Home / Cities / भारत में रहने के लिए अत्यधिक खराब शहर कौन सा है?

भारत में रहने के लिए अत्यधिक खराब शहर कौन सा है?

December 29, 2017


Please login to rate

भारत में रहने वाला अत्यधिक खराब शहर कौन सा है?

भारत में रहने (आबादी) वाले सिर्फ एक शहर को सबसे खराब शहर के रूप में परिभाषित करना उचित नहीं होगा। कुछ का प्रदर्शन एक मामले में अच्छा है तो अन्य मामलों में खराब है। भारत की राजधानी को ही देखें। हर साल दिल्ली पूरे भारत से सैकडों हजारों लोगों का स्वागत करती है क्योंकि बुनियादी ढांचे और रोजगार के अवसर यहाँ पर अधिक हैं। दूसरी ओर अपराध और बलात्कार की सूची में दिल्ली शीर्ष पर है। वहीं दूसरे शहरों के लिये भी यह बात सच हो जाती है। लेकिन हर शहर में एक चीज आम है वह है क्लॉस्ट्रोफोबिक (भीड़ का डर) की भावना। इससे बढ़कर दूसरे शहरों में, जीवन की गुणवत्ता, नागरिक कानून, नीतियों और संसाधनों की कमी है। अपराध की दरों को कम करने, कानून और व्यवस्था, नागरिक भावना, अवसंरचना, मनोरंजक सुविधाएं, बुनियादी सुविधाएं, संस्थान, जीवन की गुणवत्ता और जिम्मेदारी आदि कारकों पर इन शहरों का प्रदर्शन खराब है। ईटी-जनाग्रा नामक एक अध्ययन में 11 शहरों के निवासियों का बुनियादी ढांचे, शहरी नियोजन और विकास सहित 21 मापदंडों पर मूल्यांकन के लिये साक्षात्कार लिया गया। अधिकांश भारतीय शहरों ने लंदन और न्यूयॉर्क के वैश्विक मानक 9.6 और 9.3 की तुलना में क्रमशः 10 में से 2.5 से 4.0 के औसत के बीच स्कोर बनाया। यहाँ पर हम उच्च तकनीकि और वैश्विक शहरों को बनाने के बारे में बात करते हैं लेकिन सच यह है कि हम इसके करीब भी नहीं हैं। हमें कई मुद्दों जैसे वैश्विक स्तर पर जीवन की गुणवत्ता में सुधार और शहर व देश के समग्र विकास के लिये कड़ी मेहनत करनी है। भारत में रहने वाला कौन सा शहर है अत्यधिक खराब?

भारत में रहने के लिए सबसे खराब शहरों की सूची

कानपुर- यह उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा और भारत का 10 वीं सबसे घनी आबादी वाला शहर है। औद्योगिक केन्द्रों, प्रदूषण भीड़ और यातायात के कारण इसे भारत में रहने के लिए सबसे खराब शहर माना जाता है। शहर में शहरी नियोजन, सुरक्षा की कमी और बहुत भीड़ है।

दिल्ली पिछले कुछ सालों से महिला सुरक्षा दिल्ली में एक बड़ी चिंता बन गई है। भारत की राजधानी सुरक्षा के मामले में कम रैंक पर है। दिल्ली को बेंगलुरु और कानपुर के साथ भारत में सबसे गंदे शहरों में से एक माना जाता है। सड़कों पर वाहनों की संख्या में बढ़ोतरी के कारण यातायात के मामले में दिल्ली बहुत अव्यवस्थित हो रही है।

मुंबई – यातायात की बुरी व्यवस्था, जीवन का मूल्य और बढ़ती मलिन बस्तियों के मामले में मुंबई की हालत खराब है। चोरी आदि भी मुंबई में आम है। भारत की वित्तीय राजधानी में रेलगाड़ियों में हमेशा भीड़ रहती है।

चेन्नई – चेन्नई को अपने गरम और नम मौसम के लिए भारत में रहने के लिए सबसे खराब शहरों की सूची में रखा गया है। इसके अलावा शहर में जल निकासी और पानी की समस्याएं हैं। यहाँ पर बरसात के दौरान जल भराव की समस्या हो जाती है।

बेंगलुरु – आईटी हब ज्यादातर कारकों पर अच्छा है लेकिन इसे भारत के विभिन्न हिस्सों से लोगों को समायोजित करने में खराब माना जाता है। इसके अलावा शहर में भीड़ है और ट्रैफिक में वृद्धि हो रही है। बेंगलुरू में बहुत ही पतली सड़कें हैं।

कोलकाता – सिटी ऑफ जॉय अपने व्यावसायिक सिनेमाघरों, साहित्यिक और कलात्मक विरासत के लिए जाना जाता है। यहाँ अत्यधिक प्रदूषण है। आधुनिक बुनियादी ढांचे और नौकरी के अवसरों जैसी सुविधाएं भी कम हैं।

आप एक ऐसे शहर की यात्रा कर सकते हैं जिसे आपको लगता है कि रहना अच्छा नहीं है। हमारे साथ अपने विचारों को शेयर करें।