Home / / आप का संकटकालः दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप

आप का संकटकालः दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप

May 9, 2017


Please login to rate

AAP-hindi

दिल्ली में कांग्रेस के चीफ अजय माकन ने, दिल्ली के (मुख्यमंत्री) अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी (एएपी) के मुखिया, को अपने पद से हटने के लिए कहा है। हाल ही में दिल्ली के जल मंत्री के पद से बर्खास्त किए गए, कपिल मिश्रा द्वारा केजरीवाल के समक्ष भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद यह सामने आया है। माकन का कहना है कि अब पार्टी भ्रष्टाचार विरोधी छवि पर नहीं देखी जा सकती, क्योंकि अब यह घोटाले सबके सामने आ चुके है। माकन ने यह भी कहा है कि मिश्रा द्वारा आप के मुखिया के खिलाफ लगाए गए आरोपों का स्वरूप गंभीर है। उन्होंने आरोपों पर ध्यान देने के लिए भारत के केंद्रीय जाँच ब्यूरो (सीबीआई) और भ्रष्टाचार ब्यूरो (एसीबी) से भी पूछा है।

नैतिक अधिकार की कमी

जहाँ तक माकन का संबंध है, दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल में अभी भी नैतिक अधिकार का अभाव है। आम आदमी पार्टी के लिए विधानसभा के एक सदस्य (विधायक), मिश्रा ने अपने आरोपों को आगे बढाया, अगले ही दिन उन्हें वर्तमान पद से बर्खास्त कर दिया गया था। उन्होंने राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के खिलाफ भी इसी तरह के आरोप लगाए हैं। मिश्रा ने कहा है कि उन्होंने अपने सामने केजरीवाल के आधिकारिक आवास पर, जैन द्वारा केजरीवाल को दो करोड़ रूपए देते हुए देखा है।

मिश्रा क्या कर रहे है ?

पिछले दिनों, मिश्रा ने नई दिल्ली में एसीबी कार्यालय का दौरा किया है और पानी के टैंक घोटाला मामले में केजरीवाल द्वारा किए गए अपराधों के बारे में अधिक प्रमाण प्रस्तुत किए हैं, जिसमें पानी के टैंक के 400 करोड़ रूपये घोटाले के मामले ने  वित्तीय क्षेत्र में नकारात्मक प्रभाव डाला था। यह भी माना जाता है कि उन्होंने विशेषकर जैन और केजरीवाल के बीच रिश्वतखोरी के संबंध के बारे में सीबीआई से शिकायत दर्ज कर दी है। उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा है कि इस मामले में, मै गवाह के रूप में यह आशा करता हूँ, कि भ्रष्ट नेताओं को जेल में भेज दिया जाएगा।

 लाई डिटेक्टर परीक्षण

वास्तव में, मिश्रा ने सीबीआई से अपना, केजरीवाल और जैन का, लाई डिटेक्टर टेस्ट करने के लिए भी कहा है। मिश्रा कहते हैं कि उन्होंने एसीबी को सूचित किया है कि पानी के टैंक के घोटाले में सार्वजनिक धन कैसे बर्बाद किया गया, कैसे केजरीवाल ने जाँच स्थगित कर दी और शीला दीक्षित को बचाने के लिए प्रयास कैसे किए गए। मिश्रा ने यह भी कहा है कि वह जल्द ही इस संबंध में कुछ और घोषणाएं करेंगे। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि यह आरोप एक मजाक हैं, लेकिन मिश्रा ने इसे स्पष्ट कर दिया है।

केजरीवाल क्या कर रहे हैं ?

कपिल मिश्रा को बर्खास्त करने के बाद, दिल्ली सरकार कुछ नए चेहरे लाई है। इनमें सेमपुरी के एक विधायक पलाल गौतम और नजफगढ़ के सांसद कैलाश गहलोत शामिल हैं। संयोग से उन्हें हटाये जाने के पहले मिश्रा, कुमार विश्वास के पक्षधर थे, एक वरिष्ठ नेता जो स्वयं पार्टी के अन्य लोगों के साथ इस जंग में अकेले थे। वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, केजरीवाल ने बैठक की अध्यक्षता की, जहाँ मिश्रा को हटाने का निर्णय लिया गया। मिश्रा ने यह भी कहा है कि कोई भी इस फैसले के बारे में नहीं जानता और उन्हें पता है कि केजरीवाल ने सभी अन्य सदस्यों के पक्ष में यह निर्णय लिया था।