Home / / दिल्ली एनसीआर में सबसे ज्यादा स्टार्टअप्स

दिल्ली एनसीआर में सबसे ज्यादा स्टार्टअप्स

August 10, 2017


Please login to rate

Delhi-NCR_hindiबेंगलुरु को भारत का तकनीकि केन्द्र कहा जा सकता है लेकिन दिल्ली-एनसीआर (नेशनल कैपिटल रीजन) में फिलहाल स्टार्टअप्स की संख्या सबसे ज्यादा – 8772 है। ट्रैक्सन टेक्नोलॉजीस द्वारा लगाए गए आँकड़ों में इस बात का खुलासा हुआ है। 6818 स्टार्टअप्स के साथ बेंगलुरू इसके अगले पायदान पर रहा। इस प्रकार 4825 उद्यमों के साथ मुंबई इसके बाद रहा। हैदराबाद में 2913 और इसके बाद पुणे में 1843 स्टार्टअप्स प्रचलित हैं। दिल्ली-एनसीआर में स्थित 449 स्टार्टअप्स को फिनटेक (फाइनेंस एंड टेक्नोलॉजी) की श्रेणी में वर्गीकृत किया जा सकता है। हालांकि मुंबई में 467 से अधिक स्टार्टअप्स हैं। इस संबंध में 405 स्टार्टअप्स के साथ बेंगलुरू तीसरे स्थान पर रहा इसके बाद हैदराबाद में 128 और पुणे में 103 स्टार्टअप्स हैं।

ऑनलाइन रिटेल स्टार्टअप्स से इसकी स्थिति

दिल्ली एनसीआर में सबसे ज्यादा ऑनलाइन रिटेल स्टार्टअप्स हैं, यहाँ पर इनकी संख्या 1288 है। इस क्षेत्र में स्थित सबसे बड़ी कंपनियों में स्नैपडील, पेटीएम मॉल, लाइमरोड और शॉपक्लूएस शामिल हैं। मुंबई में ऑनलाइन रिटेल स्टार्टअप्स के क्षेत्र में 645 स्टार्टअप्स चल रहे हैं। इसी लाइन में 541 स्टार्टअप्स के साथ बेंगलुरू अगले स्थान पर है। हैदराबाद में 127 ऑनलाइन रिटेल स्टार्टअप्स हैं। यहाँ तक कि विश्लेषकों का मानना है कि युवा उद्यमियों की बढ़ती संख्या इस पारंपरिक व्ययवसाय से दूर हो रही है, यहाँ युवा उद्यमी अपने निजी व्यवसाय शुरू कर रहे हैं। विशेष रूप से दिल्ली-एनसीआर के क्षेत्र में यह प्रवृत्ति अधिक देखी जा रही है।

बेंगलुरु में स्टार्ट अप

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु शहर में अधिकांश स्टार्टअप्स पहले से ही प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं, कई मालिकों ने स्वयं भी प्रौद्योगिकी पेशेवर व्यक्ति के रूप में कार्य किया हैं। दिल्ली एनसीआर के बारे में बात की जाए तो यहाँ के कई उद्यमी व्यवसायिक परिवारों से संबंध रखते हैं। यहाँ पर उद्यमी सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) के अलावा और भी कई प्रकार की कंपनियों को स्थापित कर रहे हैं। केपीएमजी, स्टार्ट-अप और ई कॉमर्स के नेतृत्वकर्ता श्रीधर प्रसाद के अनुसार, इस प्रकार के विकास से पता चलता है कि केवल प्रौद्योगिकी ही ऐसा क्षेत्र नहीं है जहाँ उद्यमिता हो रही है।

इसका विस्तार

प्रसाद का कहना है कि इस समय उद्यमियों की नजर कई अन्य क्षेत्रों जैसे वित्तीय सेवाओं, उपभोक्ता सेवाओं और पारिस्थिकी तंत्र से संबंधित सेवाओं पर है। एक तथ्य यह भी है कि इस क्षेत्र में कई स्टार्टअप चल रहे हैं इसका मतलब है कि दिल्ली-एनसीआर को उद्यम पूँजी कोष (वेंचर कैपिटल फंड) द्वारा किये गये निवेश का एक बड़ा हिस्सा मिल रहा है। एक इक्विटी फर्म जेफरीज द्वारा हाल ही में पेश की गई रिपोर्ट में बताया गया कि जून तक छह महीनों की अवधि में दिल्ली-एनसीआर में कुल 4 बिलियन डालर से अधिक का निवेश हुआ है। इसी अवधि में 2016 में केवल 1.6 बिलियन डालर का निवेश किया गया था।

निवेश का प्रसार

2016 में निवेश के अलग-अलग शेयरों को प्राप्त करने वाले कई फर्म (व्यवसाय) थे, इस प्रकार यह स्पष्ट है कि इसका सही से प्रसार हुआ है। हालांकि, साल 2017 के तीन महीनों अप्रैल, मई और जून में ओयो और पेटीएम के पूरे निवेश में 70 प्रतिशत की भागीदारी रही है। फिनटेक एक ऐसा प्रमुख क्षेत्र है जिसने निवेशकों से काफी समर्थन प्राप्त किया है। यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसने दिल्ली-एनसीआर आने वाले अधिकतर निवेशकों को पनाह दी है। आँकड़े लगाए जा रहे हैं कि कुल निवेश की राशि के 33.33 प्रतिशत हिस्से पर इसका कब्जा रहा है। ई-टेलिंग भी इसी प्रकार का एक क्षेत्र है जिसने समान निवेश प्राप्त किया है।