Home / / आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए, क्या करें और क्या न करें?

आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए, क्या करें और क्या न करें?

August 1, 2017


Please login to rate

Income-Tax-Returns-Filing-hindiआयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करने की अंतिम समय सीमा आज की तय है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड द्वारा आयकर दाखिल करने की अंतिम तिथि नहीं बढ़ाई जाएगी। व्यक्तिगत आय पर लगाए गए प्रत्यक्ष कर को आयकर कहते हैं। सरकार द्वारा आय खण्ड (स्लैब) के अनुसार टैक्स तय किया जाता है। वार्षिक बजट में संशोधन द्वारा आय खण्ड (स्लैब) निर्धारित किया जाता है।

हालाँकि संशोधन के अनुसार, 2.5 लाख से 5 लाख रूपये प्रति वर्ष की आय वाले लोगों की आय पर 5% कर का भुगतान देना होगा, जो इससे पहले 10% था।  3.5 लाख रुपये तक की आय वाले व्‍यक्तियों के लिए कर देनदारी 5,000 रुपये के मुकाबले मात्र 2,500 रुपये होगी। 50 लाख से 1 करोड़ रुपये के बीच की वार्षिक आय वाले नागरिक कर पर 10% अधिभार का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी हैं, जबकि 1 करोड़ से अधिक की वार्षिक आय वाले लोगों के लिए 15% अधिभार देय होगा। यदि भारत के किसी नागरिक की कर योग्य आय 5 लाख रुपये से ऊपर है, तो उसे केवल आयकर वापसी के रूप में एक पृष्ठ प्रपत्र भरना होगा।

आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए महत्वपूर्ण रूपों और दस्तावेजों के बारे में जानना आवश्यक है। भारत सरकार ने करदाताओं के लिए 1 जुलाई से अपने आधार नंबर को अपने स्थायी खाता नंबर (पैन) के साथ जोड़ना अनिवार्य कर दिया है। आई-टी विभाग के अनुसार, जिन नागरिकों की कुल सकल आय कर योग्य सीमा से अधिक है, उन्हें आयकर रिटर्न दाखिल करना होगा।

आईटीआर फाइल करने के लिए आपका आरंभिक कदम, अपने सभी दस्तावेजों को इकट्ठा करें और आयकर वेबसाइट <www.incometaxfiling.gov.in> पर एक ई-फिलिंग खाता बनाएं। यदि आप अपना खाता पहली बार बना रहे हैं, तो आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक एक्टिवेशन लिंक और एक ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) भेज दिया जाएगा। विभिन्न वर्गों के लिए तीन अलग-अलग प्रकार के आयकर रिटर्न फॉर्म होते हैं। आपको उस फॉर्म का चयन करना होगा, जो आपके लिए उपयुक्त हो।

आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए आवश्यक सामान्य दस्तावेज निम्नलिखित हैं –

  • अपने नियोक्ता से फॉर्म 16 लें।
  • बचत बैंक खाते और फिक्स्ड डिपॉजिट पर अर्जित ब्याज के लिए ब्याज विवरण।
  • टीडीएस प्रमाणपत्र।
  • दावा करने के लिए विभिन्न कटौती (80 सी से 80 यू) का प्रमाण।
  • निवेश विवरण जैसे एलआईसी, पीपीएफ, एनएससी, एनपीएस, स्वास्थ्य बीमा।
  • दान प्राप्तियां।
  • घर के किराये की रसीद।
  • होम लोन का विवरण और ऋण प्रमाणपत्र।
  • स्वयं या किसी अन्य पर निर्भर चिकित्सा व्यय की रसीद।
  • 2 बच्चों तक की ट्यूशन शुल्क की रसीद।

फार्म 26 ए.एस. के साथ टीडीएस प्रमाण पत्र मिलाना – जो आपके नाम के तहत जमा किए गए सभी वार्षिक टैक्स क्रेडिट स्टेटमेंट को दर्शाती है।

आईटीआर फॉर्म दायर करने से पहले सभी बकाया राशि को स्पष्ट करना महत्वपूर्ण है। एक बार जब आप अपने सभी बकाए का भुगतान करते हैं, तो यह सुनिश्चित कर लें कि भुगतान किया गया टैक्स, फॉर्म को 26 ए.एस. में दर्शा रहा है या नहीं। अगले महत्वपूर्ण कदम में आईटीआर फॉर्म को आपके अनुकूल होना आवश्यक है। पिछले साल 2016-17 में आपके द्वारा अर्जित सभी ब्याज आय की सूचना देना महत्वपूर्ण है। पीपीएफ खाते या कर मुक्त बांड से आपको अपनी अर्जित आय के हितों की तरह कर छूट की सूचना देनी होगी। अगले कदम में आपको आईटीआर सत्यापित करना पड़ेगा। देश के विकास में योगदान देने के लिए नियत तारीख पर आईटीआर फाइल करना अत्यंत महत्वपूर्ण है।