लिए सर्वश्रेष्ठ राइडिंग जोड़े निम्न हैं:

  • दीपक निवास हुड्डा और राजेश मंडल
  • प्रदीप नरवाल और मोनू गोयट
  • राहुल चौधरी और निलेश सोलौंके
  • नितिन तोमर और ऋषंक देवदीग
  • अनूप कुमार और कशिलिंग एडके

इस सीजन में इन सबसे अच्छे युवा कबड्डी खिलाड़ियों से उम्मीदें हैं जिनके नाम निम्नलिखित हैं:

  • मनोज धुल
  • दीपक नरवाल
  • नितिन तोमर
  • अमित हुड्डा
  • प्रदीप नरवाल

इन के अलावा इन भारतीय कबड्डी के स्टार प्लेयरों की भी शानदार उपलब्धि होगी:

  • अजय ठाकुर
  • जसवीर सिंह
  • मोहित छिल्लर
  • सुरेंद्र नादा
  • सुरजीत
  • किरण परमार
  • मनजीत छिल्लर

कबड्डी टूर्नामेंट का इतिहास

कबड्डी टूर्नामेंट का पहला सीजन 2014 में आयोजित किया गया था। यह 26 जुलाई को शुरू होकर 31 अगस्त को समाप्त हुआ था। सभी संस्करणों में, आठ टीमों ने हिस्सा लिया और राउंड रॉबिन स्टेज में प्रत्येक टीम एक दूसरे के खिलाफ दो मैच खेली। इसके अलावा दो सेमीफाइनल, एक तीसरे स्थान का मैच और फिर फाइनल हुआ था। यू मुम्बा ने हमेशा अपना पहला मैच तेलुगु टाइटन्स के खिलाफ खेला है। फाइनल कबड्डी मैच 31 अगस्त को जयपुर पिंक पैंथर्स और यू मुम्बा के बीच खेला गया था। जयपुर को 35-24 से मुम्बा ने हराया। प्रो कबड्डी लीग का दूसरा संस्करण 18 जुलाई से 23 अगस्त 2015 तक हुआ। लीग चरण और प्लेऑफ मैचों की संरचना पिछले सीजन के समान थी। कबड्डी फाइनल एक बार फिर यू मुम्बा और बेंगलुरु बुल्स के बीच मुंबई में खेला गया था। यू मुम्बा ने बेंगलुरु बुल्स को 36-30 से हराया। तेलुगू टाइटन्स तीसरे स्थान पर रही। कबड्डी टूर्नामेंट का तीसरा संस्करण 30 जनवरी, 2016 से लेकर 5 मार्च 2016 तक आयोजित किया गया था। पटना पाइरेट्स ने कबड्डी फाइनल में यू मुम्बा को 31-28 के साथ दिल्ली में हराया और पूनेरी पलटन ने तीसरा स्थान पाया था। चौथा सीजन 25 जून से 31 जुलाई तक आयोजित किया गया। पटना पाइरेट्स ने एक बार हैदराबाद में फिर जयपुर पिंक पैंथर्स को हराया। यह एक ऐसा सीजन था जिसमें महिला कबड्डी चैलेंज (डब्ल्यूकेसी) नामक एक पेशेवर महिला कबड्डी लीग का शुभारंभ हुआ था। इसमें तीन टीमें थीं- आइसी दीवाज, स्टार्म क्वींस, और फायर वर्ड। इस टूर्नामेंट का फाइनल हैदराबाद में पुरुषों के फाइनल के साथ आयोजित किया गया और स्टॉर्म क्वींस ने फायर बर्ड को हरा दिया था।