Home / / डैडी मूवी रिव्यू – रामपाल एक अलग प्रकार का ब्लांड क्राइम ड्रामा करते हुए नजर आ रहे है।

डैडी मूवी रिव्यू – रामपाल एक अलग प्रकार का ब्लांड क्राइम ड्रामा करते हुए नजर आ रहे है।

September 9, 2017


Please login to rate

डैडी मूवी रिव्यू

कलाकार- अर्जुन रामपाल, ऐश्वर्या राजेश, निशीकांत कामत, फरहान अख्तर, आनंद इंगल, राजेश श्रंगारपुरे

डाइरेक्टर – आशिम अहलूवालिया

निर्माता – अर्जुन रामपाल, रुतुविज पटेल

लिखित – आशिम अहलूवालिया, अर्जुन रामपाल

डॉयलाग – रितेश शाह

संगीत – साजिद अली, वाजिद अली

छायांकन – जेसिका ली गैग्ने, पंकज कुमार

संपादन – दीपा भाटिया, नवनीत सेन दत्ता

वितरित – रक्षा एंटरटेनमेंट

अवधि – 2 घंटे 14 मिनट

सेंसर रेटिंग –

शैली – अपराध, नाटक, जीवनी

कथानक

फिल्म की कहानी दगड़ी चॉल में रहने वाले एक शर्मीले लड़के अरूण गवली का बीआरए (बाबू-राम-अरूण) गैंग के गैगेंस्टर सदस्य बनने तक की एक असफल राजनेता के रूप में एक नई घटना नहीं है। डैडी का कथानक इससे पहले आई कई फिल्मों में दर्शाया जा चुका है, जिससे सभी लोग अच्छी तरह से परिचित है। एक गरीब परिवार के मील में काम करने वाले मजदूर का बेटा अपराधिक दुनिया में शामिल हो जाता है। अरूण गुलाब गवली का अंडरवर्ल्ड में शामिल अचानक हुए थे और जिसके लिए उन्होंने प्रयास भी नहीं किया था। उनकी दोस्त मंडली बाबू (आनंद इंगले) व राम (राजेश श्रंगारपुरे) और डॉन मकसूद (फरहान अख्तर) का सरंक्षण, उसे अपराध जगत में आगे ले जाते हैं। इस रक्तपात और हिंसा के कथानक में गवली की प्रेम कहानी भी दर्शायी गई है, जिसमें जुबैदा (ऐश्वर्या राजेश) ने पत्नी का रोल निभाया है।

पुलिस नियमित रूप से अंडरवर्ल्ड का सफाया करने लगती है, तो उनका प्रतिद्वंद्वी मकसूद उनका संरक्षक बन जाता है। यहाँ तक ​​कि जब यह बताया जाता है कि राम और बाबू दोनों मारे गए, तब अरुण अपनी गैंग के नेता के रूप में उभरकर समाने आता है और दगड़ी का एक मजबूत सरंक्षक बन जाता है। टाडा अदालत से इनको सजा होने के बाद, मकसूद फ्लाइट से दुबई जाने और गवली सुरक्षित रूप से जेल जाने का विकल्प चुनता है। जेल की सलाखों के पीछे से गैंग पर नियंत्रण रखने के एक दशक के बाद, गवली राजनीति में कदम रखने का फैसला करता है लेकिन उस सम्मान को प्राप्त करने में वह विफल रहता है, जिसे उसे पाने की उम्मीद होती है। अंततः वह अपने अपराधों के कारण पकड़ा जाता है और एक लम्बी सजा के लिए उसे जेल भेज दिया जाता है।

अभिनय   

फिल्म में अभिनय की बात की बाए, तो गैंगस्टर अरुण गवली की कहानी कोई भी आश्चर्य और उम्मीद को नहीं दर्शाती है। किसी भी फिल्म की मजबूत कथानक दर्शकों को सिनेमाघर तक आने के लिए मजबूर कर देती है लेकिन इस फिल्म की कहानी किसी भी नवीनता या रोमांच की पेशकश करने में विफल रही है। यह डैडी फिल्म की सबसे बड़ी कमी है।

जबकि अर्जुन रामपाल – मुख्य भूमिका में है, जिन्होंने अनिच्छुक गैंगस्टर के रूप में शानदार प्रदर्शन किया है, न तो संवाद और न ही अक्षरों के बीच बातचीत में कर्षण लाए है। गवली का चरित्र फिल्म में न ही दयालु गॉडफादर की तरह है और न ही क्रूर चतुर की तरह दिखाई देता हैं, जो कि मुम्बई के संदेहपूर्ण गलियों के अस्तित्व में तब्दील हो जाता है। गवली ने मुबंई के रॉबिन हुड के रूप में प्रतिष्ठा अर्जित की है लेकिन फिल्म में उनके चरित्र को बखूबी से उतारने में असफल रहे है। कहानी का अधिकांश हिस्सा सेपिया टोन में फ्लैश बैक के जरिए फिल्माया गया है, जो उत्तेजना के किसी तत्व को पेश करने में विफल रही हैं।

श्री अहलूवालिया अपनी प्रसिद्धि के बावजूद भी डैडी फिल्म को सफल नहीं बना पाए है, यह न तो फिल्म प्रेमी पर एक स्थायी छाप छोड़ पाई और न ही बॉक्स ऑफिस पर अच्छी कमाई कर पाई है।

गवली – जुबैदा की प्रेम कहानी भी नीरसतापूर्ण चलती है, जो लालसा के साथ एक उबाऊ संबंध में बदल जाती है, जबकि इस तरह के कथानक को मणिरत्नम 1989 में नायकन फिल्म के जरीये व्यवस्थित करने में सफल रहे थे। फिल्म में फरहान के चरित्र को भी डरावने ढंग से नहीं दर्शाया गया है, उन्हें एक विवादस्पद प्रतिद्वंद्वी के रूप में दिखाया गया है।

अगर कुछ ऐसा है जो डैडी फिल्म को देखने के योग्य बनाता है, तो वह कैमरे का इस्तेमाल है, जिसने फिल्म को चित्ताकर्षक बनाया है। फिल्म को चलाने और दर्शकों को जागृत रखने में जेसिका ली गैग्ने ने अपना थोड़ा सा योगदान दिया है।

अब आइए हम डैडी फिल्म को बनाने में दो पुरुषों – निर्देशक, आशिम अहलूवालिया और निर्माता / लेखक / अभिनेता – अर्जुन रामपाल पर नजर डालते है। एक कारण है कि हर फिल्म में एक निर्देशक होता है। एक फिल्म को सफल बनाने में एक अच्छी तरह से लिखी गई कथानक और संगीत की आवश्यकता होती है। रामपाल ने अपने दिल और आत्मा को गवली के चरित्र में उतरने के लिए लगाया, अगर एक बेहतरीन कहानी लिखने में लगाया होता, तो एक बेहतर निर्देशक के हाथ में बॉक्स ऑफिस पर एक सफल फिल्म हो सकती थी, हमें डर है कि उनकी असफलताओं में डैडी को केवल गिना जाएगा।

साजिद अली और वाजिद अली का संगीत सबसे अच्छा लेकिन औसत दर्जे का है। फिल्म को देखने योग्य बनाने के कारण इसकी कथानक एकदम सटीक है, जिसमे मुंबई का हल्के ढंग से दिलचस्प चित्रण किया गया है और पिछले कुछ वर्षों में समाज में बदलाव भी देखने को मिला है।

हमारा फैसला

डैडी फिल्म बहुत अच्छी साबित हो सकती थी। चूँकि जो युवा वयस्कों वाले परिवार हैं, वह अपने बच्चों को हिंसात्मक सामग्री के कारण “ए” रेट दिए जाने वाली फिल्मों से दूर रखना चाहते हैं। जो लोग नाटक, प्यार वाली फिल्में देखना पसंद करते है, वो लोग इस तरह की फिल्म से दूर रहते है। इस फिल्म को इस सप्ताह रिलीज हुई पोस्टर बॉयज़, कबड्डी और रैली से मुकाबला करना होगा, हम यकीन से नहीं कह सकते है कि डैडी फिल्म प्रोड्यूसरों के लिए अच्छी साबित होगी या बुरी।