Home / / दिल्ली का लाल किला

दिल्ली का लाल किला

May 25, 2017


Please login to rate
red-fort-new-delhi-665x393

दिल्ली का लाल किला एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है दिल्ली में

दिल्ली का लाल किला राजधानी शहर में ‘सर्वश्रेष्ठ’ और ‘दर्शनीय’ स्थानों में गिना जाता है। निःसंदेह, इस शानदार भवन से जुड़े इतिहास ने मुगलों की राजसी सत्ता का उदाहरण दिया है और ब्रिटिशों के खिलाफ संघर्ष को सम्मानित किया है। लाल बलुआ पत्थर से बना यह किला 250 एकड़ में फैला हुआ है। इसकी वास्तुकला बहुत उच्च है, यह खास कर भारतीय, यूरोपीय और फ़ारसी वास्तुकला के मिश्रण से बनाया गया है।

स्थान नेता जी सुभाष मार्ग, चाँदनी चौक, नई दिल्ली

निकटतम मेट्रो स्टेशन चाँदनी चौक

समय : सूर्योदय से सूर्यास्त तक

बंद  सोमवार

प्रवेश शुल्क : भारतीय-10 रुपये, विदेशी- 250 रुपये,

फोटोग्राफी : निःशुल्क

वीडियो फिल्मिंग : 25 रुपये

प्रमुख आकर्षण :

  • लाहौरगेट :  यह लाल किले का मुख्य प्रवेश द्वार है।
  • छट्टा चौक: यह एक ढकी हुई बाजार है इसमें आप हस्तशिल्प और स्मृति चिन्ह खरीद कर सकते हैं।
  • दीवानआम: सार्वजनिक दर्शकों के लिए बडा प्रांगण हॉल, जो सुंदर पैनलों से सजाया गया है।
  • दीवानखास: यह बड़े खंभों वाला हॉल निजी प्रेक्षकों का स्थान (हॉल) है।
  • मोती मस्जिद: तराशे हुए सफेद संगमरमर से निर्मित यह एक छोटी सी  मस्जिद है।
  • हयात बख्श बाग यालाइफ-बेस्टोविंग गार्डन :इस जगह पर कई प्रकार के फव्वारे, मंडप, तालाब, फूलों और पेड़ों की एक बड़ी विविधता का समावेश है।
  • हम्माम या रॉयल स्नान :इस स्थान को पूरी तरह से संगमरमर से बनाया गया है।
  • ज़ेनाना: इन मंडपो को महिला आवास के रूप में निर्माण किया गया है।
  • रंगमहल या रंगों का पैलेस: इस महल को शीशे की कारीगरी से बनाया गया है और इसकी छत को सोने व चाँदी से सजाया गया है।
  • लाइट और साउंड शो: यह शो शाम 6 बजे से शुरू होता है और अंग्रेजी, हिंदी दोनों भाषाओं में मुगल इतिहास के मुख्य आकर्षण को प्रदर्शित करता है। आपको इस शो को देखने के लिए अतिरिक्त टिकट खरीदने होंगे। टिकट की कीमत वयस्कों के लिए- 80 रुपये और बच्चों के लिए- 30 रुपये है।

त्वरित सुझाव:

  • अपने साथ केवल पानी ले जाएं, बाहरी खाने को अंदर ले जाने की अनुमति नहीं है।
  • जेबकतरों और दलालों से सावधान रहें।
  • लाइट और साउंड शो में उपस्थित रहें यह वास्तव में दिलचस्प है।
  • छट्टा चौक में खरीदारी करने पर आपको मँहगाई की मार झेलनी पड़ सकती है।

एक बार जब आप स्मारक की खोज के बाद स्वतंत्र हो जाते हैं, तो आप खरीदारी कर सकते हैं या चाँदनी चौक बाजार में परांठे वाली गली में परांठे खाने की कोशिश कर सकते हैं। आप उन्हें पसंद करेंगे!